Home / भाई बहन / मेरी मौसेरी बहन तो रंडी निकली

मेरी मौसेरी बहन तो रंडी निकली

Meri Mauseri Behan To Randi Nikli

भाई बहन सेक्स की इस कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने मौसी की लड़की को पड़ोसी लड़के के साथ सेक्सी हरकतें करते देखा तो उसकी पोल मेरे सामने खुल गई और मुझे भी बहन की चूत मिल गई!
मेरा नाम अभिमन्यु चौधरी है, मैं हरियाणा का रहने वाला हूं.

यह बात उन दिनों की है जब मैं मौसी के घर पर रहता था और वहीं पर पढ़ाई भी करता था. उस वक्त मेरी उम्र 19 साल थी, और मौसी की लड़की 20 साल की थी।
मुझे उस पर शक तो बहुत पहले से था कि इसका कोई ब्वायफ्रेंड है, पर कभी पता ही नहीं चला!

एक दिन मैं कोलेज से घर जल्दी आ गया, मुझे बहुत जोर से भूख लगी हुई थी. मैं आपको बताना भूल ही गया मेरी मौसी सरकारी स्कूल में टीचर है और मोसा जी बैंक में हैं तो तो दोनों शाम को ही घर आते हैं.
मैं आपनी बहन शानवी को ढूँढ रहा था, पर मुझे वो कहीं दिखाई नहीं दे रही थी।

मैं उसे खोजते खोजते ऊपर चला गया। बस फिर जो मैंने ऊपर देखा, मैं देखता ही रह गया।

आप लोग भी नहीं सोच सकते कि मेरी बहन शानवी पड़ोस वाले राहुल की गोद में बैठी हुई किस करे जा रही थी।

एक बार तो मैंने सोचा अभी जाकर दो थप्पड़ लगाता हूं पर मैंने फिर सोचा मेरी भी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है तो क्यों ना मैं भी हाथ साफ कर लूं!
तो फिर मैंने वैसा ही किया।
मैंने अपना फोन निकाला और वीडियो बनाना चालू कर दिया, ये सब अपनी आँखों के सामने देख अब मेरा लंड भी फनफना रहा था।

अब मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ और सीधा आपनी बहन शानवी के पास पहुंच गया, मैं थोड़ा नाटक करते हुए बोला- ये सब क्या हो रहा है?
मुझे देखते ही शानवी के होश उड़ गए और कहने लगी- किसी को कुछ मत बताना… नहीं प्लीज… नहीं तो पापा बोहत मारेंगे।

इतनी देर में राहुल मोके का फायदा उठाकर भागने लगा पर मैंने साईड से डंडा उठाकर उसे 3-4 बार मारा, पर वो भागने में सफल हो गया।
अब शानवी भी जानबूझ कर रोने लगी और बोलने लगी- भाई, मुझसे गलती हो गई, अब दुबारा ऐसा कभी नहीं होगा।
पर मैं मन मन में सोच रहा था कि अब तो ऐसे रोज होगा पर मेरे साथ!

तब शानवी बोली- भाई, प्लीज तुम मम्मी पापा को कुछ बताओगे तो नहीं ना?
अब मैं भी थोड़ा गुस्से में बोलते हुए उसका मुंह पकड़ लिया ओर कहा- तुम पड़ोसियों से चुदाई तक करवा लो और मैं किसी को कुछ बताऊं भी नहीं?
उस वक्त उसने बहुत बार बोला पर मैंने एक ना सुनी और नीचे चला गया.

जैसे-तैसे शाम हो गई और मौसा-मौसी दोनों आ गए।

अब रात के 8 बज चुके थे और हम सब खाना खा रहे थे।
तभी मौसा जी बोले- अभी… कल ज़रा बैंक आ जाना, मुझे एक कला्इंट के पैसे भेजने है, मैं तुम्हें एडरस बता दूंगा, तुम उसको पहुंचा देना।

इधर शानवी की फट रही थी कि कहीं मैं कुछ बता ना दूं, पर मेरे मन में तो कुछ और ही था।
पर वो सब भी इतना आसान नहीं था.
खैर हम लोग खाना खा कर उठे।

अब मैं सोने के लिए आपने रूम में आ गया था, 5 मिनट बाद ही मेरे रूम में शानवी आ गई… आए भी क्यों ना… उसकी फटी जो पड़ी थी।
अब आते ही फिर से वही सब करने लगी- मुझे माफ कर दो, आगे से ये सब नहीं होगा और थेंकयू कि तुमने इसके बारे में पापा को कुछ नहीं बताया।

मैंने गुस्से में आकर उसको वहीं पकड़ लिया और दीवार के सहारे लगा लिया. वो सिर्फ सोच रही थी कि मैं गुस्से में हूँ, पर मैं तो लंड उसकी चूत से सटा के खड़ा था, अब शानवी भी शायद सब समझ रही थी और तुरंत बोली- अभी… तुम जो बोलोगे, मैं वो करूंगी पर प्लीज पापा को मत बताना!

अब मेरे मन में भी लड्डू फूटने लगे, आखिरकार जो चाहिए था वो अब मिलने ही वाला था।
तो मैंने कहा- क्या कर सकती हो तुम? बोलो?
शानवी थोड़ा सेक्सी मूड में बोली- आप जो करवाना चाहते हो, करवा लो!

बस फिर क्या था, मैं झट से उसके होठों को चूसने लगा और वो भी पूरा साथ दे रही थी. कसम से उस दिन जो मजा आया, उसको मैं कभी नहीं भूल सकता, शानवी भी अब बेकाबू हो रही थी और अपना हाथ मेरे लंड की तरफ बढ़ा रही थी. मैंने उसको उठाया और बेड पर पटक दिया, अब मेरे मन की इच्छा पूरी होने वाली थी।

मैंने एक एक करके उसके सारे कपड़े उतार दिए, अब शानवी सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी।
क्या मस्त फिगर था उसका… कसम से… वो एकदम माल लग रही थी.

मैंने देर ना करते हुए आपने दांतों से उसकी पेंटी उतारी और फिर ब्रा… पर शानवी को शायद कुछ मजा नहीं आ रहा था.
वो एकदम से उठी और मेरी पैन्ट निकाल दी, अब तो वो भी चुदने को पूरी राजी थी।

मैंने फिर से उसे लेटाया और उसकी चूत चाटने लगा, वो भी आपनी गांड उठा उठा कर चूसवा रही थी। अब तक शानवी में इतनी कामुकता भर चुकी थी कि वो एक बिन पानी की मछली की तरह तड़प रही थी।
पर मजा भी तो इसी में था.

मैं अब उठा और उसकी तरफ अपना लोड़ा कर दिया। शानवी ने देर ना करते हुए फट से मुंह में ले लिया औऱ ऐसे चूस रही थी जैसे कोई रंडी चूस रही हो!
तब मैंने बिना सोचे समझे बोल दिया- साली रंडी… बहन की लोड़ी… कितने लोड़े चूसे हैं अब तक?

पर शानवी को कोई फर्क नहीं पड़ा, वो तो लोड़ा चूसने में लगी हुई थी।

मैं फिर से गाली देते हुए बोला- बोल बहनचोद… कितनों से चुदी है?
तब उसने 4 उंगलियाँ दिखाते हुए इशारा किया।

मैं भी ये देख कर जोश में आ गया और उसके मुंह में लंड को यूं ठूँसने लगा जैसे उसके मुंह से आर पार करना हो.

15 मिनट लोड़ा चूसने के बाद शानवी अब थक चुकी थी, बोली- अब चोद दे अभी मुझे… मेरी चूत को फाड़ दे अपने इस मोटे लंड से, मैं भी अपने भाई का लंड चूत में लेना चाहती हूं।

बस फिर क्या था, मैंने भी उसे लेटाया और अपना लंड चूत पर सैट किया, शानवी सोच रही थी कि मैं अभी लंड उसकी चूत में डाल दूंगा पर मैं तो मजा डबल करना चाहता था, इसलिए अपने लंड को उसकी चूत के ऊपर रगड़ने लगा पर शानवी को लंड अंदर लेने की पड़ी थी तो उसने बोला- डाल भी दे अब बहन के लोड़े… कुत्ते कमीने… साले बहनचोद!

उसके मुंह से गालियाँ सुन कर बहुत मजा आ रहा था, मैंने उसको थप्पड़ मारा और बोला- चुप रह बहन की लोड़ी साली रांड… मैं तुझे अपने हिसाब से चोदूंगा!
तब शायद शानवी थोड़ी डर गई और चुप हो गई.

मैंने फिर से एक थप्पड़ और मारा और बोला- गालियाँ क्या तेरी माँ बकेगी।
तब शानवी खुश हो गई और फिर से गालियाँ बकने लगी- चोद मादर चोद… फाड़ दे अपनी बहन की चूत… बहुत दिनों से इसमें कोई मोटा लोड़ा नहीं गया। चोद बहन के लंड… चोद…

कसम से गालियों वाली चुदाई में जो मजा है वो कहीं नहीं है, मैंने भी लंड चूत पर रख कर एक जोरदार झटका मारा और पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया.

उधर शानवी बोली- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बता तो देता बहन के लोड़े… मर गई मैं!
इधर मैं गाली देता हुआ बोला- ज्यादा नौटंकी मत कर बहन की लोड़ी… साली रांड 4-4 लंड खा चुकी है. अभी भी तुझे दर्द होता है?
‘हां होता है बहन के लोड़े… इतने दिनों बाद राहुल को पटाया था, वो आज ही पहली बार आया था और टूने उसको भी मार कर भगा दिया, अब तो तुझसे ही चूदा करूंगी और तू मुझे चोदा करेगा।’
मैं बोला- हां बहन चोद कुत्ती, तू क्या मुझसे चूदेगी, मैं ही तुझे चोदना चाहता था!
शानवी थोड़ी हक्की बक्की हो गई और बोली- तो पहले क्यों नहीं बताया, मैं भी तो लंड ही ढूँढ रही थी। मैं तो हमेशा तेरे शरीर को देखती थी, पर तुझे पता ही नहीं था.

अब मैं सोच रहा था कि ये तो साली मुझसे भी चालू निकली।

और हम दोनों इतने मदमस्त हो गए कि अब अपने सारे राज एक दूसरे को बताने लगे।

काफी लम्बी चूदाई के बाद शानवी झड़ चुकी थी पर आग अभी भी लगी हुई थी, 6-7 झटकों के बाद मैं भी उसकी ही चूत में पस्त हो गया और उसके ऊपर ही लेट गया।

उस रात हमने 4 बार चूदाई की और शानवी ने बोला- आज से अभी मैं तुझसे ही चुदा करूंगी, जब घर में ही इतना मस्त लोड़ा है तो पड़ोसियों में क्यों ढूँढना!

तब से आज तक 4 साल से हम दबा के चूदाई करते हैं!

मेरी भाई बहन सेक्स की स्टोरी कैसी लगी? आप लोग मेल कर के बता सकते हैं.
abhimanyuchoudhary44@gmail.com

Check Also

मौसी की चुदासी बेटी की चुदाई की कहानी-1

Mausi Ki Chudasi Beti Sang Chudai Ki Kahani Part-1 दोस्तो, मेरा नाम विराट सिंह है. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *