Home / पड़ोसी / पड़ोस के सलीम भाईजान-1

पड़ोस के सलीम भाईजान-1

Pados Ke Salim Bhaijaan-1

नमस्ते दोस्तो, मेरी पिछली कहानी
विलेज के मुखिया का बेटा और शहरी छोरी
को पढ़ने के लिए और मेल के द्वारा रिप्लाई करने के लिए धन्यवाद।

आज फिर मैं एक नई कहानी लेकर के आयी हूँ। मैं धन्यवाद कहना चाहूंगी मनमोहन जी का जिन्होंने कहानी लिखने में मेरी बहुत मदद की।

नीतू ने हाल ही में अपना 21वाँ जन्मदिन मनाया था। दिखने में लाखों में एक नीतू की छह महीने पहले ही शादी हुई थी।
5 फ़ीट 5 इंच लंबी, 34-28-36 एकदम कोक बोतल जैस फिगर, गोरा रंग, घने काले बाल कोई भी जान देने के लिए झट से तैयार हो जाता। उसको भी पता था कि वो कितनी सुंदर है, उसको भी मर्द लोगों का अटेंशन अच्छा लगता था।

नितिन, उसका पति भी उसको बहुत सूट करता था, 27 साल का एक हैंडसम लड़का था। उनकी सेक्स लाइफ भी बहुत अच्छी तरह से चल रही थी। नीतू बहुत छोटे शहर में पली बढ़ी थी। 10वीं तक पढ़ी नीतू ने कॉलेज के बेफिक्र जीवन का अनुभव ही नहीं लिया था। नितिन से भी शादी से पहले अकेले में नहीं मिली थी। अपना कौमार्य भी उसने नितिन के साथ सुहागरात में खोया था। उनके घर में नितिन और सासू माँ थी। नितिन की बहन की 1 साल पहले शादी हो गई थी। नितिन की माँ नीतू को बेटी की तरह प्यार करती थी; दोनों की आपस में बहुत बनती थीं।

उनका शहर में दो मंजिला बंगला था, ऊपर का फ्लोर दो साल से खाली ही था। नितिन एक सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करता था, उसकी कंपनी ने उसे दो साल के लिए एक प्रोजेक्ट पे काम करने के लिए अमेरिका भेज दिया, वो नीतू को साथ नहीं ले जा सकता क्योंकि माँ अकेली पड़ जाती। और दोनों को साथ ले जाने की उसे अनुमति नहीं मिली, तो वो अकेला ही चला गया।

नीतू वैसे ही शर्मीली टाइप की थी, अड़ोस पड़ोस में ज्यादा जान पहचान नहीं थी; नितिन के जाने के बाद वो तो एकदम अकेली पड़ गयी थी।

अमेरिका जाने से पहले नितिन ने अपने ऊपर का फ्लोर एक अन्य धर्म की फैमिली को किराये पे दिया था। वह फैमिली नितिन के जाने के एक हफ्ते बाद रहने को आई थी। सलीम और उसकी पत्नी सलमा। सलीम मजबूत शरीर का साँवले रंग का 45 साल का आदमी था, उसकी हाइट 6 फ़ीट 1 इंच थी। सलमा भी 40 साल की थी, उसका रंग साँवला था, थोड़ी मोटी थी, वो भी नीतू की तरह घर में ही रहती थी। उनको कोई बच्चा नहीं था। सलीम पास के ही एक फैक्टरी में सुपरवाइजर था। सलीम दिखने में इतना अच्छा नहीं था पर रंगीला किस्म का आदमी था। जब से वो वहाँ रहने आया था तब से नीतू पर उसकी गंदी नजर थी।

कुछ ही दिनों में सलमा ने नीतू से जान पहचान बनाई। अब तो वो रोज नीतू के घर जाकर उसके साथ और उसकी सास के साथ बातें करती। शुरू शुरू में नीतू उससे ज्यादा बातें नहीं करती थी। पर अकेलेपन की वजह से नीतू को उसकी बातें अच्छी लगने लगी। कभी कभी नीतू भी दोपहर को उसके घर पे बाते करने जाने लगी; दोनों मार्केट साथ साथ जाने लगी।

सलमा अब अपने पति के बारे में बहुत बातें करने लगी। उसने नीतू को यह भी बताया कि सलीम उसके प्रति आकर्षित हो गया है और उसी मूड में वह सलमा को रातभर तंग करता है। कभी कभी तो उसे नीतू नाम से बुलाते हुए रात भर जगाता है।

नीतू उसकी बातों को मजाक में ले लेती थी। पर अब उसे अपने बदन पर सलीम की गंदी नजर महसूस होती थी। पहले पहले तो उसे घिन आती थी पर अब उसे अच्छा लगने लगा था, एक अलग ही सुरसुरी होती थी।

आज भी वो दोनों मार्केट गयी थी कि अचानक बारिश हो गयी और दोनों पूरी तरह से भीग गयी।
सलमा ने वहाँ से अपने पति को फोन लगाया- सलीम, मैं और नीतू मार्केट में है और बारिश शुरू हो गई है। हम दोनों भी पूरे भीग गए हैं। प्लीज हमें घर पे छोड़ दो!
“ठीक है, मैं 10 मिनट में आया” वह बोला।

सलीम दस मिनट में रिक्शा लेकर वहा पहुँचा। बारिश में भीगा नीतू का नशीला बदन देखकर मानो जैसे पागल ही हो रहा था। लो कट स्लीव लेस ब्लाऊज पहनी नीतू की साड़ी उसके बदन से पूरी चिपकी हुई थी। उसकी पूरी जवानी साफ साफ नजर आ रही थी। ठंड की वजह से उसके निप्पल भी उसके सफेद ब्रा में से दिखाई दे रहे थे। सलीम के ऐसे देखने से नीतू शर्मा गयी थी। सलीम ने तो मानो उसको आँखों से नंगी कर दिया था।

जैसे तैसे नीतू घर तक पहुँची, फिर दौड़ कर अपने कमरे तक गयी। तभी उसकी सासू माँ ने उसको बताया कि कल शाम को उसे अपनी बेटी के घर जाना है, उसकी बेटी के प्रेग्नेंट होने की वजह से। पहले ही पति दूर गया था अब सासू माँ भी जा रही है. सुन कर, अपने घर में उसको अकेले रहना पड़ेगा सोचकर वो थोड़ा घबरा गई।

दूसरे दिन शाम को उसकी सासू माँ ’15 दिन बाद आती हूँ.’ बोलकर अपनी बेटी के घर चली गयी।

उसके जाने के बाद नीतू सलमा के घर यह पूछने गयी कि ‘वह उसके घर रहने के लिए आ सकती है क्या?’
उसके दरवाजा बजाने के बाद सलीम ने दरवाजा खोला और पूछा- अरे नीतू, तुम कैसे आ गयी हमारे घर!
वह नीतू के आंखों में ऐसे देख रहा था कि जैसे कोई शेर अपने शिकार की तरफ देख रहा हो।

“कुछ नहीं, मुझे जरा सलमा से मिलना था, वह है क्या घर में?” नीतू ने पूछा।
“वो तो घर पर नहीं है, तुम्हें बताया नहीं उसने? वो अपनी माँ के गांव गयी है दो दिन के लिए… उसकी मां की तबियत खराब है, उसको कुछ बताना है क्या?” सलीम बोला।
“नहीं न… नहीं कुछ काम नहीं था, मेरी सासू माँ अपनी बेटी के यहाँ गयी है ना पंद्रह दिन के लिए, तो सोचा सलमा से बात करूँ!”

नीतू अब नर्वस हो गयी थी। उसकी सास भी घर पर नहीं थी और उसकी पड़ोसन… उसकी खास दोस्त सलमा भी घर पर नहीं थी। अकेले घर पे रात गुजारने के ख्याल से उसे डर लगने लगा था।
सलीम ने उसे अंदर बुलाया।
नीतू भी टेंशन में उसको ना नहीं बोली।
वह एकदम जेंटलमैन कि तरह पेश आ रहा था।

नीतू ने भी पिंक कलर की साडी और मैचिंग ब्लाऊज़ पहना हुआ था।
“सलीम भैया… सलमा घर पर नहीं है… अब आपके लिए खाना कौन बनाएगा?” उसने ऐसे ही पूछ लिया।

“मैं कुछ मंगवा लूंगा बाहर से, मुझे तो चाय भी बनानी नहीं आती, खाना कहा से बनाऊंगा।” सच में तो सलमा तुम्हारी सासू माँ को पूछने वाली थी मेरे खाने के बारे में… पर मैंने ही मना कर दिया, क्योंकि तुम दोनों को तकलीफ होगी!”

उसको नीतू की सहानुभूति हासिल करनी थी जिसकी वजह से नीतू उसको अपने घर पर खाने को बुलाये। नीतू के पास अब कोई रास्ता नहीं बचा था, उसने सलीम को रात के खाने पर बुलाया। सलीम झट से राजी हो गया।

नीतू अब किचन में खाने की तैयारी करने लगी थी। पंद्रह मिनट बाद घर की बेल बजी। उसने दरवाजा खोला तो सामने सलीम खड़ा था।
किचन में काम करते वक्त उसने अपनी साड़ी का पल्लू कमर में फंसा दिया था जिस वजह से उसकी गहरी नाभि साफ साफ दिखाई दे रही थी। उसको बहुत पसीना भी आया हुआ था.

सलीम को देखते ही नीतू बोली- अरे सलीम भैया… आप आ गए… मैंने अभी खाना बनाना शुरू किया है… अभी आधा घंटा और लगेगा खाना बनाने के लिए!
उस पे मुस्कुराते हुए सलीम बोला- कोई बात नहीं, मैं भी घर बैठे बैठे बोर हो रहा था, तो सोचा यहाँ आकर के तुम्हारी मदद कर दूँ!

नीतू के पास अब कोई रास्ता नहीं बचा था। उसने सलीम को घर के अंदर लिया और किचन में जाते हुए उसको बोली- उसकी कोई जरूरत नहीं, मैं बना लूंगी खाना… आप आराम से टीवी देख लो!

पर उसकी बातों को नजर अंदाज करते सलीम किचन में आ गया, वो खाना बनाने लगी। सलीम उसके साथ बातें करने लगा।
कुछ देर के बाद नीतू को सलीम के साथ बात करना अच्छा लगने लगा। थकान की वजह से उसके शरीर पर रेंगती सलीम की नजर को उसने इग्नोर कर दिया।

खाना परोसते वक्त झुकने पर उसके दिखते हुए उसके गोल स्तनों पे सलीम की नजर अटक गई और परोसने की बाद पीछे मुड़ी नीतू के गोल गोल नितम्बों को वो आंखें फाड़ कर देख रहा था।
सलीम बहुत मुश्किल से अपने आप को कंट्रोल कर रहा था, उसके लंड ने अब उसके पजामे में तंबू बना दिया था।

पूरे टाइम नीतू के सुंदरता की तारीफ कर रहा था। नीतू भी अपनी तारीफ सुनकर खुश हो रही थी।
“नीतू, तुम साड़ी में बहुत सुंदर दिखती हो, तुम्हारा पति बहुत लकी है जो उसको तुम्हारे जैसी पत्नी मिली है. पता नहीं कैसे वो तुम्हें यहाँ छोड़ कर इतनी दूर चला गया। मैं होता तो तुम्हें कभी छोड़ कर नहीं जाता। तुम खाना भी बहुत अच्छा बनाती हो। सच में तुम एक परिपूर्ण स्त्री हो.”

इस पे जरा शर्माते हुए नीतू बोली- ऐसा नहीं है सलीम भैया… मैं इतनी भी ग्रेट नहीं हूँ!
उसकी तारीफ से नीतू शर्मा कर लाल हो गयी थी। अपने पति के अलावा किसी ने भी उसकी इतनी तारीफ नहीं की थी।

“इतना स्वादिष्ट खाना खिलाने के लिए मैं तुम्हें एक गिफ्ट दे कर थैंक्स बोलना चाहता हूं। पांच मिनट में, मैं तुम्हें घर से लाकर देता हूं, रुको!” ऐसा बोलकर सलीम उठने लगा.
तो नीतू ने उसे रोकते हुए बोली- रहने दो… नहीं… इसकी कोई जरूरत नहीं है सलीम भैय्या!
पर उसकी बात पूरी होने से पहले ही सलीम घर से बाहर निकल गया था।

नीतू थोड़ा कंफ्यूज हो गयी थी और वो क्या गिफ्ट लाता है यह देखने के लिये आतुर भी हो रही थी।

पांच मिनट बाद सलीम वापस आ गया- यह लो तुम्हारे लिए गिफ्ट!
बोल कर उसने एक कैरी बैग नीतू को थमा दी।
“क्या है यह?” नीतू ने पूछा तो वो मुस्कुराते हुए बोला।
“खोलो न सरप्राइज है तुम्हारे लिए!”

नीतू ने बैग से वह गिफ्ट बाहर निकाला, एक सुंदर, महंगी लगभग पारदर्शी स्लीवलेस नाइटी थी। गिफ्ट देख कर सच मैं तो नीतू को थोड़ा शॉक लगा, उसने अपनी पूरी लाइफ में ऐसे कपड़े नहीं पहने थे।
“सलीम भैया…म…मैं… नहीं ले सकती यह गिफ्ट!”
“प्लीज नीतू… मना मत करना! एक बार दुकान में बाहर से देख कर ही मैंने उसे खरीद लिया था। पर सलमा थोड़ी मोटी होने के कारण उसको नहीं आ रही थी, अब तो दुकानदार ने भी इसको वापस लेने से मना कर दिया! सलीम नीतू को रिक्वेस्ट करने लगा।
फिर सलीम अपने ही जोक पर ज़ोरों से हँसने लगा।

नीतू को रियेक्ट करना मुश्किल हो रहा था, वो भी जोक पे थोड़ी सी मुस्कुरा दी।

“प्लीज नीतू… ले लो ना… मुझे पता है तुम पर बहुत सुंदर लगेगी। सच तो यह है कि तुम्हारी खूबसूरती की वजह से इस नाइटी की सुंदरता और बढ़ेगी!”
सलीम के जरा और जोर देने के बाद नीतू शर्माते हुए बोली- वैसे तो मैं किसी से कोई गिफ्ट नहीं लेती, पर आप इतना आग्रह कर रहे हो तो…

उसकी बात को बीच में ही तोड़ते हुए सलीम बोला- नीतू, तुम्हें ऐतराज ना हो तो तुम इसे पहन सकती हो क्या? सलमा ने एक बार ट्राय किया था पर उसे बैठी ही नहीं। मुझे डर है कि उसकी वजह से यह बड़ी नहीं हो गयी हो, और अगर तुम्हें लूज़ हो गयी तो?
“अभी नहीं… कल पहन कर आपको बताती हूँ… अभी नहीं!”नीतू बोली.

पर सलीम को ना सुनने की आदत नहीं थी; उसके और जरा फ़ोर्स करने पर नीतू राजी हो गयी और नाइटी पहनने के लिए बैडरूम में चली गई, उसने साड़ी पेटीकोट उतारकर उस नाइटी को पहन लिया। नाइटी तो मानो उसके शरीर के नाप से ही बनाई थी; एकदम पतली गुलाबी रंग की नाइटी थी। स्लीव लेस नाइटी में से उसके स्तनों का आकार बिल्कुल साफ साफ दिख रहा था।

वो आईने में अपने आप को देख ही रही थी कि बाहर से सलीम ने दरवाजा खटखटाया और बोला- ठीक से बैठ रही है ना?
“अ…ह…हां, बैठ रही है.” उसने हड़बड़ाते हुए बोला।
“साइज बराबर है ना?” उसने पूछा।
“हां… बराबर है.” नीतू ने बोला।
“मैं देखूँ क्या?”
“नहीं… मैं नहीं आ सकती आपके सामने इन कपड़ों में!” वो डरती हुई बोली।

वो उसको ना बोल ही रही थी कि हॉल में रखा उसका मोबाइल बजा। रिंगटोन से उसे पता चला कि उसके पति नितिन का फ़ोन है।
‘है भगवान… सलीम ने फ़ोन उठाया तो…’ रात के 10 बजे कोई अनजान आदमी अपने घर में है… यह सोचकर ही उसके जिंदगी में भूचाल आ सकता था; वो वैसे ही भागते हुए हॉल में गयी और फ़ोन उठाया।
वह अकेली है और उसके साथ नितिन नहीं है इसकी माफी मांगते हुए ही नितिन ने बातें शुरू कर दी। वो अकेली है यह सोचकर नितिन उसके साथ खुलकर बात कर रहा था। उसको चिढ़ा रहा था, उसको पर्सनल सवाल पूछ रहा था।

नीतू थोड़ा डरते हुए ही पांच मिनट नितिन से बात की; फ़ोन काटने के बाद उसने नोटिस किया कि सलीम उसको भूखे शेर की तरह देख रहा है।
“वाह… नीतू तुम तो पूरी अप्सरा लग रही हो… उस लिंगरीज के विज्ञापन में मॉडल रहती है ना… बिल्कुल वैसे ही लग रही हो तुम!” उसको देखते हुए सलीम बोला।

नीतू अब ऐसे आदमी के सामने खड़ी थी जो हमेशा से उसको कामुकता भारी नजरों से देखता था।

सलीम आगे बढ़ा और अपना हाथ नीतू के नंगे कंधों पर रखा- तुम्हारी स्किन कितनी सॉफ्ट है… काश मेरी सलमा की स्किन भी इतनी सॉफ्ट होती तो मजा आ जाता।

कहानी जारी रहेगी.
nitu.patil4321@gmail.com

Check Also

शादी के बीस दिन बाद -2

Shadi Ke Biisa din Baad-2 कहानी का पिछला भाग :-  शादी के बीस दिन बाद -1 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *