Home / Tag Archives: राज कार्तिक शर्मा प्रेम गुरु द्वारा संशोधित एवं संपादित) मैं एक बार ठंडा हो चुका था पर मेरे सामने जो आग पड़ी थी उसे देखते ही बदन का खून फिर से गर्म होने… [Continue Reading]

Tag Archives: राज कार्तिक शर्मा प्रेम गुरु द्वारा संशोधित एवं संपादित) मैं एक बार ठंडा हो चुका था पर मेरे सामने जो आग पड़ी थी उसे देखते ही बदन का खून फिर से गर्म होने… [Continue Reading]

बुआ हो तो ऐसी-2

Bua Ho To Aisi- Part 2 (प्रेम गुरु द्वारा संशोधित एवं संपादित) यह कहानी पिछला  भाग है:  बुआ हो तो ऐसी-1 मैं एक बार ठंडा हो चुका था पर मेरे सामने जो आग पड़ी थी उसे देखते ही बदन का खून फिर से गर्म होने लगा। अब मैंने बुआ की …

Read More »