Home / नौकर-नौकरानी / मेरी चालू बीवी-104

मेरी चालू बीवी-104

Meri Chalu Biwi-104

सम्पादक – इमरान

मेरी कहानी का पिछला भाग :  मेरी चालू बीवी-103
और उसने वैसे ही अपना मुँह सलोनी के लहंगे के अंदर घुसा दिया।
कुछ देर लगा कि शायद एक्टिंग ही कर रही है पर जब उसका सर लहंगे के ऊपर तक दिखा और सलोनी की बेताबी… वो बैचेनी के अपनी कमर हिला रही थी…
ओह इसका मतलब रिया तो सलोनी की चूत ही चाटने लगी थी… ब्रेवो यार… इतने लोगों के सामने ऐसा… यह तो रिया जैसे लड़की ही कर सकती थी।

तभी सलोनी को वहाँ का शोर सुनकर कुछ अहसास सा हुआ और उसने अपना एक पैर उठाकर रिया को पीछे को धकेला…
वो पीछे को गिर गई…
बेशरम अभी भी अपने होंठों पर बड़े ही सेक्सी ढंग से अपनी जीभ फिरा रही थी।

इस धक्के से सलोनी का लहंगा उसके कमर तक उठ गया… वैसे वो बहुत ही फुर्ती से उठकर खड़ी हुई मगर फिर भी कई लोगों ने उसकी नंगी चूत के दर्शन कर लिए।
फिर सलोनी वहाँ से अंदर की ओर भाग गई और सभी वहाँ शोर मचाते रह गए… रिया तो आखरी दृश्य के लिए भी बोलती रह गई।
पता नहीं अब क्या था वो आखरी दृश्य???

मगर सलोनी उस दृश्य को पूरा करने के लिए वहाँ नहीं रुकी और ना ही वहाँ दोबारा आई।
फिर मधु और कुछ लड़कियों के भी डांस हुए और वहाँ सभी का हाल वैसा ही था.. बड़े ही सेक्सी कमेंट्स और आहें…
बहरहाल बहुत मजा आया मेहता अंकल के यहाँ, फिर खाना वगैरा खाकर हम सभी वापस आ गए।

मधु उस रात हमारे यहाँ ही सोई थी, रात को मैंने उसके साथ फिर काफी मस्ती की, सलोनी ऐसा व्यवहार कर रही थी कि जैसे उसको कुछ पता ही ना हो, उसने मुझे मधु के साथ मस्ती करने का पूरा मौका दिया।
सुबह दूध वाले की घण्टी की आवाज से ही मेरी आँख खुली, मधु अभी भी पूरी नंगी अपनी एक टांग मेरी कमर पर रखे सो रही थी, मैं भी पूरा नंगा ही था, वैसे भी रात को सोते समय मैं कुछ नहीं पहनता हूँ।

तभी सलोनी भी उठ गई, मैंने मधु को पीछे हटाने की कोई कोशिश नहीं की, मैं चाह रहा था कि सलोनी हमको इस तरह देख ले, फिर देखना था कि उसका क्या व्यव्हार होता, आखिर अब तो मैं उसको चुदवाते हुए भी देख चुका था।
सलोनी ने उठकर अपनी वही छोटी सी नाइटी अपने बदन पर डाली फिर मेरी ओर आकर मेरे होंठों को चूम लिया, बोली- ओह, यह लड़की भी ना… सही से सोने भी नहीं देती।

मैंने भी आँख खोलकर उसको मुस्कुराते हुए ही जवाब दिया- कोई बात नहीं, सोने दे।
मैंने सलोनी को चूम लिया।
सलोनी ने भी मधु को ना हटाकर दूध लेने चली गई।

मेरा एक बार दिल किया कि देखूँ कि दूधवाले के साथ वो क्या मस्ती करती है पर रात की थकान ने मुझे उठने नहीं दिया, मैं मधु से चिपका सोता रहा।
मैं काफी गहरी नींद में सो गया था, मुझे कुछ होश ही नहीं रहा, बस इतना सा ध्यान है कि सलोनी काफी देर बाद ही अंदर आई थी, फिर वो बाथरूम में चली गई।

पता नहीं कितनी और देर तक मैं सोता रहा, मेरी आँख तब खुली जब मुझे लगा कि कोई अपने मुलायम हाथों से मेरे लण्ड को सहला रहा है।
मैंने देखा वो मधु ही थी जो नींद में ही ऐसा कर रही थी।
मैंने उसको अपने से अलग कर पीछे को लिटा दिया, फिर उठकर उसके नंगे जिस्म पर एक चादर उड़ा दी, मुझे लगा बाहर कोई है, जिससे सलोनी बात कर रही है।

पर मैंने बैडरूम का दरवाजा खोलकर नहीं देखा, मैं बाथरूम में चला गया और वो बाहर देखने के लिए मेरी सबसे सेफ और टॉप जगह थी।
मैंने बाथरूम के रोशनदान से ही बाहर देखा… अरे यह तो मनोज है सलोनी के स्कूल वाला दोस्त, जिसके स्कूल में वो अब पढ़ाती है, वो अक्सर उसको लेने आ जाता है।

मैंने देखा कि सलोनी रसोई के पास वाली बेंच पर बैठी ड्रायर से अपने बाल सुखा रही है, उसके जिस्म पर केवल हल्के हरे रंग का पेटीकोट और हरे रंग का ब्लाउज है, ब्लाउज वैसे ही था जैसे छुपा कम रहा था और दिखा ज्यादा रहा था, बहुत ही छोटी आस्तीन जिससे उसकी बगलें पूरी नंगी दिख रही थी।

सलोनी जब हाथ ऊपर करके अपने बाल सुखा रही थी तो उसका वो हिस्सा बहुत ही सेक्सी लग रहा था, उसका ब्लाउज नीचे से भी उसके मम्मो को दिखा रहा था और ऊपर से तो उनकी गोलाई दिख ही रही थी।
सलोनी का नंगा पेट, जिस पर पेटीकोट तो उसकी नाभि के पास ही बंधा था पर गांठ का कट काफी गहरा था जिससे अंदर का हल्का हल्का एक बहुत ही सेक्सी दृश्य नुमाया हो रहा था।

मनोज उसके सामने ही बैठा था और सलोनी के हर अंग को बहुत ही ध्यान से देख रहा था।
फिलहाल इस समय सलोनी की दोनों गोल गोल चूचियाँ बहुत ही मस्त रोल प्ले कर रही थी, जो सलोनी के दोनों हाथ ऊपर नीचे और हिलने से अलग अलग आकार बना रही थी और काफी कुछ ब्लाउज के बंधनों से बाहर आने का प्रयास कर रही थी।

मैं मनोज के सयंम को देख रहा था, ऐसा तभी हो सकता था जब किसी ने इनका भरपूर रसपान कर लिया हो।
वो वहीं बैठा मुस्कुराता हुआ बस उनको निहारे जा रहा था।
अब मैं उन दोनों के बीच होने वाली बात पर भी ध्यान देने लगा।

सलोनी- वैसे आज अगर तुम नहीं आते तो मैं छुट्टी के मूड में ही थी, रात बहुत थकान हो गई थी।
मनोज- चलो फिर तो ठीक हो गया, वरना पूरे दिन आज बोर होना पड़ता। वैसे कल विनोद का फोन आया था, तुम्हारा हालचाल पूछ रहा था।
सलोनी ने उसको चुप रहने का इशारा किया।

मुझे याद है कि विनोद और मनोज दोनों शादी से पहले सलोनी के बहुत अच्छे दोस्त थे, इन्होंने एक साथ ही अपनी पढ़ाई पूरी की है।
सलोनी के इस तरह मनोज को चुप करने का कारण शायद वो घटना है, मुझे विनोद के बारे में पता चल गया था उसका एक लव लेटर मैंने सलोनी के डाक्यूमेंट्स के बीच देख लिया था और हमारी दो दिनों तक बोलचाल भी नहीं हुई थी।

पर वो तो पुरानी घटना थी… अब तो मैं कुछ और ही चाहने लगा था।
मनोज- ओह… अरे तो क्या हुआ? तुमने ही तो कहा था कि अंकुर तो गहरी नींद में है।
सलोनी- अरे वो जाग तो सकते हैं ना… फिर ये बातें बाद में भी तो हो सकती हैं।

मनोज- अरे, हम कौन सा गलत बात कर रहे हैं… मैंने तो विनोद को बोल दिया कि मैं उसकी अमानत का अच्छी तरह ध्यान रख रहा हूँ।
सलोनी- हा हा… उसको क्या पता कि तुम उसकी अमानत में कितनी खयानत कर रहे हो।
मनोज- हा हा… नहीं यार मैं उसके साथ ऐसा नहीं कर सकता… हाँ, अंकुर के साथ कर सकता हूँ हा हा…
फिर सलोनी ने ड्रायर बंद कर रख दिया।

मनोज- अच्छा यार अब जल्दी से तैयार हो जाओ… तुम भी यार, बहुत देर लगाती हो।
सलोनी- बस हो तो रही हूँ… तुम भी तो कितनी जल्दी आ जाते हो।
मनोज- वो तो तुम्हारे इस रूप को देखने… तुमको नहीं पता कि जब तुम नहाकर ऐसे गीले बालों में बाहर आती हो तो कितनी सेक्सी लगती हो, मेरा तो हाल ही बुरा हो जाता है।

सलोनी- और फिर इसका खामियाजा मुझे कार में भुगतना पड़ता है… हा हा…
सलोनी का पेटीकोट उसके चूतड़ों को कुछ ज्यादा ही दिखा रहा था… जिससे वो बहुत सेक्सी लग रही थी।
फिर सलोनी ने मनोज के सामने ही अपने पेटीकोट का नाड़ा खोलकर पेटीकोट को नीचे करके बाँधा, इस दौरान उसने पेटीकोट को ऐसे घुमाकर ठीक किया कि उसके पेटीकोट का कट आगे से सलोनी की चूत के दर्शन तक करा गया।

सलोनी ने अंदर कुछ नहीं पहना था, वैसे भी उसको कच्छी पहनने की आदत तो थी ही नहीं।
फिर जब सलोनी ने साड़ी बांध ली त मैं भी तैयार होने लगा।
कुछ देर बाद सलोनी मधु को सब कुछ समझाकर मनोज के साथ चली गई।

अब मैं और मधु घर पर अकेले ही थे, हम दोनों एक साथ ही नहाये, एक दूसरे के अंगों को अच्छी तरह साफ़ किया, फिर मैं मधु को उसके घर की ओर छोड़कर अपने ऑफिस आ गया।
ऑफिस में बहुत ही काम था तो ज्यादा कुछ फुर्सत नहीं मिली और न ही सलोनी के बारे में ही कुछ सोच पाया।

हाँ थोड़ा बहुत हंसी मजाक और मस्ती जरूर हुई, जब नीलू और रोजी जैसी हसीनाएँ साथ हो तो कुछ न कुछ मस्ती तो होती ही है।
चुदाई नहीं तो छेड़छाड़ तो हमारे बीच चलती ही रहती है जिसमें पूरा दिन मजे से गुजर जाता है।
ऑफिस से मैं कोई रात आठ बजे तक घर पहुँचा इस सबमें घर के बारे में तो मैं सब कुछ भूल ही गया था।

घर पर पूरा जमघट लगा हुआ था… सलोनी, नलिनी भाभी, मधु के अलावा वहाँ ऋतु और रिया भी थी, वो कुछ शादी के चीजों की चर्चा कर रही थी। सभी ने ही सेक्सी और घरेलू वस्त्र ही पहन रखे थे, मैं सभी को देखकर बस यही सोच रहा था कि सलोनी, नलिनी भाभी, मधु और रिया की चूत तो मैं अच्छी तरह देख और चोद चुका हूँ, बस यह ऋतु ही बची है, अगर इसकी शादी नहीं होती तो इसकी चूत लेने का भी मौका मिल जाता।
शायद सच ही है… लड़की चाहे कितना भी चुदवाती हो पर अपनी शादी के समय वो बिल्कुल सीधी हो जाती है।

ऋतु भी इस समय ऐसा ही व्यव्हार कर रही थी और बहुत ही सीधी सादी सी लग रही थी जबकि वो क्या है, यह तो मैं अच्छी तरह से जानता हूँ।
तभी सलोनी मुझसे बोली- सुनो, क्या आप अपना काम 4 दिनों के लिए नहीं छोड़ सकते? देखो ये दोनों ही कल ही साथ चलने के लिए ज़िद कर रही हैं।

मुझे तो खुद शादी में जाने की जल्दी थी, सलोनी को क्या पता कि मैंने वहाँ मस्ती करने का कितना खाका तैयार कर रखा है- हाँ मेरी जान… सब कुछ तुम्हारे लिए ही तो कर रहा हूँ।
और मैंने सलोनी को अपनी बाँहों में जकड़ कर चूम लिया।
पहली बार ऋतु बोली- वाओ भैया… और हमारा किस?

उसने एक शार्ट मिडी पहन रखी थी, मैंने उसकी ओर देखा, उसकी मांसल और गदराई जांघें नंगी दिख रही थी, शैतान ने अपनी टांगों के बीच के गैप को और चौड़ा कर दिया। उसने अंदर सिल्की, चमकदार लाल कच्छी पहन रखी थी, उसकी गोरी-गोरी जांघों से चमकती लाल कच्छी उसको बहुत ही सेक्सी दिखा रही थी।

मैंने भी उसकी कच्छी से चमकती चूत के होंटों को देखकर कहा- चिंता न कर, तेरे भी इन लाल-लाल होंठों को भी चूम लेंगे।
सभी जोर से हंसने लगे।
अब शादी में तो इस फ़ुलझड़ियों के साथ बहुत ही मजा आने वाला था।
कहानी जारी रहेगी।

Check Also

दोस्त की बुआ के घर में तीन चूत-6

Dost Ki Bua Ke Ghar Me Teen Choot- Part 6 दोस्त की बुआ के घर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *