Home / ग्रुप सेक्स स्टोरी / सौतेली माँ के साथ चूत चुदाई की यादें-6

सौतेली माँ के साथ चूत चुदाई की यादें-6

Sauteli Ma Ke Sath Chut Chudai Ki Yade Part-6

अब तक अपने पिछले भाग :- सौतेली माँ के साथ चूत चुदाई की यादें-5  में पढ़ा था कि उस हरामखोर अधिकारी ने मुझे दम भर चोदा और उसने मेरी चूत में ही अपना निकाल दिया.
अब आगे..

चुत चुदाई के बाद बाद उसने कहा- ज़रा बाथरूम में जाकर साफ़ सफाई कर आओ.

मैंने जाकर अपनी चुत तो अच्छी तरह से अन्दर से वॉश की और वापस आ गई. आते ही वो मेरी चुत पर अपना मुँह रख कर चूसने में लग गया. वो तो इस तरह से चुत के पीछे पड़ा हुआ था, जैसे कि भिखारी को कोई होटल में ले जा कर खाना सामने रख कर बोले कि खाओ और वो उस पर टूट पड़े. मैं तो चाहती ही थी कि वो मुझे अच्छी तरह से चोद ले.. ताकि वो मेरे काबू में पूरी तरह से आ जाए.

जल्द ही उसने फिर से अपना लंड मेरी चूत में पेल दिया. मेरी चुदाई करते हुए उसने पूछा- जिससे फोन पर तुमने बात की थी, उसे कैसे जानती हो.
मैंने कहा- वो कभी मेरा बॉस रहा था, साला बहुत कमीना है, मैं उससे अपनी बकाया सेलरी की डिमाँड कर रही थी. वो मुझसे बोल रहा था कि अपना मुँह बंद रखो वरना मुझसे बुरा कोई नहीं होगा. मैं तुम्हारे पैसे खा कर कहीं भाग नहीं जाऊंगा.. दे दूँगा.. छोटी सी रकम के लिए क्यों मुझे बार बार तंग करती हो. मैंने कहा कि छोटी तुम्हारी नज़र में होगी छोटी रकम.. मेरे लिए तो बहुत बड़ी है.. आख़िर खून को पसीना बना कर मैंने उसे कमाया है.
वो बोला- मैं नहीं समझता था कि वो इतना गंदा इंसान है. खैर उसे तो बाद में देखूंगा.
मैंने कहा- आप उसे किस तरह से जानते हैं?
तो वो बोला- मैं उसी की शिकायत को लेकर यहां पर छानबीन करने के लिए आया हूँ.

मैंने सोचा लोहा गरम है, हथौड़ा अभी मारना चाहिए. फिर उसका लंड भी अभी मेरी चुत के अन्दर है.. इससे अच्छा मौका न जाने कब मिलेगा.

मैंने कहा- आप भी किस घनचक्कर के चक्कर में फंस गए, उसका काम ही है कि शिकायत करके कुछ रकम वसूलना. वो आपको भी पूरा बदनाम कर देगा.
इस पर वो अधिकारी कुछ नहीं बोला. बस लंड की ठोकर देते हुए कहने लगा कि अभी चुदाई पर ही ध्यान दो मेरी जानू.. यह सब बाद में सोचने की बातें हैं.

भूखे को रोटी, लालची को पैसे, बीमार को डॉक्टर और खड़े लंड को हर जगह चुत ही नज़र आती है. यही हाल था उसका. वो मुझे ज़रा भी नहीं छोड़ना चाहता था.

उसने दूसरी बार झड़ने के बाद दो पैग दारू के लगा कर तीसरी बार भी मुझे पेला. तीन बार चुदाई के बाद भी उसका मन नहीं भरा था.

मैंने कहा- अब तक मेरी चुत में तीन बार अपना लंड घुमा चुके हो.. अब सोना चाहिए.
वो बोला- सालों से सो रहा हूँ बिना चुत के.. आज कैसे छोड़ दूं मेरी जान. तुम नहीं जानती कि आज तुमने मेरी जिंदगी में कितनी हरियाली कर दी है.
इस पर मैंने कह दिया- आपका लंड तो मस्त लंड है.. पता नहीं क्यों आपको आपकी बीवी ने छोड़ दिया. मैं होती तो इसको हमेशा मुँह में ले कर रखती और सुबह शाम इसकी आरती उतारती. शायद भगवान ने मेरी चुत आपके लंड के लिए ही बनाई है. मेरा पति तो बिल्कुल ख़स्सी है.. साला कुछ कर ही नहीं पाता क्या करूँ. क्या आप मुझसे शादी कर सकते हो. मैं आपको हमेशा खुश रखूंगी.

ये सुन कर वो फूल कर कुप्पा हो गया. बोला- सही सही बोला.. अगर तुम अपने पति से तलाक़ ले लो, तो मैं तुमसे दूसरे दिन ही शादी कर लूँगा.
मैंने कहा- ठीक है मैं कल ही किसी वकील से मिलती हूँ और फिर एक दो महीने में ही उससे छुटकारा पाकर आपके लंड के नीचे हमेशा के लिए आ जाऊंगी.
फिर मैंने पूछा- अब तो आप सिर्फ मुझे ही चोदोगे ना.. तो उस लड़की को मैं ना बुलाऊं ना?
यह सुन कर उसका मुँह देखने लायक बन गया, वो बोला- जब तक शादी नहीं हो जाती, तब तक तो मुझे जो चाहूं करने दो ना. तुम उसको अपने साथ लाओ. फिर वो तुमसे ही तो कह रही थी कि मुझे लंड दिलवाओ और तुमने उसको प्रॉमिस भी किया था, तो मैं नहीं चाहता कि मेरी होने वाली बीवी अपना प्रॉमिस तोड़े.
मैंने उससे कहा- ठीक है आज रात को लाती हूँ.

इसके बाद उसने मुझे हचक कर चौथी बार भी चोदा और मेरी चुत में झड़ गया.

इस तरह उससे चार बार चुद कर सुबह 6 बजे मैं अपने कमरे में आ गई. तब वहाँ पर नेहा सो रही थी. आते ही मैं जैसे ही लेटी, मुझे नींद आ गई क्योंकि पूरी रात उसने जगा कर रखा था और फिर जम कर चुदाई भी हुई थी. सुबह 12 बजे मुझे नेहा ने ज़बरदस्ती उठाया और बोली- उठो यार बिंदु कब तक सोती रहोगी.. दो बार होटल का वेटर पूछ गया है कि लंच यहाँ लाऊं या आप रेस्तरां के अन्दर जा कर करेंगी.

नेहा को मैंने सारी बात बता दी और उससे बोली कि आज रात को चलना है अपनी चुत की पूरी तरह से सफाई कर लेना और साथ में बगलों (अंडरआर्म्स) की भी सफाई कर लेना. तुम्हारी बॉडी पूरी चिकनी नज़र आनी चाहिये.. और ड्रेस तो पता ही है नाम मात्र की ही पहनना है. हां वो वाली स्पेशल वॉच ज़रूर पहन लेना, जिसमें कैमरा और ऑडियो फिट हो, ताकि पूरी रेकॉर्डिंग की जा सके. एक मैं भी अपना पास बाँध कर रखूँगी. जब वो तुम्हारी चुदाई करेगा, मैं रेकॉर्डिंग करती जाऊंगी और जब मेरी चुत चुदाई करे, तो तुम उसकी भी वीडियो बना लेना. ये सब इस तरह से करना कि हम दोनों का फेस ना नज़र आए मगर उस हरामी का चेहरा पूरा साफ़ नज़र आना चाहिए. अगर थोड़ा बहुत अपना चेहरा आ भी गया तो कोई बात नहीं, हम किसी से एडिट करवा लेंगे.

इस तरह से रात तो 10 बजे हम दोनों उसके रूम में जा पहुँची. जब हम उसके रूम में पहुँचे तो मैंने उससे नेहा की मुलाकात करवाई और यह कहा कि यह मेरी सबसे अच्छी फ्रेंड है और इससे मैं कुछ भी नहीं छुपाती, यहाँ तक कि मैंने आपके साथ कल रात में क्या क्या किया, वो भी इसे बता दिया है. इसलिए आप इसके सामने किसी तरह की कोई शर्म ना रखो. यह मर जाएगी मगर अपना मुँह नहीं खोलेगी, खास कर चुदाई के मामले में.

उसने नेहा से हाथ मिलाते हुए उसको किस किया और उसके मम्मों को भी दबा कर चुत पर हाथ मार दिया.
फिर मेरी तरफ देख कर बोला- बिंदु जी, आपने ठीक कहा था, वो साला बहुत कमीना है.. उसने फालतू में शिकायत कर दी. जिस आदमी की मैं छानबीन करने आया था. वो बेचारे तो बहुत ईमानदारी से काम कर रहे हैं. खैर कोई बात नहीं, मैं सब ठीक करके उसी आदमी की माँ चोदूँगा और उससे आपके पूरे पैसे दिलवा दूँगा.
मैंने कहा- छोड़ो ना पैसे को.. जब हम दोनों को एक ही हो जाना है तो फिर इस छोटी से रकम के लिए क्यों आप अपना मुँह मारो उस बेकार के आदमी से!
वो बोला- आप सही कह रही हो. वरना वो एक और शिकायत करेगा कि मैंने किसी से शादी करके उसको उससे पैसे ऐंठने के लिए तंग कर रहा हूँ.

उस अधिकारी के पूरी तरह से काबू में आ जाने के बाद अब मुझे अपने कैमरों की कोई ज़रूरत तो नहीं थी मगर फिर भी उसके साथ की चुदाई को रिकॉर्ड कर लिया. जो उसने हम दोनों के साथ नंगा नाच खेला था, वो सब अब सबूत के तौर पर हमारे पास था.

नेहा पर तो वो इस तरह से टूटा, जैसे किसी मेमने पर भेड़िया टूट पड़ता है. मगर नेहा भी साली पूरी चुदक्कड़ थी. जैसे ही उस अधिकारी ने अपना लंड डाला तो बोलने लग गई- हाय मार दिया.. आपका तो बहुत लंबा और मोटा है.. ज़रा आराम से डालो ना प्लीज़.
जब कि वो साली जगत का मूसल लंड भी मज़े ले गई थी, वो तो इसके लंड का बाप था.

अपने लिए यह सब सुन सुन कर वो अधिकारी फूल कर कुप्पा हो जाता था. फिर बोला- मैं तुम दोनों को एक साथ चोदना चाहता हूँ.

हमने पूछा कि वो कैसे, तो बोला- एक की चुत में लंड डालूँगा और दूसरी की चुत को मुँह से चूसूंगा. एक हाथ से एक का चूचा और दूसरे हाथ से दूसरी का मम्मा दबाऊंगा. आज मुझे यह करने दो ना.. मैंने सुना है और फिल्मों में देखा भी है, मगर कभी नहीं सोचा था कि मुझे भी कभी यह सब करने को मिलेगा.

पूरी रात वो हम दोनों को पेलता रहा. कभी मेरी चुत में लंड डालता तो कभी नेहा की चुत में. इस तरह से जब पूरी रात बिता दी तो बोला- अब आखरी बार ज़रा दोनों मिल कर मुझे एक और मज़े दो.
मैंने पूछा- अब क्या करना चाहते हो?
वो बोला- तुम मेरे लंड पर बैठ कर, उसको अपनी चुत में घुसा कर धक्के मारो और नेहा मेरे मुँह पेर बैठ जाए जिससे मैं उसकी चुत को पूरा चूस कर चुत का रस निकालूँगा. आज उसकी चूत का पूरा रस मेरे मुँह में जाना चाहिए.

अब मैं उसके लंड पर बैठ गई और धक्के मारने लगी. नेहा उसके मुँह पर बैठ गई. उसने नेहा की चुत को खोल कर अपनी ज़ुबान उसमें डाल दी.

नेहा भी पूरी कमीनी थी, उसने कुछ ही देर में कहा- मेरी चुत का मूत निकलने वाला है.. इसलिए छोड़ो मैं ज़रा बाथरूम से हो कर आती हूँ.
वो बोला- कोई बात नहीं मेरे मुँह में ही करो.. मैं पूरा मूत पी जाऊंगा.. यह मेरे लिए किसी अमृत से कम नहीं होगा.

मुझे नेहा ने बाद में बताया था कि वो शुरू से ही अपना मूत उसके मुँह में करना चाहती थी इसलिए वो जानबूझ कर उसके मुँह पर अपनी चुत रखने से पहले बाथरूम में नहीं गई.

इस तरह से हम दोनों पूरी तरह से अपनी चूतों को चुदवा कर सुबह अपने रूम में आ गए.

जब वो जाने लगा तो मुझको बोला कि मैं जा रहा हूँ और मैंने रिपोर्ट बना ली है इस आदमी की शिकायत ग़लत पाई गई है और कंपनी को बदनाम करने के लिए या उससे कुछ रकम माँगने के लिए ही शिकायत की गई है. हां तुम अपने वकील से मिल कर अपना डाइवोर्स का केस शुरू करो और अगर किसी अच्छे वकील की ज़रूरत हो तो मुझे बताना में पूरी हेल्प करूँगा. आख़िर इसमें किसी और कि नहीं, अपनी होने वाली बीवी की ही मदद कर रहा हूँ.
मैंने कहा- ठीक है, मैं कल ही यह काम शुरू करती हूँ.

इस तरह से अपना काम पूरा करके हम लोग वापिस घर आ गए. उस दिन रात को मेरा पति बहुत खुश नज़र आ रहा था और मुझसे सेक्सी बातें करने लगा.
वो बोला- जानू बहुत दिन हो गए हैं तुम्हारी चुत को देखे, आज पूरी सफाई करके रखना.

अब ये कहने की ज़रूरत नहीं कि रात को पति ने मेरी चुत को बुरी तरह से चूसा और चोदा. उनको पता ही नहीं लगा कि उनकी मुसीबत उनकी बीवी और बेटी की चूतों ने दूर की है. खैर मुझे क्या मेरी चुदाई का डंडा तो फिर से शुरू हो गया.

आगे की कहानी नेहा की ज़ुबानी सुनिए.

बिंदु की चुत का काम तो मेरे पापा की मुसीबत खत्म होते ही ठीक हो गया. वो अब उसकी चुत को जम कर चोदते थे और वो भी बहुत खुश नज़र आने लगी थी. मगर मैं चुदाई की चाह में किसी लंड के लिए तड़फती थी. आख़िर मुझसे ना रहा गया तो मैंने बिंदु से कहा कि मेरी चुत के लिए भी कुछ सोचो ना.

बिंदु बोली- ठीक है ज़रा सोचने दे, मेरी बूढ़ी चूत से तुम्हारा काम भी करवाती हूँ जिससे चुदाई भी आराम से हो और कहीं किसी को भनक भी ना लगे.

अगले दिन वो मेरे पापा से बोली कि देखो जी नेहा को कई बार इधर उधर जाना होता है और मुझे भी.. और हाँ लोगों को खुद कार चलना आज कल ट्रॅफिक को देखते हुए बहुत मुश्किल होती है. आप किसी ड्राइवर का इंतज़ाम करो, जो हमरे सर्वेंट रूम में रहे और जब चाहे उससे काम ले सकें.
पापा को भी यह बात जंच गई और उन्होंने कहा- ठीक है अगर कोई ईमानदार और शरीफ आदमी नज़र में हो तो खोजो.

बस फिर क्या था, बिंदु ने मुझसे बोला- कोई सख्त लंड वाला और खूबसूरत बन्दा खोजती हूँ, जो कार चलाए ना चलाए मगर तुम्हारी चुत को जम कर चलाए.

अगले दो तीन दिनों के बाद नेहा ने एक खूबसूरत नौज़वान ढूँढ लिया. वो उससे बोली कि पहले तुम्हारा टेस्ट लिया जाएगा, अगर पास हो गए तो नौकरी पक्की वरना मैं नहीं रखूँगी.
वो बोला- ठीक है मैडम.
फिर वो उससे बोली- जाकर बाथरूम में नहा कर आओ और ठीक से कपड़े डालो.

वो मेरे मम्मों को घूरता हुआ चला गया.

बाथरूम में उसने सीसी कैमरा लगाया हुआ था, जो रिमोट से उसी के लैपटॉप से जुड़ा हुआ था. जब वो बाथरूम में गया तो मुझे अपने साथ ही बिठा कर लैपटॉप चालू किया. साले ने मेरे मम्मों को देख लिया था, इसलिए वो अपने लंड का पानी हाथ से निकालने लग गया.

ओह माय गॉड.. उस लंड तो जगत के लंड से भी कुछ बड़ा ही था.. उसका मोटा लंड देखा कर तो मेरे मुँह में पानी आने लगा. उसका मूसल लंड देख कर मेरी चुत में चींटियां रेंगने लगीं. मैंने नोट किया कि बिंदु भी उसका लंड देख कर अपने होंठ काट रही थी.
मैंने उससे कहा- बिंदु कोई फिकर ना करो तुम्हें भी उसके लंड का स्वाद मिलेगा. एक बार काबू आ गए तो फिर कहाँ जाएगा.

नहा धो कर जब वो बाहर आया तो बोला- मेमसाब बताइए कहाँ चलना है.. मेरा मतलब कि गाड़ी निकालूँ क्या?
मैंने कहा- अभी नहीं.. तुम ज़रा मेरे साथ चलो और मैंने आँख मार कर बिंदु से कहा कि तुम भी पीछे पीछे आ जाओ.

मैं उसे अपने बेड रूम में ले गई और पीछे पीछे बिंदु भी आ गई. वो मुझको देखते हुए बोली- नेहा रुक ज़रा.. यह पूरा बदमाश है, इसके बारे में ज़रा सोचना पड़ेगा.

वो बेचारा ये सुन कर बहुत हैरान हो गया. बिंदु ने उसको लैपटॉप पर उसका बाथरूम वाला सीसी कैमरा से रिकॉर्डेड क्लिप दिखाया और बोला- क्या यह सब करोगे यहाँ पर? पुलिस को बुलाना पड़ेगा.
वो खुद की मुठ मारने वाली क्लिप देख कर गिड़ागिड़ाने लगा- मेमसाब मेरी शिकायत ना कीजिएगा.. मैं बर्बाद हो जाऊंगा. मेरी बूढ़ी माँ है, मैं ही उसको देखने वाला अकेला हूँ.
बिंदु ने पूछा- क्यों तुम्हारी बीवी कहाँ रहती है?
वो बोला कि अभी उसकी शादी नहीं हुई.

यह सुन कर कुछ संतोष हो गया कि अगर वो एक बार हमारे चक्कर में फंस गया तो कोई उसे रोकने वाला नहीं होगा. मैंने बिंदु से उसके सामने ही कहा- मान जाओ.. छोड़ो ना बेचारे को अगर कुछ ऐसा कर भी लिया तो क्या हुआ.. जवानी में हो जाता है.
बिंदु बोली- मैं तुम्हारे कहने से इसे छोड़ रही हूँ वरना अभी पुलिस बुला कर इस को अन्दर करवा देती.

मैंने उसकी फिर से वकालत की और बोली- माँ अब गुस्सा छोड़ो ना.. हम से भी कई बार भूल हो जाती है.
इस पर बिंदु चुप रही और उससे बोली- ठीक है.. अभी हमारे सामने ही अपने कपड़े उतारो.. मैं भी देखना चाहती हूँ कि तुम कितने जवान हो.
उस बेचारे को कुछ सूझ ही नहीं रहा था.
मैंने उससे कहा कि जो मैडम बोल रही हैं, तुम करो.. घबराओ नहीं.

वो डरता हुआ अपने कपड़े उतारने लगा. जब पूरा नंगा हो गया तो उस लंड ढीला ही बना रहा.
तब बिंदु ने कहा- वहाँ बाथरूम में तो बड़ा कड़क था.. उधर पर इसको क्या हुआ था, जो यहां पर इसकी माँ मर गई है. इसे खड़ा करके दिखाओ.
वो कुछ ना बोला.

तब मैंने उससे पूछा कि क्या तुमने हम में से किसी को नंगी देखा था.
वो चुप रहा.
जब उससे जोर से बोला तो उसने बताया कि मैंने आपके मम्मों को देखा था, जिससे यह खड़ा हो गया था.
मैं बोली- ओह इसका मतलब है यह जब भी मुझे देखेगा तो खड़ा हो जाएगा. ओके लो, मैं दिखाती हूँ, तुम खड़ा करके दिखाओ.

मैंने झट से अपने टॉप को उतार दिया. मेरे मम्मे पूरे नंगे हो गए. उन्हें देखते ही उसके लंड में हलचल होने लग गई, तो वो पूरा शवाब पर आने लगा.

बिंदु ने मुझे आंख मार कर कुछ इशारा किया तो मैंने कहा- ओके, मैं तुमको नौकरी पर रख लूँगी, क्योंकि यह मेरे मम्मों का दीवाना है. मगर जब भी मैं कुछ बोलूं तो बिना झिझक के तुमको वो काम करना पड़ेगा. तुम्हें पापा से पूरी सैलरी भी मिलेगी और अगर हम लोगों का कहा माना तो कुछ अलग से भी मिलेगा.

यह सुन कर उसकी जान में जान आ गई और वो हाथ जोड़ता हुआ बोला- आपने इस मुसीबत की घड़ी में जो मेरे लिए किया है, उसे मैं जिंदगी भर नहीं भूलूंगा, क्योंकि यह नौकरी आप नहीं समझ सकती कि मेरे लिए क्या मायने रखती है. मैं आप दोनों का गुलाम बन कर रहूँगा.. और आपकी हर बात, जो आप चाहोगी, जिस तरह से चाहोगी, दिन रात पूरी दिल लगा कर सेवा करूँगा.
फिर मैंने उसको उसका रूम दिखा कर बोला- तुम चाहो तो अपनी माँ को भी यहाँ ला सकते हो.
वो बोला- नहीं मैडम शुक्रिया आपका, वो गांव में रहती हैं. मैं यहाँ किसी रिश्तेदार के घर पर रह रहा हूँ और मैं उनके आँगन में सोता हूँ. मैं शाम को ही यहाँ आ जाऊंगा.

इस तरह से मैंने अपनी चुत का इंतज़ाम तो कर लिया मगर अभी उससे चुदवाने के लिए भी पक्का करना था ताकि कभी हम से उसका झगड़ा भी हो गया तो भी वो किसी को कुछ ना बोल पाए.

यह कहानी आप लोगों को पसंद आई होगी… प्लीज़ मेरी मेल आईडी पर ज़रूर लिखिएगा कि चुदाई की कहानी कैसी लगी ताकि मैं अगली कहानी भी लिखने की सोचूँ, वरना यह मेरी आखिरी कहानी ही होगी.
आपकी पुन्नी उर्फ़ पूनम
मेरी मेल आईडी है: pchoprap000@gmail.com

Check Also

जूही और आरोही की चूत की खुजली-35

Joohi Aur Aarohi Ki Choot Kee Khujali- Part35 पिंकी सेन नमस्कार दोस्तों आपकी दोस्त पिंकी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *