Home / बाप बेटी की चुदाई / मुझे किस किस ने चोदा-4

मुझे किस किस ने चोदा-4

Mujhe Kis Kis Ne Choda- Part 4

मेरी सेक्स स्टोरी हिंदी के पिछले भाग
मुझे किस किस ने चोदा-3
में अभी तक आपने पढ़ा कि मेरे ही घर में मैं सोने का नाटक कर रही थी और मेरी भाभी के पापा और उनके दो दोस्तों ने मुझे नंगी कर लिया था और मेरे बदन से खेल रहे थे.
अब आगे:

उधर सामने से सुरेश अंकल ने पैरों के अंगूठे से चूमना शुरू किया और फिर मेरे अंगूठे को चूसने लगे, थोड़ा ऊपर मेरे दोनों पैरों को चाटते हुए ऊपर तरफ आने लगे. जैसे ही ऊपर जांघों तरफ उनकी जीभ पहुंची, मैं बिल्कुल उत्तेजित हो गई, लगा बोल दूं कि अब नहीं बर्दाश्त हो रहा! प्लीज चोदो!
पर पता नहीं कैसे ना बोल पाई, मेरी जांघों को अपनी जीभ से चाटते हुए और थोड़ा टांग फैला के मेरी चूत के बगल से जो झांट के बाल हैं, उन बालों को अपनी जीभ से सहलाने लगे, और जो मेरी चूत के बीच की रेखा होती है, उस पर भी जीभ से धीरे धीरे चाटने जैसे लगे. अब मैं बिल्कुल तड़प उठी अंदर से!
तभी और ऊपर मेरे पेट को चाटने लगे, पूरे पेट पर जीभ चलाने लगे और नाभि को बहुत चूमने लगे. जैसे ही नाभि को चूमते हुए नाभि के अंदर अपनी जीभ डाल दी, मेरे मुंह से सिसकारी निकल गई.

इसके बाद मेरी छाती के पूरे हिस्से को चाटने लगे और चूमने लगे, दोनों बूब्स पर अपनी जीभ चलाते हुए जो मेरे पिंक कलर की नुकीली चूचियां हैं, उन पर धीरे धीरे जीभ चला रहे थे, मैं बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी.
तभी सुरेश अंकल बोले- राजेंद्र ऐसा करते हैं कि मैं आरती की चूत को और तुम इसकी गांड को जम के चाट कर गीला करते हैं, जबरदस्त दोनों तरफ से चूमते चाटते हैं.
और भाभी के पापा को बोले- तुम इसके होंठों को चूमते रहो और बीच-बीच में इसके बूब्स दबा कर चूसना, फिर देखना यह कैसे नहीं उठेगी, बहुत बड़ी रंडी है बहुत बड़ी छिनाल है आरती! इतने में कोई लड़की बर्दाश्त नहीं कर पाती और चुदवाने के लिए तड़प उठती है, पर गजब है तुझे आरती तो तू जबरदस्त माल है, तेरा गजब का स्टेमिना है!

ऐसा कहते हुए तीनों अंकल एकदम से टूट पड़े और सुरेश अंकल मेरी टांगें चौड़ी कर अपनी पूरी जीभ को अन्दर मेरी चूत में डाल कर कुत्ते की तरह चाटने लगे. मैं बिल्कुल नंगी तड़पने लगी.
ऐसे ही राजेंद्र अंकल ने पीछे मेरे कूल्हों को फैलाकर मेरी गांड में अपनी जीभ घुसा दी, मैं जोर से उंहहह बोली.
तभी भाभी के पापा बोले- आरती ने ‘ऊं हहह’ बोला.
सुरेश अंकल बोले- रुको, अभी 5 मिनट 10 मिनट में देखना, यह चिल्लाएगी कि मुझे चोद दो… बस और कुछ नहीं!

तभी भाभी के पापा पूरी ताकत से मेरे दोनों बूब्स को जोर-जोर से खींच के दबाने लगे और अपने होंठ मेरे होठों पर रख दिए, अपनी नाक मेरी नाक से और होंठ से होंठ चिपका दिए, उनकी गर्म सांसें मेरे अंदर जाने लगी, मैं तड़पने लगी, अब मैं नहीं रूक सकती थी, मैं बिल्कुल बोलने वाली थी कि तभी एकदम से आवाज आई- समधी साहब, अकेले अकेले आइटम की चुदाई कर रहे हो?
यह आवाज मेरे पापा की थी, मैं बिल्कुल डर के मारे कांप गई, वे लोग भी फटाफट उठे, तीनों अंकल खड़े हो गए और मैं पीठ ऊपर करके पेट के बल बिस्तर, मुंह मेरा ना दिखे, इस तरह से लेट गई, लेकिन डर इतना लगा कि बोल नहीं सकती, मुझे लगा कि अब तो मर गई, आज नहीं बचूंगी, ना मैं मुंह दिखाने लायक रहूंगी किसी को!

तभी पापा लड़खड़ाते हुए बोले- यही सरप्राइज दे रहे थे क्या? सॉरी मैं लेट हो गया!
भाभी के पापा बोले- समधी साहब, आप बहुत पिए हुए हैं, हम लोगों ने भी ड्रिंक पिया पर आपका इंतज़ार कर रहे थे, आप बहुत लेट हो गये, हम लोगों का मन था कि आज आपके साथ ही पीते और आपके साथ ही करते कुछ! आपके बिना कर लिया समधी साहब, माफ करना!
पापा बोले- कोई बात नहीं, चलता है, गलती मेरी है, पहले यह बताओ कि यह जो सरप्राइज़ है, मेरे लिए लाये हो? बहुत मस्त माल दिख रही है, क्या मस्त उठी हुई गांड है इसकी! अगर आप लोग बोलो तो इसकी गांड मारना चाहूंगा।
पापा बोले- एकाध पैक और बचा हो तो दारू लाओ!
तुरंत भाभी के पापा ने बोला- राजेंद्र, तुरन्त समधी साहब के लिए दारू लाओ, अभी तो रखी है!

एक ग्लास में पापा के लिए भर के दारू लाए, पापा ने दारू पीकर बोला- तुम लोग सब नंगे खड़े हो, मैं भी उतार लूं अपने कपड़े, हो जाऊं नंगा बुरा मत मानना!
और पापा ने अपने कपड़े उतार लिये, अभी उन्हें यह भी नहीं पता था कि यह लड़की जो नंगी लेटी है वह उनकी बेटी है आरती।
पापा बिना जाने मुझे चोदने के लिए तैयार हो गए, बोले-थोड़ी सी दारू और लाओ, इसकी मस्त गांड में डाल कर गर्म गांड से निकली दारू पीऊंगा!

और सीधे मेरे ऊपर पापा चढ़ गए मेरे पिछवाड़े पे, दारू मेरे कूल्हों में डाल कर चाटने लगे.
तभी सुरेश अंकल बोले- क्या गजब स्टाइल है आपका समधी साहब!
पापा मेरे ऊपर चढ़ गए… यह सोच कर मेरी नसों में अजीब सी सिरहन दौड़ गई.
भाभी के पापा बोले- आपकी अनुपस्थिति में हम लोगों ने सिर्फ इसे गर्म किया है। पहले आप इसे अपने स्टाइल में चोदें, यह बाजारू छिनाल नहीं है.
भाभी के पापा बोले- मान लो जैसे यह मेरी बेटी है, मैं सच बताऊं यह घर का ही माल है, रंडी नहीं है यह!

सुरेश अंकल बोले- मैंने अपनी सगी बेटी को एक बार उसके दोस्त के साथ चूमा चाटी करते देख लिया था, मैंने उसे मारा और चाकू लेकर पूछा डरा कर- किसी के साथ सेक्स किया?
उसने सच बोला- हां!
मैंने पूछा- कितनी बार?
“8-10 बार!”
मैंने पूछा- कितनों के साथ?
वो बोली- तीन लोगों के साथ!
मैं समझ गया कि मेरी बेटी बहुत प्यासी है, बाहर किसी न किसी से ये चुदेगी ही, रोके रूकेगी नहीं तो मैंने उसे उसी रात जाकर जम के चोद दिया. पहले मेरी लड़की घबरा रही थी, मना कर रही थी रिश्ते के संकोच में… पर जैसे ही मैंने उसे चोदना शुरू किया, वह जबरदस्त जोश में आ गई, मुझ से झूम के, जम के चुदवाई और स्टीसफाइड भी हुई, मुझे ‘थैंक यू पापा’ बोली और अब मैं भी ओर मेरे खास दोस्त इन्जवाय करते हैं।

सुरेश अंकल मेरे पापा से बोले- समधी साहब, आप बुरा ना मानो तो एक बात बोलूं?
पापा बोले-आप आज कुछ भी बोल सकते हो!
तो सुरेश मेरे पापा से बोले- तुम्हारी लड़की आरती बहुत जबरदस्त है, ध्यान दिया है, उसका जो फिगर है, वो चुदाई के बाद ही बनता है, किसी न किसी से तो चुदाई करवातीहोगी।
पापा बोले- हां यार, सच बोल रहे हो, मैंने कभी काम के चक्कर में ध्यान ही नहीं दिया, किसी ना किसी ने तो फंसाया होगा मेरी आरती को!

तभी अंकल ने मोबाइल पर अपने मेरी फोटो दिखाई पापा को, पापा फोटो देखते ही जो बोले, मैं सोच नहीं सकती थी, पापा बोले- ये आरती तो एक नम्बर की आइटम गर्ल है, यह न जाने कितनों के लंड लेती होगी! यार आरती को देखकर अब उसे ही चोदने का बहुत मन कर रहा है। मैं आरती को चोदूंगा!
तभी भाभी के पापा बोले- बहुत गर्म लगती है आपकी बेटी आरती!
पापा बोले- ले आओ कैसे भी आरती को समधी साहब! आप किसी बहाने से ला सकते हैं?

इतने में राजेंद्र बोले- पहले इसे चोदो जिसके ऊपर चढ़े हो! तब तक आरती भी आपके बिस्तर में होगी.
पापा बोले- सच?
अंकल बोले- वादा आपसे!
मेरे पापा बोले- मैं आज तक नहीं बोला, तो बोल नहीं सकता आरती से, अगर आप बुला दो तो आज जो मांगोगे दे दूंगा.

तभी भाभी के पापा बोले- आप इसको चोदो, आरती आपको अभी मिलेगी, बस समधी साहब इतना करना कि हम लोगों से भी आरती को चुदवा देना!
पापा बोले बिना सोचे बोले- पक्का समधी साहब, आप लोग मेरे से पहले आरती को चोद लेना, और जब मन पड़े तब चोदना वो आपकी!
मैं यह सुन कर हैरान-परेशान… क्या बाप हैं आजकल के, नशे और सेक्स के जोश में बेटी को सबसे चुदाई करवा देते हैं।

तभी मेरे पापा मेरे कूल्हों को फैला कर चाटने लगे और बोले- क्या मस्त माल है, ये भी मस्त खुशबू है इसके गांड की!
बहुत दारु पिए थे, उनको कुछ होश नहीं था, मेरी गांड को चाटते हुए पीठ तरफ से ही हाथ डाल कर मेरे दूध पकड़ के पूरी ताकत से दबा दिया और बोले- क्या गजब का माल है।
मुझे बोले- अबे साली कुतिया, थोड़ा गांड ऊपर उठा!

मैंने अपनी गांड ऊपर उठा दी. जैसे ही पापा का लंड मेरी गांड के छेद में टच हुआ, मैं एक्साइटेड हो गई, पापा मुझसे पूरा पीछे से लिपट गये, बहुत सारा थूक मेरी गांड में लगा दिया. अब अपने लंड को सेट किया, मेरे कूल्हों को फैलाया, सीधे गुदा के छेद में फिट करके पूरी ताकत से अंदर लंड डाल दिया.
जैसे ही उनका लंड उनकी बेटी की गांड को चीरता हुआ अन्दर घुसा, मैं जोर से चिल्ला उठी. बहुत दर्द हो रहा था, लगा कि मर गई मैं… मेरी जान निकल गई.

पर पापा को कोई फर्क नहीं पड़ा, मैं जोर से रोने लगी, तब पापा बोले- यार इसकी आवाज जानी पहचानी लगती है!
भाभी के पापा बोले- बहुत रो रही है ये, थोड़ा निकाल लो अपना लंड बाहर!
पापा बोले- अगर लंड दर्द ना दे लड़की के आंसू और चीख ना निकाले तो वो मर्द कैसा और वो लंड कैसा, रोने दो कुतिया को!
बोले- क्या जबरदस्त माल लाए हो यार, बहुत मस्त… बहुत ही मस्त है। इसकी गांड बहुत टाइट है, इसकी उम्र कितनी होगी?
राजेंद्र अंकल बोले- अभी 20 साल की है।
“तभी इतना रो रही है पर इसकी गांड बहुत टाइट और जबरदस्त है… साली को अभी थोड़ी देर में बहुत मजा आएगा, बहुत इंजवाय करने वाली है” और जम के धक्के पापा लगाने लगे, पूरा लौड़ा अन्दर गांड में घुसा कर फिर बाहर निकालते, जमकर चोदने लगे और गालियां गंदी गंदी देते जा रहे थे.
पापा बहुत नशे में और बहुत एक्साइटेड थे, उनकी बात सच निकली और करीब 5 मिनट बाद ही सच में दर्द धीरे-धीरे गायब होने लगा मेरा, अब मैं एंजॉय करने लगी.
तभी पापा उन लोगों को बोले- तुम लोग भी आ जाओ, तीनों लोग मिल कर चोद लो!

सुरेंद्र अंकल सामने आ गए और अपना लंड मेरे मुंह में डाल दिया, मैं फुल जोश में चूसने लगी, उधर पापा मेरी गांड चोदे जा रहे थे.
भाभी के पापा बोले मेरे पापा को- क्या मस्त लंड है आपका समधी साहब, कोई आज के लड़कों का भी नहीं होगा, जबरदस्त चोद रहे हैं, क्या स्टेमिना है आपका, जबरदस्त… आपका जवाब नहीं है। अब आपको एक जादू दिखाऊं?
मेरे पापा बोले- दिखाइए समधी साहब!

भाभी के पापा बोले- आप एक मिनट के लिए आँख बंद करिये और आरती आपकी टांगों के नीचे!
पापा बोले- सच? ऐसा होगा तो लो कर ली आँखें बंद!
दो मिनट बाद भाभी के पापा बोले- समधी साहब, आँखें खोल दीजिए, आपकी आरती डार्लिंग आपकी टांगों के नीचे है.
पापा बोले- मजाक कर रहे हैं आप!
तभी भाभी के पापा बोले- आप उठो और देखो अपनी टांगों के नीचे… देखिए, फिर बोलिए!
पापा तुरंत मेरी गांड से लंड निकाल कर उठे और मुझे सीधा किया, जैसे ही मेरे चेहरे को देखा, एकदम पापा चुप…
मैंने तो शर्म के मारे आँखें बंद कर ली थी.
पापा को चुप पाकर मैं घबरा गई, मन में डर सा लगने लगा कि तभी पापा बिल्कुल मेरे ऊपर लेट गये, उनका सीना मेरे सीने से चिपक गया, उनकी कमर मेरे कमर के ऊपर और पापा का मुंह मेरे चेहरे पर और सीधे पापा मेरे होंठों को चूमने लगे.
अब मेरा पूरा डर खत्म हो गया, मुझे राहत की सांस लेने का मौका मिला, अब मेरे अंदर सिर्फ जिस्म की भूख बची थी.

पापा मुझसे बोले- आरती आँखें खोलो!
पर मुझे पापा से आँख मिलाने में बहुत शर्म आ रही थी.
फिर से पापा बोले- प्लीज मेरी जान, आँखें खोलो, मुझे देखो!
मैंने अपनी आँखें खोली और पापा एकटक मेरी आँखों में आँखें डाल कर मुझे देखते रहे, मै भी बिना पलक झपकाए पापा को देखती रही पापा बिल्कुल बॉयफ्रेंड की तरह मुझसे लिपट गये और मेरे होठों को फिर से जोर से चूमने लगे.
मैं भी पापा से लिपट गई.

पापा बोले- आई लव यू आरती, आई लव यू सो मच!
मैं भी उनको बाहों में भर के ‘आई लव यू पापा’ बोली.
तो पापा बोले- आरती, मुझे डार्लिंग या राजा बोलो!
मैं बोली- आई लव यू मेरे राजा!
और पापा से चिपक गई.

पापा अपना लंड पकड़ कर मेरे चूत में फिट करने लगे, मुझसे बोले- आरती मेरी जान, मैं तुमको चोदना चाहता हूं!
मैं बोली- प्लीज चोद दो मुझे, अपना लंड मस्त डाल दो मेरी चूत में!
पापा बोले- सच बता, आज तक किसी से चुदवाई हो?
मैंने बोला- हां पापा, मैंने आज से पहले कई बार चुदवाया है, पर आज से आपसे चुदाई कराऊंगी और जिससे आप बोलोगे, उनसे चुदवाऊंगी.
इतना सुनते ही पापा ने पूरे जोर से मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया, बोले- थैंक यू आरती! तो आज से तू मेरी गर्लफ्रेंड भी है और मेरी बेटी भी! सबके सामने बेटी रहना, और जैसे ही अकेले मौका मिले, मेरी गर्लफ्रेंड बन जाना!
मैं बोली- सबके सामने भी आपकी गर्लफ्रेंड रहूंगी!
और मैं उनके होठों को काटने लगी, मुझे बहुत जोश आ गया था।

मेरी सेक्स स्टोरी हिंदी जारी रहेगी.
aartis151994@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *