Home / गुरु घण्टाल / योग की अदायें- 2

योग की अदायें- 2

 Yog Ki Adaye Part-2

लेखक : ज़ो हन्टर

आभा अब बेशर्मी से मुझसे लगभग रोज ही चुदाने लगी। उसे देख कर तो मुझे ऐसा लगने लगा कि उसे चुदाई की बेहद आवश्यकता थी। चुदाते समय मुझे लगता था कि वो जन्मों की प्यासी है। उसका व्यवहार अब मेरे प्रति और भी आसक्ति भरा हो गया था। मुझे जब भी देखती तो इतराने और इठलाने लगती थी। पर नुकसान यह हुआ कि वो मुझे अपने पति की तरह व्यवहार करने लग गई थी। मुझे किसी भी लड़की से बात नहीं करने देती थी, शक्की भी बहुत हो गई थी।

एक बार सवेरे जब मैं आभा को योग करवा रहा था तब एक अत्यन्त सुन्दर युवती के दर्शन हुये। मेरा ऊपर का शरीर नंगा था। एकबारगी तो वो मुझे देखती रह गई। मैं उसके इस तरह देखने से झेंप सा गया। आभा ने अपने टाईट पजामे को व्यवस्थित किया और मेरे से परिचय कराया। मैंने अपना हाथ मिलाने के लिये आगे बढ़ाया तो आभा ने तुरंत झटक दिया।

उसका नाम मिनी था, नाम की ही तरह उसके कपड़े भी छोटे ही थे। उसका रूप लावण्य जैसे छलका पड़ रहा था। उसकी खूबसूरत सी गोलाईयां जैसे मुझे ही दिखाने के लिये बाहर निकली हुई थी। शरीर की चिकनी सी लुनाई चमक पैदा कर रही थी। मिनी योग सीखने के लिये आई थी। आभा ने उसे अपना ही समय दे दिया कि वे दोनों साथ साथ ही योग करेंगी, शायद इसके पीछे मिनी पर नजर रखना था। उसे मैंने ड्रेस आदि के बारे बता दिया।

“ये मरी राण्ड, अब मुझे तकलीफ़ देगी… अभी तक तो मस्ती से चुदाई करते थे, और अब हाय रे… जो… इस कमीनी से मेरा पीछा छुड़ाओ ना… ” वह बड़बड़ाने लगती थी।

उसके दिल की तड़प मुझे नजर आ रही थी। मैंने आभा को सुझाया कि उसके पति जब काम पर चले जाये तब अपन नीचे कमरे में मस्ती करेंगे। उसे ये सुझाव पसन्द आया।

दूसरे दिन से मिनी भी आने लग गई। वो योग भी बला की खूबसूरती से करती थी जैसे वो पहले से ही इसमें अभ्यस्त हो। कुछ दिनों में वह समझ गई थी कि आभा और मेरे चुदाई के सम्बंध हैं और आभा उसे मुझसे नहीं मिलने देगी।

एक दिन मिनी ने चुपके से एक कागज मेरे हाथ में थमा दिया। मैंने जल्दी से उसे छिपा लिया कि कहीं आभा ना देख ले। उसने शाम को मुझे चाय पर बुलाया था, नीचे उसका पता लिखा था।

मैं शाम को अपनी मोटर साईकल कर वहां पहुंचा तो उसका बंगला देख कर हैरान रह गया। वो एक मशहूर बिल्डर का मकान था। बाहर एक सुरक्षा गार्ड था। उसे मैंने पता बताया तो उसने अपने मोबाईल से अन्दर मिनी को फोन किया। मुझे तुरंत अन्दर बुलाया गया। मिनी उस समय केजुअल ड्रेस में थी। एक हल्का सा काप्री और झीना सा टॉप पहना था। जो मुझे उत्तेजित करने के लिये बहुत था।

उसने मेरी आवभगत की। कुछ देर बातचीत करने के बाद वो मुझे अपने कमरे में ले गई।

अचानक मेरी नजर उसकी काप्री पर चूत के स्थान पर पड़ गई, जहां एक गीला धब्बा उभर आया था। मुझे लगा कि वह अभी हीट में है। तभी मुझे उसने मुझे एक सीधा झटका दिया।

“ये पढ़ो… ” उसने पहले से लिखा हुआ एक कागज मुझे दिया। मैंने उसे पढ़ा और बुरी तरह से चौंक गया। उसमें मिनी ने बड़े साफ़ शब्दों में बिना किसी शर्म के लिखा था, “प्लीज फ़क माई पूसी”

मैं नोर्मल होता हुआ बोला,”क्या अभी… ?”

“आप अगर चाहें तो… ” उसने बड़ी बेशर्मी से मेरे जिस्म को निहारा।

“जैसी आपकी इच्छा… “

“जो… थेंक्स … देखो प्यार से चोदना… जैसे मैं चाहूं वैसा ही करना… मैं इसकी कीमत दूंगी… “

“जी… उसकी कोई जरूरत नहीं है… आप जैसे परी मेरे भाग्य में आई, यही बहुत है।”

वह मेरे पास आ गई और मेरी जीन्स के ऊपर से मेरा लण्ड सहलाया और दबा दिया। मैंने अपनी आंखे बंद कर ली। उसने लण्ड दबाते हुये वासना भरी एक सिसकी ली।

“आभा को कैसे चोदते हो… ?” उसकी मुख से जैसे वासना भरी महक निकली। मैं चौंक गया। … तो इसे सब मालूम है।

“जी, कभी तो खड़े खड़े… कभी उसे घोड़ी बना कर… फिर उसे गाण्ड चुदाने का बहुत शौक है… और आप अपने दोस्तों से कैसे चुदती हो?”

“मेरे बहुत से दोस्त हैं … मुझे नये लण्ड बहुत भाते हैं … आह मेरे जो… आओ किस करें … फिर मेरी चूचियों का नम्बर लगाना… ” वो एक वासना की मारी जबरदस्त सेक्सी लड़की थी। उसके कहने का अन्दाज सीधा था कि चोदो और रास्ता लो… ।

इससे अच्छी तो आभा ही है ! मिनी जैसी खूबसूरत बला को चोदने के लिये मन का शैतान जाग उठा। यानी अपनी मस्ती लो और उसे रगड़ कर चोदो और चल दो… उस पर दया करने की जरूरत नहीं है… मैंने उसके नरम गद्दे पर उसके साथ ही छलांग लगा दी। मैंने बिना कुछ सोचे समझे उसके सबसे प्यारे अंग जो मुझे अच्छे लगते थे… उसे एक एक करके दबाना और मसलना चालू कर दिया। उसका टॉप उतार कर एक तरफ़ फ़ेंक दिया। उसके कोमल, गोरे पर वासना से भरपूर स्तन कठोर हो चुके थे। मैं उसे अपने मुख में लेकर काटने और चूसने लगा। मेरा दूसरा हाथ उसकी चूत पर जम गया। पर अप्रत्याशित रूप से मेरे जंगलीपने में उसे आनन्द आ रहा था। मैं उसके होंठों को भी चूसने और काटने लगा।

कुछ देर में मेरे पूरे कपड़े उतर चुके थे। मिनी भी नंगी हो चुकी थी। मैंने अपना मोटा लण्ड उसके मुख में घुसेड़ दिया। तभी मुझे लगा कि दरवाजे पर से कोई हमें देख रहा है।

मैंने अपना ध्यान फिर से मिनी की ओर केन्द्रित किया और वहशीपने से उसे नोचने खसोटने लगा,”मेरी मिनी, तेरी चूत मारूं … भोसडी की… चूस मेरा लौड़ा… “

मेरी गालियाँ सुन कर वो और उत्तेजित हो गई।

“मिनी जी… आज तो आपका भोसड़ा चोद कर कीमा बना दूंगा !” मिनी जाने क्यूं मेरी गालियां सुन कर और भड़क रही थी।

“क्या कहा मेरे राजा… भोसड़ा… आह ले … मेरा भोसड़ा ले ले… ” उसने मेरा लण्ड मुख में दबा कर चूसना चालू कर दिया। मैं घूम कर मुख नीचे करके उसका भोसड़ा चाटने लगा और तीन अंगुलियां अन्दर डाल दी। मिनी ने मुझे इशारा किया तो मैंने अपना लण्ड उसके मुँह में डाल दिया। अब हम दोनों मस्ती से एक दूसरे का लण्ड और भोसड़ा चूस रहे थे… उसकी चूत भूरी और गोरी थी, नरम भूरी झांटे, उसका फ़डकता हुआ दाना गुलाबी रंग से लाल हो गया था। चूत अन्दर से खूब पानी छोड़ रही थी। दाना चूसते ही उसकी हालत नाजुक हो जाती थी। इसी रगड़ा-रगड़ी में मिनी के मुख से आह निकली और उसके भोसड़े से रती रस निकल पड़ा। मैं अभी झड़ना नहीं चाहता था।

“मिनी, बस अब मत चूसो, मेरा निकल जायेगा… !”

“आह जो… … बस, कुछ मत बोल … तेरा लौड़ा आज तो खा जाऊंगी मैं… ” वो नहीं मानी।

तब मैंने अपना लण्ड उसके मुख में दबा दिया… शायद गले के पास तक चला गया।

तभी मेरा काम रस उबल पड़ा और वीर्य उसके मुख में निकल पड़ा। उसे मौका ही नहीं मिला और वीर्य उसके गले से उतरने लगा।

मुझे फिर दरवाजे से सिसकारी सुनाई पड़ी। उसने मुझे हटाने की कोशिश की पर तब तक मेरा सारा वीर्य उसके मुंह में खल्लास हो चुका था।

“जो साले, हारामी… ये क्या किया… “

“सॉरी मिनी… अपने आप निकल गया… “

“मेरे प्यारे कुत्ते… मजा आ गया … अब ऐसा ही करना… तूने तो सभी को पीछे निकाल दिया… “

“आह्… मैं तो समझा था कि आपको बुरा लगा… “

वह उठी और अलमारी से कुछ ड्राई फ़्रूट ले आई। ज्यूस के साथ कुछ देर तक हम नाश्ता करते रहे। तब तक हम एक दूसरे को किस करते रहे और बदन की गोलाईयों का लुफ़्त उठाते रहे। वह बार बार खड़े हो कर अपनी चूत चटवाती रही। ज्यूस समाप्त करते ही मेरा लण्ड तन कर तैयार था और मिनी की फ़ुद्दी गरम हो चुकी थी।

“जो … तेरा लण्ड तो सोलिड है… गाण्ड मरवाने लायक है… चल लग जा मेरी पिछाड़ी पर… देखना मस्त कर दूंगी… गाण्ड उछाल उछाल कर… “

“मिनी तुझे गाली बुरी तो नहीं लगी ना… तेरी मां की भोसड़ी … वगैरह?”

“राजा, चुदाई में तो गालियां चूत में पानी उतार देती है… फ़ाड दे साली बुण्ड को !”

“अह्ह ये बुण्ड क्या होता है…? “

“मेरी गाण्ड का छेद बुण्ड होता है… !” मिनी कराहते हुये बोली। वासना उस पर बहुत जल्दी सवार होती थी। अभी तो कुछ आरंभ भी नहीं किया था। पर मैंने देर करना ठीक नहीं समझा और उसके चूतड़ों से जा चिपका। वो घोड़ी बनी हुई थी। मैंने उसके चूतड़ों को थपथपाया और चूतड़ चीर कर उसकी बुण्ड पर लौड़ा रख दिया और थूक का लौन्दा उस पर टपका दिया। पर यह क्या… लण्ड सर सर सरकता हुआ ऐसे अन्दर चला गया जैसे वो गाण्ड मराने में अभ्यस्त हो। साथ ही इस बार भी मुझे दरवाजे की ओर से सिसकियां सुनाई दी। उसकी गाण्ड का छेद तो पहले से खुला हुआ था, नरम था… लगता था बहुत से लौड़े ले चुकी थी। पर लौड़ा अन्दर पूरा बैठते ही उसने गाण्ड को भींच लिया,”लगा अब झटके, मां के लौड़े… “

मैं मुस्करा उठा… मैंने लण्ड खींच कर बाहर निकाला और दम लगाकर अन्दर ठूंस दिया।

“हाय री… लग गई मुझे तो… ” मिनी तड़प उठी।

“मिनी जी भारतीय गांव का लौड़ा है… शहरी लण्ड नहीं है… देसी घी पीता है… !”

उसने अपनी गाण्ड ढीली छोड़ दी और चुदने के लिये तैयार हो गई। अब मैंने उसे पेलना आरम्भ कर दिया था। लण्ड सटासट अन्दर बाहर चल रहा था। उसकी गाण्ड का मजा मुझे आने लगा था। मैंने अपनी तीन अंगुलियां उसकी चूत में सरका दी और हौले हौले से उसे चूत में चलाने लगा। उसकी गाण्ड चुद रही थी। मिनी जोर जोर से सीत्कार भर रही थी। जोर की चीख पुकार सुन कर उसकी एक नौकरानी भाग कर आई। उसने हमें देखा और कहा, ” सॉरी बेबी… मैंने नहीं देखा…”

“साली, कुत्ती, कमीनी… भाग जा यहां से… आह चोद ना … रुक क्यों गया?”

“वो आपकी सर्वेन्ट्… “

“अरे वो तो हमेशा आ जाती है… चल चोद… !” मिनी ने सिसकारी भरते हुये कहा।

नौकरानी ने हमें मुस्कराते हुये देखा और दरवाजे के पास खड़ी हो गई और अपना घाघरा उठा कर चूत में अंगुली डाल कर मुठ मारने लगी। मैंने ध्यान से देखा तो वहां उसकी दूसरी नौकरानी भी थी। दोनों ही आहें भर भर के मुठ मार रही थी।

यहां तो खुला खाता है… बेचारी तड़पती हुई नौकरानियां… मुझे क्या … मैं अपनी चुदाई पर लग गया।

“जो राजा… मेरी चूत भी तो है ना… उसका क्या अचार डालना है… ?” मिनी ने तभी शिकायत की, शायद अब वो चूत का मजा लेना चाह्ती थी। मुझे हंसी आ गई। मैंने धीरे से अपना लण्ड उसकी गाण्ड में से निकाला और उसकी चूत में पिरो दिया।

उसकी कोमल सी चूत, चिकनी सी चूत में लण्ड अन्दर सरकता चला गया। मिनी के मुख से जोर से सीत्कार निकल पड़ी। साथ में दरवाजे से भी सिसकियों की आवाज आने लगी। मेरे धक्के अब जोर दार चलने लगे थे। अचानक उसकी दोनों नौकरानियां मेरे पास आ गई और खड़ी हो गई… और मेरे चूतड़ों को सहलाने लगी, मेरी गाण्ड में अंगुली डालने लगी। दूसरी मेरे बदन से लिपट कर मेरा शरीर चाटने लगी।

मेरी उत्तेजना चरम बिन्दु पर पहुंचने लगी।

“साली रण्डियों, भागो यहां से… ठीक से चुदने तो दो… !”

पर वो दोनों भी वासना में बह चुकी थी… अनसुना करते हुये उन्होने भी मिनी को चूमना चाटना शुरू कर दिया। एक ने तो दूसरी के स्तन दबा कर अपनी चूत उसके चूतड़ों से रगड़ने लगी।

“हाय जो… चोद दे … फ़ाड दे मेरी… अरे तुम हटो ना !” मिनी वासना की आग में तड़प रही थी। उसने दोनों को धक्का दे दिया। वो दोनों ही फ़र्श की कालीन पर एक दूसरे से लिपट पड़ी और अपने आप को शान्त करने कोशिश करने लगी। तभी मेरा तन से रस निकलने को होने लगा। मेरा लण्ड उसकी चूत पर जोर जोर से चलने लगा।

“अरे मर गई … मेरी मां… माल निकला… जो हाय री… जरा कस कर चोद दे… हाय ओह्ह्ह्ह्… उईईईईई… जो… जो… अह्ह्ह्ह” और मिनी झड़ने लगी… मैंने अपना लण्ड भी बाहर निकाल लिया… और दोनो नौकरानियां जैसे भूखे शेर की तरह मेरे लण्ड पर टूट पड़ी। एक तो मुझसे लिपट गई और दूसरी मेरे लण्ड को मुठ मारने लगी। मिनी पल्टी खा कर सीधी हो गई और उन दोनों को निहारने लगी। मैंने दोनों को अपने आप से चिपका लिया था… और वीर्य को रोक रहा था कि कहीं निकल ना जाये। पर हाय रे… नहीं रोक पाया और वीर्य एक तेज धार की तरह फ़ूट पडा…

मैंने दोनों को दबा लिया और उन्हें चूमने लगा…

“बस बहुत हो गया… हरामजादियो, अब भाग जाओ यहां से… !” मिनी ने गुस्से से कहा।

“मिनी, मजा आ गया… आप तो बला की सेक्सी हैं… !”

“और आप भी… लगता है हम तीनों को एक साथ चोद सकते हो… ” मिनी मुस्कराई।

“थेंक्स, अब मैं चलता हूं… आज्ञा दो अब कब हाजिर होना है… लव यू… “

“… इश्क जगे तो आ जइयो चाहे बजे रात के बारह… ये अपनी फ़ीस तो ले जाओ !” एक चवन्नी टाईप का गाना गुनगुनाते हुये उसने एक लिफ़ाफ़ा मुझे दिया। मैंने चुपचाप उसे जेब में डाल लिया… पैसे की जरूरत किसे नहीं होती है… मिनी ने इशारा किया और दोनों नौकरानियाँ मेरा हाथ पकड़ कर बडी अदा से मुझे बाहर तक छोड़ने आई। रास्ते भर वो मेरे चूतड़ दबाती रही और मेरे लण्ड को मसलती रही।

“अब फिर कब आओगे बाबू जी, कभी हमरा नम्बर भी लगाओ ना !”

मैंने एक मुस्कान भरी नजर डाली और बाहर की ओर चल दिया।

Check Also

मेरे टीचर ने की मेरी पहली चुदाई-2

Mere Teacher Ne Ki Meri Pahli Chudai- Part 2 मेरी चुदाई कहानी के पहले भाग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *