Home / ऑफिस सेक्स / मोऽ से छल किये जा … सैंयां बे-ईमान-5

मोऽ से छल किये जा … सैंयां बे-ईमान-5

Mose Chhal Kye Ja…..O Saiya Beiman-5

लेखक : प्रेम गुरु

मेरी पिछली कहानी” मोऽ से छल किये जा … सैंयां बे-ईमान-4

“हाँ एक अनोखा आनंद जो शायद तुमने आज से पहले ना तो कभी सुना होगा और ना ही कभी लिया होगा ?”

“क … क्या … मतलब ?”

“अगर मुझ पर विश्वास करती हो और थोड़ी सी अपनी शर्म को छोड़ दो तो मैं तुम्हें सम्भोग के अलावा एक और आनंद से परिचित करवा सकता हूँ ?”

अब तुम मेरी उत्सुकता को समझ सकती हो। मैंने अपनी मुंडी हिला कर हामी भर दी तो श्याम ने कहा।

“तुम अभी सु सु को थोड़ा सा रोक लो और पहले अपनी मुनिया को ठीक से साफ़ करके धो लो”

“क्या मतलब ?”

ओह … मैं जैसा कहूं प्लीज करती जाओ और फिर तुम मेरा कमाल देखना ?”

अब हम दोनों शावर के नीचे आ गए। मुझे संकोच भी हो रहा था और लाज भी आ रही थी पर मैंने अपनी मुनिया और जाँघों को पहले पानी से धोया और फिर साबुन लगा कर साफ़ किया। श्याम ने भी अपना “वो” साबुन और पानी से धो लिया।

अब मैंने उसकी ओर प्रश्नवाचक निगाहों से ताका। वो मेरे पास आकर पंजों के बल उकडू होकर बैठ गया। अब उसका मुँह ठीक मेरी मुनिया के होंठों के सामने था। उसकी गर्म साँसें मैं अपनी मुनिया पर महसूस कर रही थी। मुझे जोर से सु सु आ रहा था पर मैं किसी तरह उसे रोके हुए थी।

उसने मेरी जाँघों के बीच अपने दोनों हाथ डाल कर उन्हें चौड़ा करने का प्रयत्न किया। मुझे शर्म भी आ रही थी पर मैंने अपनी जांघें थोड़ी सी चौड़ी कर दी। अब उसने दोनों हाथों से मेरी कमर पकड़ कर अपनी और अपने होंठ मेरी मुनिया पर रख दिए। इस से पहले कि मैं कुछ समझूं उसने गप से मुनिया का ऊपर भाग अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया। मेरे लिए तो यह अप्रत्याशित सा था। फिर उसने अपनी जीभ से ही मुनिया की दोनों फांकों को चौड़ा किया और जीभ की नोक से मदनमणि को टटोला। मेरी तो जैसे किलकारी ही निकल गई। मेरे हाथ अपने आप उसके सिर पर चले गए और अनजाने जादू में बंधी मैंने उसके सिर को अपनी मुनिया की ओर दबा दिया। उसने मेरी मदनमणि को दांतों से होले से दबा दिया तो मेरी रोमांच से भरी चींख निकलते निकलते बची। अब मेरे लिए अपने आप को रोक पाना कहाँ संभव था। मेरी सु सु की पतली धार निकल पड़ी। उसने मदनमणि के दाने को नहीं छोड़ा। मुझे तो एक नए रोमांच और आनंद में डुबो गया उसका यह चूसना और सु सु का निकलना।

मेरा सु सु उसके मुँह से होता गले सीने और नीचे तक बहने लगा। कोई आधे मिनट तक मैं इसी प्रकार सु सु करती रही। तब उसके मुँह से गूऊउ … उन्न्न्नन्न ….. की आवाज ने मेरा ध्यान खींचा। वो मुझे रुकने को कह रहा था। इस स्थिति में सु सु को रोकना बड़ा कठिन था पर मैंने उसे रोक लिया।

श्याम ने अपना मुँह हटा लिया और अपने होंठों पर अपनी जीभ फेरता हुआ बोला,”मीनू अब तुम फर्श पर उकडू होकर बैठ जाओ और अपनी जांघें जोर से भींच लो।”

मैंने वैसा ही किया। मैंने अपनी जांघें भींच लीं और अपनी रानी (गुदा) और मुनिया का एक बार संकोचन किया। आह … एक मीठी सिहरन से मेरे सारे रोम ही जैसे खड़े हो गए। उसने आगे कहा “अब तुम अपनी जांघें धीरे धीरे खोलो और अपने दोनों हाथों की अँगुलियों से अपनी मुनिया की पंखुड़ियों को खोलो और फिर तेजी से सु सु की धार छोड़ो”

मुझे कुछ अटपटा सा भी लग रहा था और शर्म भी आ रही थी पर मैंने उसके कहे अनुसार किया। मेरी मुनिया से एक ऊंची और पतली सी सु सु की धार निकली जो कम से कम 3 फूट दूर तो अवश्य गई होगी। कल कल करती सु सु की धार चुकंदर सी रक्तिम रोम विहीन मुनिया के मुँह से फ़िश्श …. सीईईइ … का सिसकारा तो बाथरूम के बाहर भी आसानी से सुना जा सकता था। श्याम की आँखें तो इस दृश्य को देख कर फटी की फटी ही रह गई। एक मिनट तक तो वो मुँह बाए इस मनमोहक दृश्य को देखता ही रहा। फिर उसे जैसे कुछ ध्यान आया,”ओह … मीनू रुको प्लीज !”

मुझे सु सु करने में आज से पहले कभी इतना आनंद नहीं आया था। मैंने अपना सु सु रोक लिया और उसकी ओर देखा तो वो फिर बोला “अरे यार बीच बीच में रोक कर इसकी धार छोड़ो ना ?”

ओह … ये श्याम तो आज मुझे लज्जाहीन (बेशर्म) करके ही सांस लेगा। मैंने 4-5 बार अपने सु सु को रोका और फिर छोड़ा। आह।। यह तो बड़ा ही आनंददायक खेल था। बचपन में मैंने कई बार अकेले में या अपनी सहेलियों के साथ यह खेल खेला था पर उस समय इन सब बातों का अर्थ और आनंद कौन जानता था। सच है खुजली को खुजलाने और सु सु को रोक रोक कर करने में अपना ही आनंद है।

फिर सु सु की धार और उसका सिसकारा मंद पड़ता गया और अंत में मैंने अपना पूरा जोर लगा कर अंतिम धार को छोड़ा तो वो कम से कम कम 2 फ़ुट तो अवश्य ऊपर उठी होगी। यह तो उसके लिए सलामी ही थी ना ?

मैं अब उठ खड़ी हुई। जैसे ही मैं खड़ी हुई उसने नीचे झुक कर एक बार मेरी मुनिया को चूम लिया।

“ओह परे हटो ! गंदे कहीं के ?”

“अरे मेरी मैना रानी प्रेम में कुछ भी गन्दा नहीं होता।” और उसने मुझे अपनी बाहों में भर लिया।

अब हम आपस में गुंथे हुए शावर के नीचे आ गए। मेरा तो तन, मन और आत्मा सब आज जैसे शीतल ही हो गया था। मैं झूम झूम कर पहले तो बारिश में नहाई थी अब शावर के नीचे गुनगुने पानी से नहा रही थी।

जैसे ही मैं घूमी तो उसने मुझे पीठ के पीछे से अपनी बाहों में भर लिया। हे … भगवान् मेरा तो ध्यान इस ओर गया ही नहीं था। उसका “वो” तो फिर से फनफनाने लगा था। मैं उसे अपने नितम्बों की खाई में स्पष्ट अनुभव कर रही थी। एक नए रोमाच से मैं भर उठी। उसने मेरे दोनों उरोजों को पकड़ लिया। उनके चूचक तो इस समय इतने कड़े हो गए थे जैसे कि वो कोई मटर के दाने हों। अपनी चिमटी में लेकर वो उन्हें मसलने लगा। मैं अपने पंजों के बल थोड़ी सी ऊपर हो गई तो उसका “वो” फिसल कर मेरी जाँघों के बीच से होता मुनिया का मुँह चूमने लगा। उसका सुपारा मेरी मुनिया और जाँघों के बीच नज़र आ रहा था। मैंने झट से अपनी जांघें कस लीं। अब तो वो चाह कर भी अपने इस डंडे को नहीं हिला सकता था। मैंने अपने हाथ ऊपर उठा दिए और उसका सिर पकड़ने का प्रयास करने लगी। उसने अपनी मुंडी नीचे की तो उसकी गर्म साँसें मेरे चहरे और कानों पर पड़ी। मेरा तो रोम रोम ही पुलकित हो रहा था जैसे। काश समय रुक जाए और हम अपना शेष जीवन इसी तरह एक दूजे की बाहों में समाये बिता दें।

“मीनू कुछ बोलोगी नहीं ?”

“ओह … श्याम मेरे साजन अब मैं क्या बोलूँ ? तुमने मुझे आज तृप्त कर दिया है। मेरा तन मन और प्रेम की प्यासी यह आत्मा तो धन्य हो गई है आज। बस मुझे इसी प्रकार अपनी बाहों में लिए प्रेम किये जाओ मेरे प्रियतम ”

“मीनू एक और आनंद लोगी ?”

“क … क्या ? कैसा आनंद ?” मैं विस्मित थी अब कौन सा आनंद बाकी रह गया है ?

“तुम अब थोड़ा सा आगे झुक कर वाश बेसिन को पकड़ लो ?”

मैं डर रही थी कहीं वो कुछ उल्टा सीधा करने के चक्कर में तो नहीं है ? मैंने कहा “क… क्या मतलब ?”

“ओह … मैनाजी एक बार मैं तुम्हें नए आसन में उस आनंद की अनुभूति करवाना चाहता हूँ ?”

मैंने शावर को बंद कर दिया और वाशबेसिन के ऊपर हाथ जमा कर थोड़ी सी झुक गई जिससे मेरे नितम्ब थोड़े ऊपर हो गए। मेरे नितम्बों की खाई तो जैसे चौड़ी होकर अपना खजाना ही खोल बैठी थी। मेरे उरोज तो सिन्दूरी आमों की तरह नीचे झूल से गए। उनके बीच पड़ा मंगलसूत्र किसी घड़ी के पैंडुलम की तरह हिलाता मेरा मुँह चिढ़ा रहा था जैसे। श्याम मेरे पीछे आ गया और उसने मेरे गीले नितम्बों पर अपने हाथ फिराए। आह … मेरी मुनिया तो एक बार फिर पनिया गई। मैं जानती थी उसका “वो” भी तो अब फिर से लोहे की छड़ बन गया होगा।

उसने अपना मुँह मेरे नितम्बों की खाई में लगा दिया। उन पर रेंगती गर्म साँसे अनुभव कर के मेरी तो सीत्कार ही निकल गई। उसने दोनों हाथों से मेरे नितम्बों को चौड़ा किया और फिर अपने होंठों को मेरी मुनिया की फांकों से लगा दिया। फिर जीभ से उसे चाटने लगा। ऐसा नहीं था की वो बस मुनिया को ही चाट या चूम रहा था वो तो अपनी जीभ से मेरी मुनिया के आस पास का कोई भी स्थान या अंग नहीं छोड़ रहा था। जैसे ही उसकी जीभ ने मेरी रानी (गुदाद्वार) के सुनहरे छिद्र पर स्पर्श किया मेरी ना चाहते हुए भी एक किलकारी निकल गई और मेरी मुनिया और रानी ने एक साथ संकोचन किया और मेरी मुनिया ने अपना काम रज छोड़ दिया। मुनिया बुरी तरह पनिया गई थी। उसने बारी बारी मेरी दोनों जाँघों को भी चूमा और चूसा।

अब श्याम की बंसी भी बजने को तैयार ही तो थी। उसने उसपर थूक लगाया और मेरी मुनिया की फांकों को एक हाथ से चौड़ा कर के अपना कामदंड मेरी मुनिया के छेद पर टिका दिया और मेरी कमर पकड़ ली। आह … इतने रोमांच के क्षणों में मैं भला अपने आप को कैसे रोक पाती मैंने पीछे की ओर एक हल्का सा धक्का लगा दिया। उसका पूरा का पूरा कामदंड मेरी मुनिया में समां गया। आह … इस लज्जत और आनन्द को शब्दों में तो वर्णन किया ही नहीं जा सकता।

उसके धक्के चालू हो गए। मेरी मुनिया से फच्च …फच्च … का मधुर संगीत बजने लगा। मैंने एक हाथ से अपनी मदनमणि को रगड़ना चालू कर दिया। रोमांच की पराकाष्ठा थी यह तो। उसने एक हाथ से मेरी कमर पकड़े रखी और दूसरे हाथ से मेरा एक उरोज अपने हाथ से मसलना चालू कर दिया। मुझे तो आज पहली बार तिहरा आनंद मिल रहा था। मैं चाहती थी कि वो जोर जोर से धक्के लगाता ही जाए भले ही मेरी मुनिया का सूज सूज कर और दर्द के मारे बुरा हाल हो जाए। आह … इस मीठी सी जलन और पीड़ा में भी कितना आनंद है मैं कैसे बताऊँ।

“ऊईई … मा…आ….. ….. ओह … मेरे श्याम … मेरे साजन …. इस्स्स्सस ……”

“मेरी मैना, मैंने कहा था ना मेरे मेरे कि मैं तुम्हें प्रेम की उन ऊँचाइयों (बुलंदियों) पर ले जाऊँगा जिसे ब्रह्मानंद कहा जाता है !”

“ओह … श्याम ऐसे ही करते रहो ….आह्ह … थोड़ा जोर से … आह्ह … ऊईई … मा… आ … आ … “

उसके धक्के तेज होने लगे। मेरी मुनिया तो काम रस बहा बहा कर वैसे ही बावली हुए जा रही थी। मेरे मस्तिष्क में जैसे कोई सतरंगी तारे से जगमगाने लगे और शरीर अकड़ने सा लगा और उसके साथ ही मेरा स्खलन हो गया। श्याम के धक्के अब भी चालू थे। उसने एक हाथ से मेरे नितम्बों पर थपकी लगानी शुरू कर दी। मैं जानती थी कि इन थप्पड़ों से मेरे नितम्ब लाल हो गए होंगे पर इस चुनमुनाती पीड़ा की मिठास और कसक भला मेरे अलावा कोई कैसे जान सकता है। हमें कोई 20-25 मिनट तो अवश्य हो गए होंगे। जब उसका “वो” अन्दर जाता तो मैं अपनी मुनिया और रानी (योनि और गुदा) का संकोचन करती और पीछे की और हल्का सा धक्का लगा देती। इससे उसका उत्साह बढ़ जाता और वो फिर दुगने उत्साह और वेग से धक्के लगाने लगता। हम दोनों ही लयबद्ध ढंग से आपस में ताल मिला रहे थे जैसे।

मेरे पैर और कमर अब दुखने लगे थे। उसकी साँसें भी उखड़ने सी लगी थी। मुझे लगा कि अब वो अधिक देर नहीं रुक पायेगा। मैंने अपनी मुनिया का संकोचन बंद कर उसे ढीला छोड़ दिया। मैंने अपने पैर ठीक से जमा लिए और अपनी जांघें चौड़ी कर दी। चरमोत्कर्ष के इन अनमोल क्षणों में मैं उसे पूर्ण सहयोग देना चाहती थी। मैं भला अपने और उसके आनंद में कोई रुकावट क्यों डालती। अब तो वो बड़ी आसानी से अन्दर बाहर हो रहा था। अचानक उसके मुँह से गुरर्र … गूं… की आवाजें आने लगी। मैं समझ गई उसका सीताराम बोलने का समय आ गया है।

उसने मेरी कमर जोर से पकड़ ली और जोर जोर से धक्के लगाने लगा। मैं आँखें बंद किये उस चरमोत्कर्ष को महसूस करती रही। आह … स्वर्गीय आनंद अपने चरम बिन्दु पर था। हम दोनों की मीठी सिसकारियां पूरे बाथरूम में गूँज रही थी। मैंने अपने गुदाज नितम्बों को उसके पेडू और जाँघों से रगड़ना चालू कर दिया और उसके तीव्र होते प्रहारों के साथ ताल मिलाने लगी। उसने मेरी सुराहीदार गरदन पर एक चुम्बन लिया और फिर एक हाथ नीचे ले जाकर मेरी मुनिया के दाने को अपनी चिमटी से पकड़ लिया। मेरी तो सिसकारियां ही निकालने लगी। उसका कामदंड मेरी योनि में फूलने और सिकुड़ने लगा। मेरी मुनिया ने एक बार फिर संकोचन किया जैसे कि वो उसे पूरा ही निचोड़ लेना चाहती थी।

मुनिया ने एक बार फिर पानी छोड़ दिया और उसके साथ ही पिछले आधे घंटे से कुलबुलाता मोम पिंघल गया। उसके गर्म और गाढे वीर्य की पिचकारियाँ अन्दर निकलती चली गई और हम दोनों ही उस परम आनंद को महसूस करते तरंगित होते रहे। उसने झड़ते समय मीठी मीठी सिसकारियों के साथ मेरी गरदन और पीठ पर चुम्बनों की झड़ी सी लगा दी थी। मैं तो बस आँखें बंद किये उस प्रेम आनंद में डूबी ही रह गई।

2-3 मिनट ऐसे ही एक दूसरे से चिपके रहने के बाद उसका कामदंड फिसल कर बाहर आ गया और उसके साथ ही मेरी मुनिया से भी उसके वीर्य और मेरे कामरज का मिश्रण बाहर निकालने लगा। मैं नीचे बैठ गई और नल खोल कर अपनी मुनिया को साफ़ करने लगी। उसने भी अपने “उसको” धो लिया। आह … सिकुड़ने के बाद भी वो कम से कम 4-5 इंच का तो अवश्य होगा। उसका सुपारा तो अभी भी लाल टमाटर की तरह फूला सा ही लग रहा था। मेरा मन उसे चूम लेने को करने लगा पर स्त्री सुलभ लज्जा के कारण मैं तो बस ललचाई आँखों से उसे देखती ही रह गई। काश श्याम एक बार मेरे मन की बात समझ लेता और मुझे इसे अपने मुँह में लेकर चूसने या प्यार करने को कह देता तो तो अपनी सारी लाज शर्म त्याग कर उसे पूरा का पूरा अपने मुँह में भर लेती। पता नहीं इस श्याम ने मुझ पर क्या जादू या टोना कर दिया है।

सूखे तौलिये से हमने अपने शरीर पोंछे और उसने मुझे फिर अपनी बाहों में भर कर गोद में उठा लिया और हम फिर से कमरे के अन्दर आ गए।

आपके मेल की प्रतीक्षा में ……

प्रेम गुरु और मीनल (मैना रानी)

 

Check Also

यूँ फंसी चक्कर में मैं

Yuun Fansi Chakker me Mai दोस्तो, मेरा नाम सुलक्षणा है, 38 साल की गोरी चिट्टी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *