Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ

रोज नई नई गर्मागर्म सेक्सी कहानियाँ Only On Antervasna.Org

प्लेबॉय बनने के लिए चुत चुदाई का टेस्ट

Playboy Banne Ke Liye Chut Chudai Ka Test

दोस्तो, मैं मुहम्मद सैफ एक नई कहानी के साथ हाजिर हूँ. मैं आपको अपने बारे में बता देता हूँ. मैं अन्तर्वासना साईट का एक नियमित पाठक हूँ. मैं एक सुंदर और आकर्षक जिस्म का मालिक हूँ. मेरे लंड की लम्बाई 7 इंच और मोटाई 3.5 इंच है, जिसने कई लड़कियों और भाभियों की चूत को फाड़ कर उन्हें संतुष्ट किया है.

ये घटना अभी 2 साल पहले की है.
मैं मैकेनिकल इंजीनियर की पढ़ाई कर रहा हूँ. अभी मेरी ट्रेनिंग चल रही है तो मुझे अपने खर्च के लिए रूपये की जरूरत थी. क्योंकि जो रूपये मुझे घर से मिलते थे, उसमें मेरा गुजारा नहीं हो रहा था. फिर मैंने पढ़ाई के साथ साथ जॉब करने की सोची और काफी ढूँढने के बाद मुझे एक जॉब मिली, लेकिन उसमें भी मेरा खर्च पूरा नहीं हो रहा था… क्योंकि ये जॉब मुझे मात्र 15000 ही दे रही थी. फिर भी मैं काम करता रहा और इसी दौरान मेरी मुलाकात मेरे ही साथ काम करने वाले एक रोहित नाम के लड़के से हुई, जो कि जॉब के साथ साथ एक प्लेबॉय भी था.

एक दिन मैंने उसे अपनी प्रॉब्लम बताई तो पहले तो वह हँसा और कहने लगा कि मेरे पास तेरे लिए काम है. तू इतना स्मार्ट है और शरीर की फिटनेस भी ठीक है… इस पर भी तू परेशान है. तू साले गांड मरा के भी पैसे कमा सकता है.

मुझे उसकी ये बात सुनकर बहुत गुस्सा आया. मैंने उसे गाली देकर बोला- बहनचोद, अब यही काम बचा है… जब मैं छोटा और नासमझ था, तब से अपनी गांड बचाता आ रहा हूँ, आज जब समझदार हो गया तो इसे लुटा दूँ… बहन के लंड… सही नहीं बोलना है तो मत बोल.
वह बोला- अबे नाराज क्यों होता है मेरे भाई… मैं तो मजाक कर रहा हूँ.
मैंने कहा- ठीक है… पर मुझे ऐसा मजाक पसंद नहीं है.
उसने कहा- ठीक है… मैं अब ऐसे मजाक नहीं करूँगा.

मैं हंस दिया तो फिर उसने कहा कि आज जॉब से छूटने के बाद मैं तुझे किसी से मिलाऊंगा, वह तेरी प्रॉब्लम सॉल्व कर देगी.
मैंने कहा- ठीक है.

फिर हम दोनों जॉब से छूटने के बाद बाहर आए, मैं उसकी बाइक पर बैठ कर उसके साथ चल दिया. करीब 15 किलोमीटर जाने के बाद वह एक फार्म के सामने रुका.
मैं बोला- कहां लाया है भाई?
तो उसने कहा- बस तू चल… तेरी मंजिल आ गई.

उसने डोरबेल बजाई और सामने से एक लड़की ने दरवाजा खोला. रोहित ने उससे पूछा- मरीयम मैडम कहां हैं?
वह पहले तो लपक कर उसके गले लग गई और कहने लगी- बहुत दिन बाद आया यार… कहाँ था इतने दिन?
रोहित ने उसे चूमते हुए कहा कि यार जॉब में व्यस्त चल रहा था.
उसने पूछा कि ये जनाब कौन हैं?
रोहित ने बताया कि ये मेरे दोस्त हैं.
उसने मुस्कुराते हुए कहा- हैलो.
मैंने भी हैलो बोला.
उसने मेरे से हाथ मिलाया और कहने लगी- आप तो बहुत ही स्मार्ट और सेक्सी हैं.

यह कह कर उसने मेरा हाथ दबाया और आंख मार दी.
मैं उसके इस प्रतिक्रिया से एकदम से शॉक्ड हो गया.

फिर उसने बोला- मैडम नहा रही हैं. तुम लोग अन्दर बैठ कर इंतजार करो.

हम अन्दर आ गए और सोफे पर बैठ गए. फिर कुछ देर बाद मरीयम मैडम आईं. मैं तो उन्हें देखता रह गया, क्या लग रही थी यार… एकदम कयामत लग रही थी. उसके भीगे हुए खुले बाल कहर ढा रहे थे. इस वक्त उसने काले रंग की नाइटी पहनी हुई थी, जिसमें वह एकदम सेक्सी लग रही थी. उसकी उम्र 23 साल थी. उसका फिगर तो लाजवाब था यार उसके चुचे करीब 32 इंच के थे और उसकी कमर तो ऐसी बल खा रही थी कि साली अच्छे अच्छे की जान ले ले. उसकी कमर 26 इंच की थी और उसकी गांड के बारे में क्या बताऊं यार… साली की गांड देखते ही बहनचोद लंड तो पैंट फाड़ के बहर निकलने को तैयार हो उठा था. उसकी बहन की लौड़ी की गांड 34 इंच की उठी हुई एकदम तोप जैसी थी. उसको देखते ही मैंने अपने लंड को पैंट में एडजस्ट किया.

मरीयम मैडम ने रोहित से पूछा- आज कैसे रास्ता भूल गए जो हमारे घर पहुंच गए? और ये किस मेहमान को साथ लेकर आए हो, जिसका लंड मुझे देखते ही बेकाबू हो गया है. जो कि उन्हें बार बार ठीक करना पड़ रहा है.
उसकी बिंदास भाषा को सुनकर मैं हतप्रभ था. मैं शर्मा भी गया था और मैंने सर नीचे कर लिया.

रोहित ने उसे बताया कि यह मेरा दोस्त है, जो मेरे साथ काम करता है. ये मैकेनिकल इंजीनियर की पढ़ाई कर रहा है और जितना ये कमाता है, उसमें इसका खर्चा पूरा नहीं होता है.
तो उसने कहा- अच्छा ये बात है… ठीक है, तू जा… मैं समझ लूँगी.
रोहित उठ कर जाने लगा तो मैंने पूछा- तू कहां जा रहा है?
उसने कहा- काम हो गया है… अब तेरा इन्टरव्यू होगा.
यह कह कर वो चला गया.

मरीयम मैडम ने मुझसे पूछा- कुछ अपने में बताओ?
मैंने बोला- मैं सैफ दिल्ली से हूँ. और इस वक्त गुडगाँव में हूँ.
फिर उसने कहा- ठीक है.

इसके बाद उसने उस लड़की को बुलाया, जिसने दरवाजा खोला था. वो आई तो उससे कहा कि जाओ इसे नहला के क्लीन कर दो.

फिर वह लड़की मेरे साथ बाथरूम में आ गई. मैं मंत्रमुग्ध सा उसके साथ सब करता जा रहा था. वो लड़की मेरे कपड़े उतार कर मेरे लंड के बालों को साफ करने लगी. उसके हाथ लगाने से मेरा लंड एकदम खड़ा हो गया.

उसने मेरा लंड पकड़ कर बोला- ओहो इतना बड़ा… इसे लेने में तो मजा आ जाएगा.

फिर वह लंड को नापने लगी और फिर उसे मुँह में लेकर चाटने लगी. दस मिनट चाटने के बाद कहने लगी- ओह यार… ये मैं क्या कर रही हूँ…
मैंने हंस कर कहा- तुम केला खा रही हो.
वो भी हंस पड़ी और मुझसे कहा- प्लीज मैडम को ये बात मत बताना.
मैंने कहा- ठीक है.

फिर उसने मुझे नहला दिया. मैं एक गाऊन में बाथरूम से बाहर आया.
मैडम ने कहा- आओ बैठ जाओ… खाना खा लो.
मैंने मैडम के साथ बैठ कर खाना खाया, खाने के बाद केसर का दूध का गिलास पिया.

मैं हाथ ही धोने लगा था कि मैडम ने बोला- मुझे गोद में उठाओ और बेडरूम में ले चलो.

मैंने उन्हें अपनी गोद में उठाया और बेडरूम में ले जाकर बेड पर लिटा दिया.
उसने मुझसे पूछा- तुमने कभी सेक्स किया है?
मैंने कहा- हाँ किया है.
“ठीक है… फिर तुम मुझे खुश करके दिखाओ!”
मैंने कहा- ठीक है मैं जो करूंगा आप ऑब्जेक्शन तो नहीं करोगी?
उसने कहा- ठीक है… नहीं करूँगी.

इसके बाद मैंने उसकी कमर पकड़ के उसके होंठों पर एक जोरदार किस किया. वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी. हम दोनों दस मिनट तक यूं ही किस करते रहे. फिर मैंने उसके मुँह में अपनी जुबान डाल दी और जुबान को चूसने लगा. वो एकदम कंपने लगी. हमारी साँसें एकदम गर्म हो गईं और उसका दम सा भी घुटने लगा.

मैंने उसे छोड़ दिया और गर्दन पर किस करने लगा. वो मेरा पूरा साथ दे रही थी. वो भी मेरी गर्दन और कान के पास किस कर रही थी. हम दोनों एकदम गर्म हो चुके थे. फिर उसने मेरे गाऊन को फाड़ दिया और मैंने उसकी नाइटी को फाड़ कर हटा दिया. हम एक दूसरे को चूमते चाटते रहे.

मैं उसके चूचों को ब्रा के ऊपर से ही दबाने और दातों से काटने लगा. वह पागल होने लगी. मैंने उसकी ब्रा को खींच कर फाड़ दिया, जिससे उसके दोनों चूचे आजाद हो गए.

एक चूचे को मैं मुँह में लेके चूसने लगा और दूसरे को हाथों से मसलने लगा. हम दोनों करीब 30 मिनट तक ऐसे ही रोमांस करते रहे.

फिर वह मेरे लंड को पकड़ कर हिलाने लगी और कहने लगी- वाह क्या लंड है… इतना लम्बा मोटा तगड़ा लंड आज मैं पहली बार देख रही हूँ. इतने बड़े लंड से मैं आज तक नहीं चुदी.

मैंने भी लंड उसके मुँह में डाल दिया. वो लपक कर लंड चूसने लगी. यार मैं क्या बताऊं… जब उसने अपने दोनों होंठों से मेरे लंड को दबाया तो जैसे मुझे लगा कि मैं जन्नत की सैर कर रहा हूँ. वह मेरे लंड को मुँह में लेकर आंड सहलाते हुए लंड को आगे पीछे करने लगी.

मुझे मजा आ रहा था. मैं आँख बंद करके लंड चुसाई का मजा ले रहा था. हम दोनों ऐसे ही काफी देर तक मजा करते रहे.

इसके बाद मैंने उसको लिटा दिया और उसे फिर से किस करने लगा. अब मैं एक हाथ से उसके चुचे दबा रहा था और दूसरे हाथ को उसकी पैंटी में डालकर चूत सहलाने लगा. वह एकदम गर्म थी, उसकी पैंटी एकदम गीली हो चुकी थी.

फिर मैंने उसकी पैंटी भी फाड़ दी और उसकी चूत देखने लगा. उसकी चूत गुलाबी थी और क्लीन शेव थी. चुत पर एक भी बाल नहीं था. मैंने उसकी चूत में अपनी उंगली डाल दी, वह एकदम सिहर उठी. फिर मैं अपनी उंगली चुत में आगे पीछे करने लगा. अब उसकी कामुक सिसकारियां निकलने लगीं, वह अजीब अजीब आवाजें निकालने लगी “अह अह ओह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह अह… कम ऑन फक मी, यार कम ऑन… ओह… अह्ह…”

मैंने उसकी चुत को छोड़ा और चोदने के लिए तैयार हुआ. उसने झट से बगल से कंडोम निकाला और मेरे लंड पर चढ़ा दिया. मैं देर न करते हुए उसकी जांघें फैला दीं और अपना लंड को उसकी चूत पे रगड़ने लगा.
इससे वह पागल होने लगी और मुझे नोंचते हुए कहने लगी- डाल भी दे यार… वरना मैं मर जाऊँगी.

मैंने लंड को उसकी चूत के छेद पर लगाया और धीरे से अन्दर की ओर धक्का दे दिया, जिससे लंड उसकी चूत में घुस गया और वो चिल्लाने लगी- आआऊउ एई… निकाल ले बाहर… वरना मैं मर जाउंगी…
वो छटपटाते हुए मेरे बाल नोंचने लगी.

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को रख दिया और उसे किस करने लगा. फिर वह धीरे धीरे शांत होने लगी और मेरा साथ देने लगी. मैं धीरे धीरे अपने लंड को आगे पीछे करने लगा. वो भी चूत को टाइट करके नीचे से गांड उठा उठा कर साथ देने लगी.

कुछ देर यूं ही चोदने के बाद जब लंड सटासट चुत में अन्दर बाहर होने लगा तो मैंने उसकी टांगों को उठा कर अपने कंधों पर रख लीं और उसकी चुदाई जमकर करने लगा.

करीब दस मिनट तक उसकी चुत फाड़ चुदाई करता रहा. वह भी अजीब अजीब आवाजें निकालते हुए मचल रही थी- आहाह अह अह अह अह्ह्ह्ह्ह फक मी एह एह… अह अह और जोर से चोद… और जोर से कम ऑन फक मी कमीने चोद दो मुझे… आह फाड़ डालो इसे…

वो अब तक तीन बार झड़ चुकी थी. फिर मैंने उसे घोड़ी बना कर लगभग 15 मिनट तक चोदा. इसके बाद मैं नीचे लेट गया और वह मेरे ऊपर चढ़ कर मेरे लंड को अपनी चूत में डाल कर ऊपर नीचे उछलने लगी. ऐसे 10 मिनट उछलने के बाद वह फिर झड़ गई.

मैंने उसे नीचे लिटा कर अपनी स्पीड बढ़ाकर फिर से दस मिनट की जोरदार चुदाई की. इसके बाद मेरा माल निकलने को हुआ तो मैंने लंड बाहर निकाल कर कंडोम को उतार कर उसके मुँह में लंड झड़ा दिया.

उसका पूरा मुँह मेरे वीर्य से भर गया और उसने सारे वीर्य को निगल कर मेरे लंड को अच्छे से चाट चाट कर साफ कर दिया. पूरा लंड साफ़ करने के बाद भी वह कुछ देर तक मेरे लंड को चाटती रही.

मैं अब थक गया था… सो मैं लेट गया. वो भी कुछ देर मेरे ऊपर लेटी रही और फिर थोड़ी देर बाद वह फिर से मेरे लंड के साथ खेलने लगी. मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और वह उसे मुँह में लेकर चूसने लगी. करीब दस मिनट तक वह मेरा लंड को चूसती रही.

मैंने उससे कहा- मैं इस बार तेरी गांड मारूँगा.
पहले तो वह मना करने लगी, फिर मेरे बहुत बोलने पर तैयार हो गई. उसने मुझे बोरोप्लस का ट्यूब दिया, जिसे मैंने अपने लंड और उसकी गांड पर अच्छे से लगा दिया. मैं उसे घोड़ी बनाकर पीछे से उसकी गांड में लंड डालने लगा. अभी मेरे लंड का टोपा ही उसकी गांड में गया था कि वह जोर जोर से चिल्लाने लगी. मैं रुक गया, मुझे भी दर्द हो रहा था क्योंकि उसकी गांड बहुत टाइट थी.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने एक जोरदार झटका मारा और मेरा 3 इंच लंड उसकी गांड में घुस गया. वह जोर जोर से रोने लगी और चिल्लाने लगी, वह मुझसे छूटने की कोशिश करने लगी और कहने लगी- आह… मार डाला मुझे मादरचोद भोसड़ी के फाड़ डाली मेरी गांड…

मैंने उसकी गांड की ओर देखा तो उसकी गांड से खून निकल रहा था. मैं उसकी चूची दबाने लगा और उसे उसका दर्द भुलाने के लिये उसे गर्म करने लगा.

वह थोड़ी देर बाद शांत हो गई और गांड हिलाने लगी. धीरे धीरे मैं लंड को आगे पीछे करने लगा. फिर थोड़ी देर तक मैं ऐसा ही करता रहा और फिर मैंने एक जोरदार झटका मारा और मेरा पूरा लंड उसकी गांड में घुस गया. वह जोर से चिल्ला उठी और फिर उसकी गांड से खून निकलने लगा. इस बार वह बेड पर गिर पड़ी और बेहोश हो गई. मैं भी उसके गांड में लंड डाल कर उसके ऊपर चढ़ा रहा और धीरे धीरे लंड को आगे पीछे करता रहा. साथ ही उसकी चूचियां भी दबाता रहा. थोड़ी देर बाद उसे होश आया तो अब वह मेरा साथ देने लगी. कुछ ही देर में उसको मजा आने लगा और उसकी गांड ने मेरे लंड को जज्ब कर लिया था. अब वो भी गांड उठा उठा कर मजा लेने आगी थी.

कुछ ही देर में हम दोनों ने आसन बदला और अब वो मेरे लंड पर बैठ कर ऊपर नीचे होने लगी. काफी देर के बाद मैंने उसकी पूरी गांड को अपने वीर्य से भर दिया और फिर उसी के ऊपर लेट कर अपना लंड उसी की गांड में डालकर छोड़ दिया. उसने मेरे लंड को अपनी गांड को टाईट करके दबोच सा लिया और लंड को एकदम निचोड़ लिया.

हम दोनों अब तक बहुत थक चुके थे. सो हम दोनों नंगे ही एक दूसरे से लिपट कर सो गए.

जब मैं सुबह उठा तो मैंने उसे उठाकर बाथरूम में चलने को कहा, पर उससे चला नहीं जा रहा था. मैं उसे गोद में उठा कर बाथरूम में ले गया. दोनों ने अच्छे से नहा कर खुद को साफ़ किया, कमरे में आए.
फिर मैंने उसे आँख मारते हुए पूछा- कैसा रहा टेस्ट… कितने नंबर मिलेंगे मुझे?
उसने बोला- फुल से भी ज्यादा… तुम बहुत देर तक टिकते हो… तुम्हारे लंड में अच्छी खासी रांड को थका देने का पावर है.

मैंने उसे गले से लगा कर चूमा. उसने मुझे 2500 रूपये दिए और बोली कि ये पेशगी है, रख लो… कई जगह जाना पड़ेगा… तब तुमको भरपूर मिलेगा.

फिर उसने मुझे कई जगह चुदाई के लिये भेजा और मैंने अपनी ग्राहकों को चोद कर अच्छे से संतुष्ट किया. अब मुझे इसमें मजा आने लगा है.

कैसी लगी मेरी सेक्स कहानी… मुझे इसके बारे में जरूर लिखें, मेरे मेल पर अपने कमेंट्स भेजें.
ms69296@gmail.com

Updated: June 14, 2018 — 7:04 pm
Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ © 2018