Home / नौकर-नौकरानी / सौतेली माँ के साथ चूत चुदाई की यादें-7

सौतेली माँ के साथ चूत चुदाई की यादें-7

Sauteli Ma Ke Sath Chut Chudai Ki Yade- Part 7

ये मेरी चुदाई की कहानी का अगला भाग है. मेरे पिछले भागों को लेकर मुझे बहुत से मेल मिले और बहुतों ने कई तरह के कॉमेंट्स किए. ज़्यादा कॉमेंट्स मुझे चोदने के लिए ही थे. कुछ ने मेरी फोटो माँगी और कुछ ने फोन नंबर मांगे. मुझसे चैट करने वाले भी बहुत से थे. किसी ने गालियां भी दीं और मुझे रंडी की उपाधि भी दे दी. किसी ने लिखा कि कहानी बिल्कुल बेकार और बकवास है… कुछ ने मुझे धंधा करने वाली तक कह डाला.

अब मैं किसी को ऐसा लिखने से रोक तो नहीं सकती… क्योंकि हर एक की अपनी सोच है. जो मुझे चोदना चाहते हैं, उनसे कुछ भी कहना बेकार है क्योंकि उनकी सोच ऐसी ही रहेगी. जिनको कहानी पसंद नहीं आई, उनमें से किसी ने कहा कि उन्होंने इसको जैसे ही पढ़ा… बस उसी समय ये सोचा कि इस कहानी की एक दो लाइन ही पढ़ कर छोड़ देनी चाहिए थी. जो मुझे दलाल और रंडी समझते हैं, उनसे तो कुछ भी कहना आसमान पर थूकने के बराबर है. मैं किसी से भी चैट नहीं करूँगी, ना ही अपनी फोटो पेस्ट करूँगी और ना ही किसी को मेरा नंबर मिल सकता है. जिनको मेरा लिखा पसंद नहीं है, वो प्लीज़ मुझे क्षमा करें.

मेरी कहानी कोई भी मनघड़न्त नहीं होती, मगर पाठकों की रूचि के अनुसार उसमें कुछ ना कुछ मसाला मिलावट करनी ही होती है. कई बार ये लिखना भी ज़रूरी होता है कि यह सब कल्पित है. क्योंकि जिसके बारे में लिखा हुआ होता है, उसकी गोपनीयता भंग हो जाती है.

मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता अगर कोई मुझे कॉलगर्ल कहे, रंडी कहे, दलाल कहे या कोई तरह की गाली देकर संबोधित करे. जिसकी जैसी सोच होगी, वो वोही तो कहेगा या बोलेगा.

चलिए कहानी की ओर चलते हैं. जैसा कि अब तक अपने पिछले भाग :- सौतेली माँ के साथ चूत चुदाई की यादें-6  में पढ़ा  कि मेरे ड्राइवर को अपने जाल में फंसा कर चुदाई का मजा लेने की प्लानिंग की गई थी. उसी को लेकर मैंने सोचा कि अब बिंदु ही इसको पूरा ट्रेंड करेगी. क्योंकि मुझे कुछ झिझक हो रही थी कि उससे चुदाई की बात कैसे करूँ.

अगले दिन ड्राइवर को, जिसका नाम रतन था, बुलाया और पूछा कि उसके पास ढंग के कपड़े हैं, या नहीं.
वो बोला- जी मैडम… हैं ना दो पजामे और दो कमीज हैं.
मैंने कहा- ठीक है, गाड़ी निकालो और तुम अभी मेरे साथ मार्केट में चलो.

उसके साथ मॉल में जाकर उसको नए कपड़े दिलवा दिए, जो उस पर पूरे फिट होते थे. कुछ अंडर गारमेंट्स जैसे कि चड्डी और बनियान आदि भी दिला दिए.
वो बोला- मेमसाब क्या ये पैसे हमारी तनख्वाह में से काटे जायेंगे?
मैंने उसे चुप रहने को बोला और पेमेंट करके बोली- चलो.

वो बेचारा इसी सोच में था कि अगले महीने उसे कुछ नहीं मिलेगा क्योंकि सारे पैसे कपड़ों में ही कट जायेंगे.

रास्ते में मैंने उससे कहा- नहीं, यह कपड़े तुमको इसलिए लेकर दिए हैं कि जब भी तुम मेरे साथ कहीं जाओ, तो तुमको कोई ड्राइवर ना समझे.
उसे ये बात शायद समझ में नहीं आई थी, वो बोला- मेमसाब… हाँ तो ड्राइवर ही हूँ ना.
मैंने कहा- मेरी माँ तुमको सब समझा देगी.

घर वापिस आ कर मैंने उसे बिंदु के हवाले कर दिया और उससे कहा कि इसको समझाओ ताकि यह समझ जाए कि इसकी ड्यूटीज क्या क्या हैं.
बिंदु ने कहा- ठीक है इसे तुम मेरे पास छोड़ दो… मैं इसे आज ही ट्रेंड कर दूंगी और रात तो तुम इससे मज़े ले लेना.

मुझे बाद में बिंदु ने बताया कि उसको उसने अपने कमरे में बुला कर कहा कि तुम ज़रा टीवी देखो, मैं अभी आती हूँ. टीवी से डीवीडी जुड़ा हुआ था, जिसमें पहले से ही एक हिन्दी की मूवी लगी हुई थी, जिसमें सिवाए क्सक्सक्स चुदाई के और कुछ नहीं था.

जब वो उस मूवी को देखने लगा तो बिंदु छुपकर उसे देख रही थी. वो देखने में इतना मस्त हो गया कि उसे पता ही नहीं लगा कि कब बिंदु उसके पास आ गई. वो तो बस चुदाई की फिल्म को देखते हुए अपने लंड को मसल रहा था

बिंदु ने उसके कंधे पर हाथ रख कर पूछा- क्या कर रहे हो?
वो हड़बड़ा कर उठा, मगर उसका लंड उसके काबू से बाहर था. उधर फिल्म अब भी चल रही थी, जिसमें लड़की उछल उछल कर लड़के के लंड पर चढ़ कर चुद रही थी.

रतन बोला- मेमसाब, हमको यह बंद करना नहीं आया. जैसे ही आप यहाँ से गईं, इसमें तो यह वाली फिल्म चलने लगी.
बिंदु ने कहा- ठीक है, सच सच बताओ मज़ा आया ना देख कर.
वो चुप रहा. बिंदु ने फिर पूछा- बताओ डरो मत.
इस पर रतन ने कहा- सच में मेमसाब हमको तो बहुत मज़ा आया. हमारे दोस्त हमको बोला करते थे, मगर आज सच में देखने को नसीब हुआ.

तब बिंदु ने उससे पूछा कि कभी ऐसे काम भी किए हो?
वो बोला- नहीं मेमसाब, हम ग़रीबों को इस काम के लिए कौन पूछता है.
बिंदु बोली- कोई ग़रीब नहीं होता, जब जवान हो तो उसके लिए यही काम सबसे बढ़िया होता है. तुम बोलो ये सब छोटी मेमसाब से करना चाहते हो?
वो बोला- राम राम मेमसाब, हम तो यह सोच भी नहीं सकते… वरना साहिब हमको जान से मार देंगे.
बिंदु ने कहा- घबराओ नहीं… जो मैं पूछ रही हूँ… उस का जवाब दो.

वो बोला- मेमसाब, चाहने से क्या होता है. अगर हम लोगों का दिल भी करे तो हमको दिल मारना पड़ता है.
बिंदु ने उससे कहा कि अगर वो तुमको मिल जाए तो क्या उसके साथ ये सब करोगे या नहीं.
वो बोला कि कौन ससुरा छोड़ेगा उनके जैसी माल को. ऐसा दबाऊंगा कि वो भी जिन्दगी भर याद करेगी.

बिंदु ने कहा- तो ठीक है आज रात तो मैं भी देखती हूँ कि तुम उसके साथ क्या क्या कर सकते हो. रात तो साहिब घर पर नहीं होंगे. तुम उससे मेरे सामने यही सब कुछ करके दिखाना. अच्छा अब जाओ अपने कमरे में… और सुनो अपने डंडे के पास जो काली घास फूस है ना उसे भी साफ़ करके आना.
यह सब कहकर उसको जाने को कहा.

फिर बिंदु ने मुझसे कहा- मैंने उसको तैयार कर दिया है, अब तुम उसको सम्भाल कर रखना. वैसे मैं भी वहीं रहूंगी, अगर मौका मिला तो एक डुबकी मैं भी लगा लूँगी. मगर कुछ भी करने से पहले उसकी हम लोगों को ब्लैकमेल करने की हिम्मत को पूरी तरह से दबा देना है.

रात को बिंदु ने उसको 9.30 बजे बुला लिया और बोली- चलो तैयार हो जाओ.
उससे कहा कि तुम पूरे नंगे हो कर नेहा के बेड पर जाओ और नेहा को ज़बरदस्ती पकड़ कर उसके कपड़े उतारो. उस समय नेहा जोर जोर से बोलेगी ‘छोड़ो मुझे कमीने तुमको मैं नहीं छोड़ूँगी…’ मगर तुम डरना नहीं और हंस कर बोलना कि ‘आज मैं छोड़ने के लिए नहीं चोदने के लिए आया हूँ.’
तब नेहा तुमको धक्का मार कर खुद को छुड़ा लेगी और बोलेगी कि ‘तुम्हारी यह हरकत… मैं आज ही तुमको पुलिस में दे दूँगी… पापा से बोल कर तुम्हें जेल भिजवा दूँगी… क्या समझते हो खुद को!’ उसके बाद मैं जैसे कहूँगी, तुम दोनों वैसे ही करना.

रतन को नहीं पता था कि बिंदु क्या करने वाली है, उसने उसी तरह से किया, जैसे बिंदु ने कहा था और मैंने (नेहा) भी वो ही किया जैसे उसको बताया था. यह सब मेरी सौतेली मां बिंदु ने कैमरे में वीडियो रिकॉर्ड कर लिया, फिर बोली- अब ठीक है, नेहा खुद ही अपने कपड़े उतार कर तुम्हारे पास आएगी और तुम को जो करना है, कर लेना… अब मैं तुमको कुछ नहीं कहूँगी, बस देखूँगी.

इस क्लिप की एक कॉपी बिंदु ने मुझे भी ट्रान्स्फर कर दी ताकि अगर एक खराब हो जाए तो दूसरी सही रहनी चाहिए. यह बचने के लिए हमारा राम बाण था. अगर कभी भी वो हमें धमकी दे या ब्लैक मेल करने की कोशिश करे. अब हम दोनों खुल कर बिना डर के उससे अपनी चुत चुदवा सकती थी.

रतन की उम्र कोई 19-20 साल की थी और पूरा जवान था. अभी उसके लंड ने चुत नहीं देखी थी. इसलिए उस का लंड जब चुत में घुसता था तो पता लगता था कि जैसे कोई लोहे का सरिया चुत में घुस गया हो. फिर वो धक्के भी बहुत करारे मारता था. उसको बिंदु ने सिखा दिया था कि चुत को जितनी देर तक चाटा जा सके, उतना चाटा करो. इससे तुमको बहुत मज़ा मिलेगा.

पहले तो वो कहता था कि नहीं ऐसा नहीं कर सकता क्योंकि यहाँ से तो मूत निकलता है. बिंदु ने उसको समझाया कि कभी कुत्ते को कुतिया पर चढ़ते हुए देखा है?
तो बोला- हां बहुत बार.
बिंदु ने पूछा- तब बताओ कुत्ता सबसे पहले कुतिया से क्या करता है?
वो बोला कि वो अपनी ज़ुबान से कुतिया की चुत चाटता है.
बिंदु ने कहा- जब कुत्ता यह जानता है कि चाट चाट कर मज़ा यहीं से मिलेगा जबकि वो जानवर है और तुम तो आदमी हो… तुमको तो और जल्दी समझ जाना चाहिए.
वो बोला- आप सही कह रही मेमसाब… हम तो पागल ही हैं, जो यह समझ ही नहीं सके. आगे से मैं कभी भी चुत को बिना चाटे कुछ भी नहीं करेंगे.

उसकी चुदाई का स्टाइल भी बहुत मज़ेदार था. अब वो आते ही सबसे पहले बिना कुछ किए चुत पर मुँह मारता था. फिर मम्मों को पकड़ पकड़ का ऐसे खींचता था, जैसे कि किसी बॉल से कोई खेल रहा हो. मम्मों की घुंडियों को मस्त हो कर पीता था. मैं पूरी नंगी तो पहले ही हो जाती थी, और वो भी शरीर का कोई भी अंग बिना किस किए हुए नहीं छोड़ता था. इस सबके बाद अपना लंड मेरे मुँह में डाल कर चुसवाता था और जब उसका लंड मेरे थूक से पूरा गीला हो जाता, तो अपने थूक को मेरी चुत में डाल कर दोनों की चिकनाई हो जाने पर अपना लंड चुत में डाल देता था. वो लंड डाल कर कुछ देर रुक जाता था और बिना हिले डुले लंड को चुत में घुमाता था… जिससे चुत को बहुत मजा आता था. फिर धक्के भी जबरदस्त मार कर पूरी लगन से चुदाई करता था. मैं और बिंदु दोनों ही उसके लंड से चुदने के बहुत मज़े ले रहे थे.

जब भी पापा आउट ऑफ़ स्टेशन होते थे, मेरा बेडरूम हम तीनों के लिए ऐशगाह सा हो जाता था. इस तरह से समय बीतता गया.
अब मेरी जवानी झूमती हुई अपनी पूरी मस्ती भरी हो गई थी.

उधर आशीष पूरी इंजीनियरिंग करके बंगलोर में ही किसी कंपनी में जॉब करने लग गया. वहाँ पर उसे कोई नई लड़की मिल गई थी, जिसके मां बाप कनाडा में रहते थे और उसको पढ़ने के लिए भारत में भेजा था. बिना किसी से पूछे उसने उस लड़की से शादी कर ली और एक दिन मैसेज भेज दिया कि मैं अपनी वाइफ के साथ कनाडा जा रहा हूँ और वहीं पर सेट्ल हो जाऊंगा.

इस बात से बिंदु को बहुत बड़ा झटका लगा. उसे कहीं ना कहीं दिल में लग रहा था कि आख़िर वो उसका बेटा है और उसकी देखभाल करेगा. मगर उसने जब पापा से बोला था कि बच्चा है जब लंड खड़ा होगा तो चुत को ही देखेगा ना… और उससे और उसके दोस्त से चुद कर बिंदु अपनी इसी बात का नतीजा खुद भी भुगत चुकी थी.

इसके पहले जब पापा ने उससे आशीष की हरकतों के बारे में बताया था, तब बिंदु ने पापा से इसी बात का बदला लेने के लिए मुझे पापा के साथ अपनी चुदाई दिखलाई और धीरे धीरे पूरी चुदक्कड़ बना कर अपने बेटे से चुदवा दिया. अब आज बिंदु को बहुत पछतावा हो रहा था, मगर कुछ हो नहीं सकता था.

मेरी चुदाई की कहानी पर आपके मेल का स्वागत है… बस आपसे निवेदन है कि ऐसा लिखना जिसको पढ़ने में अच्छा लगे.
pchoprap000@gmail.com
कहानी जारी है.

Check Also

दोस्त की बुआ के घर में तीन चूत-6

Dost Ki Bua Ke Ghar Me Teen Choot- Part 6 दोस्त की बुआ के घर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *