Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ

रोज नई नई गर्मागर्म सेक्सी कहानियाँ Only On Antervasna.Org

मैं कॉलगर्ल कैसे बन गई-11

Main Callgirl Kaise Ban Gai- Part 11

मेरी चुदाई की कहानी   मैं कॉलगर्ल कैसे बन गई-10  में अब तक आपने पढ़ा था कि अब मैं अपने इस कॉलगर्ल वाले चक्कर से आजिज आ गई थी और इससे छुटकारा पाने की जुगत में थी. मैंने अपने मुंह बोले पुलिस ऑफिसर भाई से इस बारे में सलाह मांगी तो उसने मुझे दूसरे दिन सुबह बात करने का कह दिया.
अब आगे..

दूसरे दिन सुबह मेरे पुलिस ऑफिसर भाई का फोन आया- जब तुम्हारा पासपोर्ट बन जाए तो तुम मुझे बताना, मैं तुम्हारा वीज़ा लगवा दूँगा और तुम्हें उधर नौकरी भी मिल जाएगी.. मगर यह बात किसी से भी ना बताना क्योंकि जब भी कोई अच्छा काम सोचा जाता है तो बहुत सी अड़चनें आ जाती हैं. कुछ बिन बुलाए आ जाती हैं और कुछ खुद बुलवा कर आ जाती हैं. अगर तुमने किसी से कुछ भी कहा तो यह बुलाई हुए अड़चन ही होगी. यहाँ दोस्त कम और दुश्मन ज़्यादा मिलते हैं फिर तुम्हारे तो बहुत से खास दोस्त हैं, जो काम बनते हुए भी बिगाड़ना चाहेंगे.
मैंने कहा- भाई जब आप जैसा किसी का भाई हो तो उसे किसी और की कोई चिंता नहीं होगी. मैं मर भी जाऊंगी तब भी अपने मुँह से कुछ नहीं निकालूँगी.

इस घटना के बाद मैं चुप हो गई और अपने पासपोर्ट बन कर आने की राह देखने लगी. कुछ दिनों बाद मेरे पास पासपोर्ट बन कर आ गया. मगर मुसीबत पीछा नहीं छोड़ती.. जिस ऑफिस से पासपोर्ट बन कर आया था, वहाँ के किसी आदमी ने मुझे चोद रखा था, तो उसको पता लग गया और उसने उस दलाल को भी इस बारे में बता दिया.

उसी शाम को दलाल का फोन आया- तू शाम को मिलना, कोई कस्टमर तुम्हें मिलना चाहता है.

मैंने उससे बचने की बहुत कोशिश की मगर उसने मुझे डरा धमका कर उसकी बात मानने पर मजबूर कर ही लिया. साथ में मेरी चुत में भी चींटियाँ रेंग रही थीं, सो मैंने भी उसकी बात मान ली.
जब मैं उसके पास गई, तो वहाँ उसके सिवा और कोई नहीं था.

मुझे देखते ही वो बोला- तो मेरी चुदक्कड़ रानी अब विदेशों में उड़ना चाहती है.
मैंने कहा- क्या बोल रहे हो?
मुझे जवाब मिला कि बहुत ज्यादा बनने की कोशिश ना करो, जो पासपोर्ट आया है ना.. उसे मेरे हवाले करो, फिर मैं तुम्हारे लिए खाड़ी के देशों में ग्राहक ढूँढता हूँ.

जब मैंने कोई जवाब नहीं दिया तो उसने मेरे करीब आकर मेरे मम्मों को बहुत जोर से खींचा और गुर्रा कर बोला- सुन रही है ना.. क्या बोला है.
मेरे मम्मों को इतनी जोर से खींचा गया था कि मेरी चीख निकल गई.

वो हंसते हुए बोला- अभी तो एक चीख निकली है.. अगर मुझसे कोई पाटेबाज़ी की.. तो साली चीखें निकलवा कर रख दूँगा. कुत्ते से चुदवा कर तुम्हारी डीवीडी बना लूँगा, जब कुत्ते का लंड चुत में जा कर फंसेगा तो उसकी गांड से तेरी गांड आगे पीछे हो जाएगी.. फिर तुझे पता लगेगा.

वो मुझे कुत्ते कुतिया की चुदाई के बाद दोनों की चुत लंड फंसने के सीन के बारे में बताता हुआ डरा रहा था.

मैंने उससे कहा- तुम जहाँ जहाँ जाने की बोलते हो, मैं वहीं तो जाती हूँ.. जो जो वो कहते हो, वो ही तो करती हूँ. कभी तुमसे पैसे की कोई बात नहीं की, फिर भी तुम मुझ पर शक़ करते रहते हो. क्या चाहते हो? मैं आत्महत्या कर लूँ? पासपोर्ट बनवाया है, मगर क्या बाहर जाना कोई इतना आसान है? उसके लिए बहुत से पापड़ बेलने पड़ते हैं. इतना आसान नहीं है, जितना तुमने सोच लिया. लगता है तुम्हें कोई बहका रहा है. एक बात और सुन लो अगर मैं अपनी औकात पर आ गई ना तो फिर तुम भी बच नहीं पाओगे. मुझे क्या है जब मैं हज़ारों बार अनेकों लौड़ों से चुद चुकी हूँ तो और चार-पांच पुलिस वालों से भी चुद लूँगी. तब मैं तो मरूँगी ही मगर तुमको भी साथ लेकर मरूँगी.

यह सब सुन कर वो ढीला हो गया और मुझे चूमते हुए बोला- ठीक है अब कुछ नहीं कहूँगा. मगर तुम मेरे कस्टमर्स का ख्याल रखती रहना. क्या करूँ यही तो मेरा धंधा है और यही मेरी रोज़ी रोटी है.
मेरा भी चुदाई का मन था तो मैं भी उसके साथ प्यार से पेश आने लगी. मैंने साथ में ये भो सोचा कि इससे फिलहाल बना कर रखने में ही भलाई है. दो चार बार और चुद जाउंगी तो कौन सी चुत खर्च हो जाएगी.

उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और बोला- चल आज मुझे अपना सुख दे दे.

मैंने भी खुद को उसे सौंप दिया और अगले कुछ ही पलों में उसके सामने नंगी होकर बिछ गई. उसने मुझे पूरी बेदर्दी से चोदा, आज उसकी चुदाई से मुझे भी मजा आ रहा था. उसका लंड मुझे आज बहुत मजा दे रहा था. मैंने भी उसके लंड को पूरी संतुष्टि दी और घर आ गई.

उस रात को भाई से बात हुई तो मैंने उसको भी सब बता दिया.
उसने कहा- ठीक है तुम फिक्र ना करो अब जो काम करना होगा, मैं यहीं से करूँगा ताकि किसी को कोई भनक ना लगे.
उसका कोई दोस्त सिंगापुर में रहता था. उससे उसने बात की थी. उस दोस्त को उसने कहा था कि मैं तुम्हारे पास अपनी कज़िन को भेज रहा हूँ. उसे कोई काम दिला देना.

भाई ने अपने फ्रेंड को मुझे अपनी कज़िन कह कर बताया था. दोस्त ने भी भाई को आश्वासन दिया कि ठीक है उसको यहाँ किसी बिजनेस में लगा दूँगा, जिससे वो अपना काम खुद ही करती रहेगी. उसका वीज़ा भी बनवा कर भेज दूँगा. क्योंकि वो तुम्हारी कज़िन है, तो मेरी भी कज़िन ही हुई ना. मैं उसे उतनी ही रेस्पेक्ट दूँगा, जितनी वो उसके काबिल है. मैं उसमें और अपनी बहन में कोई अंतर नहीं रखूँगा.

भाई के मुँह से अपने लिए जब ये जाना तो मेरा दिल अन्दर से रोने लगा कि क्या दुनिया ऐसे भी हो सकती है. क्योंकि अभी तक का मेरा अनुभव था कि सभी लोग जैसे ही कोई पराई लड़की देखते हैं, तो उनका ध्यान उस लड़की के मम्मों और चूत पर ही जाता है कि किस तरह से इसको हासिल करके चुदाई के लिए इस्तेमाल किया जाए.

अब मैं दिन गिन रही थी कि किस दिन यहाँ से छुटकारा मिलेगा. एक दिन मुझे 99 से 100 डिग्री के बीच में बुखार था, मेरा जिस्म पूरी तरह से टूट रहा था.

मुझे उसी दल्ले का फोन आया कि होटल के कमरा नंबर 213 में जाकर ग्राहक से मिलो.
मैंने कहा कि मुझमें चलने की भी ताकत नहीं है.
तो उसने कहा- तुम तैयार हो जाओ, तुम्हारी ताक़त तू खुद ही बन जाएगी.

मैंने रोटी पीटती किस्मत को गालियां देती हुई किसी तरह तैयार हुई और होटल में पहुँच गई.

मुझे बुखार था और होटल में एसी चल रहा था इसलिए मेरा शरीर कांपने लगा.

इस पर वो लड़का जो मुझे चोदने के लिए आया था. उसने शराब का भरा हुआ गिलास मेरे मुँह में लगा दिया और बोला- लो पियो और पूरी गरम हो जाओ, क्यों कांप रही हो.

शराब के अन्दर जाते ही मैं भी खुद को तरोताजा महसूस करने लगी और मैं चुदवाने के लिए तैयार हो गई.

अब कमरे में एक चुत और दूसरा लंड था, जो एक दूसरे को देख रहे थे और दंगल होने की राह देख रहे थे. दोनों को आपस में भिड़ने के लिए ज़्यादा समय नहीं लगा. उसका लंड बोल रहा था कि ओ साली चुत, मैं आज तुझमें समा जाऊंगा.
चूत बोल रही थी कि आ जा भोसड़ी के आज मैं तुझको अपने अन्दर हजम कर लूँगी.

कुछ देर तक एक दूसरे को देखने के बाद आख़िर लंड को जोश चढ़ गया और उसने चूत पर हमला कर दिया. चूत तो जैसे इंतजार कर रही थी, उसने भी अपना मुँह खोल कर लंड को पूरा गटक लिया.

अब दोनों में घमासान होने लगा. जैसे ही लंड धक्का मार कर बाहर आना चाहता था, चूत उछल कर उसे बाहर जाने से रोक देती थी.

इसी घमासान में आख़िर लंड का पसीना छूट गया और वो ढीला होकर बाहर आ गया. मगर वो लौंडा पूरा कमीना था, उसका लंड जैसे ही चुत से बाहर आया, वो मेरे मम्मों पर टूट पड़ा और मुँह से चूसने और काटने में लग गया.

थोड़ी देर बाद उस हरामी का लंड फिर से खड़ा हो गया और वो फिर से चूत में लंड पेल कर धक्के मारने लगा.

चूंकि मुझे बुखार था, मैं ढीली पड़ती जा रही थी मगर वो छोड़ ही नहीं रहा था. जब उसके लंड का पानी निकल गया तभी उसने मुझको छोड़ा.

मगर वो बोला- अभी ऐसे ही नंगी पड़ी रहो.. मैं दिल में भर कर तुम्हारी नंगी चूत को अपनी आँखों में बसा लेना चाहता हूँ.
कुछ देर बाद उसने मुझे छोड़ा और बोला- अब जाना चाहो तो जाओ, जहाँ भी जाना है.

इस तरह से मैं बुखार में भी चुद कर वापिस घर पर आ गई. दूसरे दिन मुझे बुखार और तेज हो गया. मगर वो दलाल मेरा पीछा ही नहीं छोड़ रहा था.

वो बोला- तुमको आज के लिए भी फिक्स किया है.
मैं बोली- आकर देख पहले मेरी हालत को.. क्या मैं चुदने जाने लायक हूँ या हॉस्पिटल जाने के काबिल हूँ. अब मैं पूरा एक हफ्ता किसी के पास नहीं जा सकती.

दो दिनों बाद भाई का फोन आया- तुम चिंता मत करो, अगर प्राब्लम है तो मेरे शहर में आ जाओ, मैं तुम्हारा रहने का प्रबंध कर दूँगा. अब बस कुछ दिनों की बात है, फिर तुम इस दलदल से हमेशा के लिए छूट जाओगी.

वो दल्ला तो मेरे पीछे पड़ा हुआ था. एक हफ्ते के बाद पूछने लगा- बोलो, कब से प्रोग्राम फिक्स करूँ?
मैं बोली- अभी एक दो दिन रूको.

इस बीच मैंने अपना सामान पैक कर लिया और बाहर के शहर में चली गई. उसका फोन आता रहा, मगर मैंने कोई जवाब नहीं दिया और फिर फोन का सिम ही तोड़ दिया.

भाई की मेहरबानी से उसके दोस्त ने मेरा सिंगापुर का वीसा लगवा दिया और मुझे वहाँ पर काम भी दिलवा दिया. इस तरह मैं इस गंदी जिंदगी से निकल कर बाहर आई हूँ.

अब मैं सिंगापुर में रह रही हूँ. अब मैंने अपने बाल कटवा कर अपनी शक्ल भी बदलवा ली है. इधर किसी को कुछ पता नहीं है कि मेरा भूतकाल कैसा था. मैं अब यहां पर इज्जत की जिंमगी बसर कर रही हूँ. मैंने उन सब लोगों से पूरी तरह से रिश्ते तोड़ दिए हैं, जिनको मेरे बारे में कुछ भी पता है या था.

लोग कहते हैं कि पुलिस वाले बहुत गंदे होते हैं, मगर सभी को एक ही तराजू में तौलना ठीक नहीं है. इस गंदी जिंदगी में ही मुझे एक इंसान ऐसा मिला, जो पुलिस में काम करता है और मेरे बारे में सब कुछ जान कर भी मुझसे राखी बंधवाकर मुझे अपनी बहन मानता है.
वो मेरा सगा भाई नहीं है मगर मेरे लिए सगे से भी बड़ा है.

सारांश

बहुत से लोगों के मुझे मेल्स मिले और उनमें से ज़्यादातर मुझे चोदना ही चाहते हैं. एक मुसीबत की मारी लड़की के दिल पर क्या गुजरती है, इसके बारे में शायद ही किसी ने सोचा होगा.
खैर जब इतने गम देख लिए तो इन मेल्स का मुझ पर क्या असर होना था.
xxxbhabi1990@gmai.com

Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ © 2018