Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ

रोज नई नई गर्मागर्म सेक्सी कहानियाँ Only On Antervasna.Org

रशियन लूडो और ग्रुप सेक्स-2

Russian Ludo Aur Group Sex- Part 2

रशियन लूडो और ग्रुप सेक्स-1

मेरी ग्रुप सेक्स स्टोरी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि मैं रूस में रहता हूँ, मेरी बीवी रशियन है. हमें ग्रुप सेक्स पसंद है.
एक बार मेरा एक दोस्त अपने एक अमेरिकन दोस्त को लेकर मेरे घर आया. खेल खेल में सेक्स शुरू हो गया.
अब आगे:

कुछ देर बाद मैंने भी लंड बाहर निकाल लिया और नताशा ने आराम करने कि गर्ज से अपने पैर थोड़ा फैला दिए. इस प्रकार उसकी गांड का छेद साफ़ नजर आने लगा.

अब अमेरिकन बॉय से रहा नहीं गया, उसने झुक कर अपनी जीभ मेरी वाइफ की चूत में घुसेड़ दी. कुछ देर अन्दर बाहर करने के बाद उसने जीभ को लड़की की गांड में ट्रान्सफर कर दिया, और लपालप गांड चाटने लगा.

नताशा मस्ती में आकर कराहने लगी, उसके मुंह से निकलती सुरीली आवाज ने अपना जादू ऐसा चलाया कि तीनों मर्दों के थोड़ा ढीले पड़ चुके लंड दुबारा टनटना कर खड़े हो गए!

अब जिस तरह एंड्रयू अपना खम्भे जैसा लंड छत की तरफ ताने, कमर के बल गद्दे पर लेट गया था, उससे सभी को समझ आ गया, कि उसकी इच्छा है कि जवान लड़की उसके लंड के ऊपर घुड़सवारी करती हुई बैठे!
इशारे को समझते हुए मेरी गोरी बीवी मुस्कुराते हुए किसी मॉडल की चाल से इठलाकर चलते हुए, अमेरिकन बॉय का हैवी लंड अपने हाथों में पकड़, अपनी चूत के निशाने पर लगाते हुए नीचे बैठ गई. लंड को पूरी लम्बाई तक अपनी योनि में घुस जाने तक नताशा बहुत धीमे से, बिना हिले अपनी बाल रहित, गुलाबी चिकनी चूत को खड़े लंड पर पहनाती रही.
पूरा लंड अन्दर घुस जाने के बाद नताशा एकदम से ऊपर उठी और तेजी से नीचे बैठ गई.

एंड्रयू उत्तेजनावश सिसकार उठा.

और तभी मेरी बीवी दुबारा तेज रफ़्तार से लंड को अपनी चूत से बाहर निकाल कर फचाक से दुबारा उसे अपनी चूत में लेते हुए नीचे बैठ गई!
स्वान की नताशा भाभी अपना दाहिना हाथ अपने पेट पर रखे एंड्रयू के लंड को अपने पेट के अन्दर महसूस करते हुए, बाएँ हाथ से मेरा हाथ का सहारा लेकर तेजी से एंड्रयू के लंड के ऊपर कूदने लगी.
रूसो-अमेरिकन युगल की शानदार चुदाई देखते हुए मेरा लंड टनटनाने लगा और मेरी भार्या ने उसे भी अपने उछलते हुए मुंह में शरण दे दी.
बचा हुआ स्वान का लंड कहाँ जाता… वो भी मेरी बगल में आकर खड़ा हो गया और अपने लंड को मेरे लंड के साथ हमारी पार्टनर के मुंह में घुसेड़ने का प्रयास करने लगा.

नताशा भी पूरे उत्साह के साथ हम दोनों के लंड अपने रुसी मुंह में लेने का भरसक प्रयत्न करने लगी. उधर दूसरी तरफ नताशा की चिकनी, बाल रहित चूत और एंड्रयू के विशाल लंड के बीच घमासान युद्ध मचा हुआ था, अपने पेट के ऊपर बैठी दोस्त की बीवी की गांड के छेद को अपने दोनों हाथों से फैलाए हुए वो लहराते हुए मेरी छोटी सी गुड़िया की चूत में तेज धक्के मार रहा था.

मुझे एंड्रयू की हथेलियों के बीच अपनी https://www.antarvasnasexstories.com/voyeur/meri-bevafa-biwi-chut-fuddi-chudai/बीवी की गांड साफ़ नजर आ रही थी, और सच पूछो तो मैं वास्तव में चाह रहा था, कि स्वान अपना गधे जैसा लंड उसकी गांड में घुसेड़ दे!

उसने मेरे मन के भावों को पढ़ लिया, वो बेड से नीचे उतर कर नताशा के चूतड़ों के पीछे जाकर खड़ा हो गया और सही पोजीशन में लाकर अपने लंड के सुपारे को नताशा के सबसे छोटे छेद से टहोकते हुए धीमे-2 अन्दर घुसेड़ दिया.

लंड को गांड के अन्दर चलने में थोड़ी सी रूकावट महसूस करने पर स्वान ने अपनी उंगलियों से थोड़ा सा थूक निकाल कर अपने बाहर बचे हुए लंड पर मल दिया, और हल्के-2 धक्कों से उसे तंग छेद के अन्दर प्रविष्ट करने लगा.
कुछ देर थोड़ा-2, हौले-2 लंड को दुबली-पतली लड़की की गांड में अन्दर-बाहर करते रहने के बाद स्वान ने रफ़्तार पकड़ ली और तेज गति से अपने गर्दभ लंड को मेरी बेचारी बीवी की गांड में घुसाने लगा.

नताशा का मुंह खुला हुआ था लेकिन वो मेरा लंड नहीं चूस रही थी, बल्कि उसके मुंह से ओह-आह की मधुर ध्वनि पूरे कमरे को गुंजायमान करते हुए वातावरण को रंगीन बना रही थी.
अब उसने मेरे लंड को अहमियत देना बंद कर दिया था और थोड़ा इधर-उधर खिसकते हुए अपनी पोजीशन को एडजस्ट कर लिया जिससे अलग-2 दिशाओं से उसके अन्दर घुसे दो लंड आसानी से उसके छेदों की चुदाई कर सकें.
नीचे से एंड्रयू का लम्बा लंड चूत के छिलके उतार रहा था, तो पीछे से स्वान का मोटा लंड गांड की बखिया उधेड़ रहा था.

‘आआआ… ओओओ… हाँआआ… ऐसे! हाँ ऐसे मारो धक्के… और जोर से!’ मेरी पतिव्रता बीवी अपने हाथों को पीछे की ओर ले जाकर स्वान के लंड को अपनी गांड में घुसवाने में मदद करने लगी और अपनी बारीक़ आवाज में उसे और जोरों से धक्के लगाने की प्रार्थना करते हुए हम सभी को उत्तेजना के चरम पर ले गई.

‘आआआ… ओओओ … ऊऊऊ…हाँ जान ऐसे! जरा जोर से स्वान, ताकत नहीं है क्या!’ मेरी प्यारी बीवी अपने हाथों को पीछे ले जाकर स्वान के कूल्हे पकड़ अपनी ओर खींचते हुए उसे जोरदार धक्के लगाने का चैलेंज देने लगी.
‘ठीक है… तो जरा पहले मेरी गाजर को ढंग से पैना कर दो भाभी… जिससे वो रोकेट की तरह तुम्हारी गांड को भेद सके.’ स्वान ने भी मजे लेते हुए उत्तर दिया और मेरी जान की गांड से लंड बाहर निकाल कर एंड्रयू की बगल में लेट गया.

नताशा मिग की रफ़्तार से स्वान की तलवार को धार देने में जुट गई. थोड़ी देर की चुसाई से ही उसका मूसल लोहालाट हो गया और वो दुबारा मेरी बीवी के ऊपर चढ़ गया. गधे जैसे लंड को सीधे-2 सेक्स बम की गांड में ठेल कर तेज गति के साथ चुदाई करने लगा.
इस शानदार चुदाई से मेरी बीवी निहाल हो उठी और उसकी महीन आवाज में निकलती चीखें मुझे उत्तेजना के चरम की तरफ ले गईं. आगे भी उसी क्रम में स्वान अपना लंड निकाल कर दुबारा चुसवाने के लिए पलंग पर लेट गया.

इस बार मैंने उसकी द्वारा खाली हुई जगह को भरने का फैसला करते हुए अपना लंड अपनी भार्या की गांड में डालते हुए स्वान के विकराल लंड द्वारा उसकी भोसड़ा बन चुकी गांड की चुदाई करने लगा.

मेरी सदाबहार बीवी अब सारी शर्मोहया त्याग कर बेशर्मों की तरह स्वान के केले के तने जैसे मोटे-चिकने लंड को चूसने में लगी थी, उसके हैट जैसे विशाल टोपे को किसी लोलीपॉप की तरह चूस रही थी. समय-2 पर वो उसके अंडे भी चाटती और हाथ से खोल कर उसके टोपे को भी!

इस प्रक्रिया ने मुझे इतना आनंदित कर दिया कि मैं खुद को स्वर्ग में महसूस करने लगा. मैं उत्तेजनावश अपने कदम गद्दे पर जमा कर, ऊपर-नीचे गांड की चुदाई करने लगा. नताशा मेरी इस प्रक्रिया से पागल हो उठी और मुंह से घू-घू की आवाज निकालते हुए स्वान के टोपे को अपने हलक में घुसेड़ कर चूसने लगी.

मुझे पता था कि ऐसे मौके जिन्दगी में रोज-2 नहीं मिलते… और आज मिले मौके का मैं पूरा-2 फायदा उठाना चाहता था. साथ ही साथ शानदार पोर्न फिल्म की लाइव शूटिंग भी कहाँ रोज-2 देखने को मिलती है!
मुझे इस समय नताशा की चूत में एंड्रयू का लंड थोड़ा ढीला सा नजर आ रहा था, मैं अपना लंड सीधा करके नताशा की गांड के पीछे खड़े होकर छोटे छेद से रगड़ने लगा.

सभी तैयार हो गए कि पतिदेव डबल पेनीट्रेशन की तैयारी में हैं… लेकिन मैंने सभी को धत्ता बताते हुए अपना लंड एंड्रयू के चूत मारते लंड की बराबर में लगाते हुए अपना लंड भी पतिव्रता नताशा की चूत में घुसेड़ दिया.
नताशा थोड़ा सा कुनमुनाई और फिर खिलखिला कर हंस पड़ी.

जब सभी को यकीं हो गया कि लड़की को दर्द जैसी कोई शिकायत नहीं है तो एंड्रयू ने उसकी हंसी में उसका साथ देना शुरू कर दिया.
एंड्रयू की बगल में आधे लेटे स्वान ने हंसी का कारण जानना चाहा तो एंड्रयू ने उत्तर दिया- मेरा छोटा भाई भाभीजी की चूत के अन्दर अभी-2 घुसे चूत के क़ानूनी मालिक का स्वागत कर रहा है!

अब क्योंकि स्वान तो इस नए तरीके की चुदाई में शामिल नहीं था, इसलिए उसे भी इसकी इच्छा होने लगी और मैंने अपनी सज्जनता का परिचय देते हुए उसे अपना स्थान सौंपा और खुद हमारी प्रेमिका के स्वर्णिम मुख की ओर आ गया.

स्वान ने ज्यादा सोच-विचार न करते हुए सीधे-2 अपना गर्दभ लंड नताशा की एंड्रयू के लंड से भरी चूत में घुसेड़ दिया. चूत के अन्दर एंड्रयू के साथ-2 स्वान के लंड की डबल डोज पाते ही मेरी नाजुक बीवी को आटे-दाल का भाव पता चल गया और वो कुतिया कि तरह मुंह खोल कर औंधे मुंह बिस्तर पर जा गिरी.

लेकिन स्वान ने लंड बाहर नहीं निकाला और वो खुद भी उसके ऊपर गिरते हुए चुदाई करने में लगा रहा.

कुछ देर बाद जब नताशा सामान्य हुई तो स्वान ने आरामदायक पोज में आकर डबल चुदाई जारी रखी. अब नताशा ने अपने चूतड़ों को पीछे की ओर उभार दिया था, जिससे वो आराम से एंड्रयू और स्वान नामके दैत्यों के भयानक लंडों को अपनी छोटी सी चूत में ले सके.

‘ओओओ… आआआ… ओओओ… हाँआआआ… ऐसे! जोर-2 से चोदिये मेरी चुदक्कड़ चूत को… ओओओओ… हाय कितनी गहराई तक चुद रही हूँ मैं तुम्हारे लंड से एंड्रयू!! गजब… आआआ… और तुम्हारा, प्यारे पति… तुम्हारा लंड भी आज गजब ढा रहा है! आआआ… मजा आ रहा है… ऐसे ही चोदते रहिए मेरे प्यारे पतियो… बस रुकिएगा मत! आआआ… और मस्ती से, लहरा-2 कर चोदते रहिए… ओओओओ… क्या गजब का पोज है!! मेरी चूत के अन्दर दो-दो लंड!!!’
उत्तेजना के आधिक्य में नताशा अनियंत्रित हो चुकी थी और बहुत ही फूहड़ शब्दों का इस्तेमाल करने लगी थी.

लेकिन मैं और मेरे दोनों दोस्त इस फूहड़ता को काफी पसंद कर रहे थे क्योंकि ये शब्द हमारे लिए वियाग्रा का काम कर रहे थे!

अचानक एंड्रयू तेज धक्के मारता हुआ हम दोनों के कॉमन टारगेट को चोदने लगा. मेरे धक्कों की रफ़्तार तो उससे काफी कम थी, इसलिए मैं उससे पिछड़ने लगा. मेरी जानेमन की बच्चेदानी में कुछ हैवी शॉट्स मारने के बाद उसने अपना आग उगलने को तैयार लंड चूत से बाहर निकाल लिया और मेरी बीवी का सिर पकड़ कर उसके मुंह में ठूंस दिया.

वासना की देवी ने उत्साह के साथ गधे जैसे लंड को अपनी गद्देदार जीभ से चूसना-चाटना शुरू कर दिया. एंड्रयू ने अपना मूसल नीचे से पकड़ कर हिलाते हुए गर्म गाढ़े सफ़ेद वीर्य को मेरी जीवनसंगिनी के चेहरे पर उगलना शुरू कर दिया. वीर्य की बूंदें चेहरे से टपक कर मेरी वाइफ के मुंह की ओर बहने लगी और उसने जीवन की बूंदों को अपने मुंह में भरना शुरू कर दिया, और सटकना भी!

मेरी भार्या की जीभ इसके काफी देर बाद तक सफ़ेद नजर आती रही थी, लेकिन यह दृश्य मुझे सिर्फ उत्तेजित ही करता रहा, और ईर्ष्या का कोई नामोनिशान नहीं!!

एंड्रयू लगातार मेरी बीवी को उसका सिर पकड़ कर अभी तक टपक रहे लंड की ओर खींच रहा था. पूरा झड़ जाने के बाद उसका लटकता हुआ लंड बेल पर लटकी लौकी जैसा लग रहा था. इधर स्वान का धैर्य जवाब दे गया और उसने मलिका-ए-हुस्न को एंड्रयू के चंगुल से छीन कर खुद लेटते हुए, अपने लंड के ऊपर गांड रख कर बैठने का आदेश दिया.

हमारी नताशा मजे के साथ कमर मटकाती हुई अपनी चुदक्कड़ गांड के छेद को स्वान के हैट जैसे टोपे पर रख कर नीचे को दबाते हुए बैठने लगी.
मैंने फटी-2 आँखों से देखा किस तरह भयानक मोटा टोपा मेरी बीवी की गांड के छेद को छेदता हुआ अन्दर की तरफ घुसने लगा!! मेरे मन में इस समय वासना का समुद्र हिलोरें मार रहा था क्योंकि मैं जानता था कि कुछ देर में इसी छोटे से छिद्र में स्वान के साथ एंड्रयू का लौड़ा भी घुसेगा और दो-दो मोटे लंड मिल कर एक ही छेद को चोदेंगे!!

और स्वान ने अपना विशाल, माँसल टोपा नताशा की काफी खुल चुकी गांड में लगा कर अन्दर की तरफ धकेल दिया. पहले धक्के में सिर्फ चौड़ा टोपा ही अन्दर घुस पाया, और फिर अगले दो धक्कों में स्वान ने अपने लंड की पूरी लम्बाई, और मोटाई भी ऑफकोर्स मेरी जन्म-जन्मान्तर की हमसफ़र, जो इस समय पोर्नोग्राफी कला की पारंगत अभिनेत्री की तरह अपने कार्य में व्यस्त, चूत में एंड्रयू, और गांड में स्वान का लंड भरे हुए थी, की गुलाबी गांड में घुसेड़ दी.

डोरा वेंटर और जूली सिल्वर की श्रेणी में अपना नाम लिखवा चुकी मेरी नताशा अपने चौपाए गद्दे पर टिकाए एंड्रयू के लंड के ऊपर अपनी चूत पहनाए लेटी हुई ऊपर अपनी गांड में स्वान का गर्दभ लंड पिलवा रही थी.

मुझे उसकी मुस्कुराती हुई चूत देख कर अपार ख़ुशी हुई और मैं हाथ में लंड पकड़े उसकी और बढ़ा और अपना दायाँ पैर स्वान का मोटा, केले जैसा लंड अपनी गांड में पिलवा रही अपनी बीवी के बाएँ पैर के ऊपर लाते हुए उसकी खाली चूत में घुसेड़ दिया.
सेक्स की देवी थोड़ा सा कुनमुनाई लेकिन उसने अपने मुंह से एंड्रयू का झड़ चुका लंड बाहर नहीं निकलने दिया जो अब फिर से कठोरता लेना शुरू कर रहा था.

मेरी बीवी ने अपने पैर चौड़े कर दिए, जिससे मैं आराम से उसकी चूत मार सकूँ.
मैंने करीब एक मिनट चूत मारी, तभी एंड्रयू ने अपना लंड वेश्या के मुंह से निकाल कर मुस्कुराते हुए उसकी आँखों के सामने किया. लंड दुबारा पहले जैसा कठोर, और ताकतवर हो चुका था, और उत्तेजना के आवेश में कमरे की छत की तरफ झटके मार रहा था.

एंड्रयू ने उंगली के इशारे से मेरी बीवी को अपने ऊपर लेटने का आदेश दिया और नीचे लेटे हुए ही उसकी स्वान के भयानक लंड द्वारा चौड़ी हो चुकी गांड मारने लगा. शानदार नताशा ने अपने होठों के ऊपर जीभ फेरते हुए अमेरिकन लंड अपनी गांड में लेना शुरू करते हुए शरारती आँखों से मेरी तरफ देखा और चेलेंज भरी मुखमुद्रा के साथ अपनी एंड्रयू के लंड से भरी गांड को सहलाने लगी.

‘जरा पतिदेव को भी अपनी गांड में जगह दे दो भाभी!’ स्वान उपहास करते हुए बोला.
‘हाँ-हाँ, क्यों नहीं… डाल दो जानू तुम भी मेरी गांड में… मैं तुम दोनों के लंड अपनी गांड में महसूस करना चाहती हूँ!’ नताशा ने मेरी तरफ देखते हुए कहा.

मुझे ऐसा करते हुए संकोच तो हुआ लेकिन फिर अमेरिकन लंड के साथ मिलकर रुसी गांड मारने की इच्छा बलवती हो उठी और मैं अपने लंड के टोपे को एंड्रयू के हैवी लंड से भरी हुई मेरी बीवी की गांड में घुसेड़ने का प्रयत्न करने लगा. मैं एक सिरे से अपने लंड के टोपे को एंड्रयू के लंड की बगल से अन्दर घुसेड़ने में कामयाब हो गया, और जोर लगाने पर मेरा लंड एंड्रयू के लंड से रगड़ खाता हुआ हमारी बीवी की गांड की गर्मियों में पहुँच गया…

क्या गजब का अहसास था! ऐसा शानदार अहसास आज तक नहीं हुआ था.

मेरा छोटा सा लंड नताशा की गांड में बड़े आराम और स्वतंत्रता के साथ चलता था, लेकिन आज क्योंकि गांड का मेन पैसेज तो एंड्रयू के विशाल लंड द्वारा ही कब्जाया हुआ था, तो मेरे लंड को तो उसमें चलने के लिए बहुत ही कम जगह मिल पा रही थी, इसलिए मुझे आज अलौकिक आनन्द आ रहा था.

मी बीवी की ग्रुप सेक्स स्टोरी जारी रहेगी.
3in1@inbox.ru

Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ © 2018