Home / ग्रुप सेक्स स्टोरी / लिफ्ट-ड्रॉप यानि उठा-पटक वाली चुदाई-3

लिफ्ट-ड्रॉप यानि उठा-पटक वाली चुदाई-3

Lift Drop Yani Utha-Patak Wali Chudai- Part 3

मेरी कामुक कहानी के पिछले भाग

लिफ्ट-ड्रॉप यानि उठा-पटक वाली चुदाई-2

में आपने पढ़ा:

इतने समय से मेरी प्राणप्यारी पत्नी की गांड मारते हुए आर्थर ने अभी तक अपनी गति कम नहीं की थी, और मेरी देवी जैसी पत्नी भी पूरे मनोयोग से उसके गधे जैसे लंड को अपनी गांड में घुसवाते हुए नहीं थकी थी. अब आर्थर अपेक्षाकृत आरामदायक पोज़ में संसार की सबसे सुन्दर लड़की की गांड मार रहा था. उसे मेरी शानदार पत्नी का चेहरा ठीक अपने नीचे नजर आ रहा था, और वो खुद को रोक नहीं सका उसका चुम्बन लेने से. उसने नीचे को झुक कर मेरी विश्वसुन्दरी पत्नी के होंठों को चूम लिया. इतने से उसका मन नहीं भरा, और वो दोबारा उसका चुम्बन लेने को नीचे को झुका तो मेरी सती-सावित्री पत्नी ने अपनी गुलाबी जीभ को पतला बना बाहर निकाल दिया, जिसे आर्थर ने अपने मुंह में ले लिया! जी भर कर चुसवाने के पश्चात् नताशा ने अपनी जीभ को वापस ले लिया, और अब तक अपनी जीभ बाहर निकल चुके आर्थर की जीभ को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया.

मुझे साफ नजर आ रहा था कि प्रेमी जोड़ा एक दूसरे की जीभ को चूसता हुआ एक दूसरे का थूक भी बेहिचक निंगलता जा रहा था. ये थी इस पृथ्वी पर भाईचारे की मिसाल! ठीक अपने पति की आँखों के सामने पत्नी प्यार से दूसरे पुरुष की जीभ चूसती है, उससे अपनी जीभ चुसवाती है, वो मेरी आँखों के सामने एक दूसरे का थूक पी रहे हैं… लेकिन मुझे कोई ईर्ष्या नहीं! क्योंकि मैं अपनी पत्नी को सच्चा प्रेम करता हूँ… चाहता हूँ कि उसे वो सब मिले जिसकी कि वो अधिकारी है! और वो अधिकारी है सच्चे सुख की, और सच्चा सुख है सच्ची संतुष्टि में, न कि दिखावे में. यदि कोई दूसरा पुरुष मेरी पत्नी को वो सुख दे रहा है जिसकी वह अधिकारिणी है, तो एक प्यार करने वाले पति को इससे क्यों गुरेज होने लगा! और होना ही नहीं चाहिए, क्योंकि उसका तो कर्तव्य है कि उसकी पत्नी दुनिया का सारा सुख भोगे, नाना प्रकार के विभिन्न आकार प्रकार वाले लंडों का स्वाद चखे!!

अचानक आर्थर ने अपना लंड बाहर निकाल लिया, और उसे अपनी मुट्ठी में भींच लिया. शायद वो झड़ने को आ गया था, और इस तरह वो अपने वीर्य को निकलने को रोक रहा था. जब वो झड़ने से बच गया तो नताशा ने जल्दी से सबसे इम्पोर्टेन्ट ऑर्गन को अपने मुंह में भर लिया, और किसी चोकलेट कि तरह उसे चाटने लगी.

अपने लंड को चुसवाते हुए ही आर्थर ने मेरी हमसफर को ऊपर उठा लिया और खुद सोफे पर जा लेटा.
अब वो आराम से लेट कर अपना लंड चुसवाना चाहता था. नताशा ने पूरे मनोयोग से उसके टोपे, अंडे इस तरह चाटने शुरू कर दिए कि कहीं कोई शिकायत न रह जाए!

खूब अच्छी तरह से अपने चाकू पर मेरी पत्नी की जीभ से धार लगवाने के पश्चात् आर्थर ने नताशा को अपनी कलाइयों पर ऊपर उठा लिया और अपने ऊपर छत की तरफ तने लंड के चौड़े टोपे पर बैठा दिया.
मेरी प्यारी पत्नी की प्यासी चूत की प्यास भी आखिरकार बुझने लगी क्योंकि अभी तक तक तो सब सिर्फ उसकी गांड मारने की तलाश में ही थे. शुरुआत में तो आर्थर धीरे-धीरे ही मेरी श्रीमती की चूत को अपनी तोप पर बैठाता रहा लेकिन कुछ ही धक्कों के बाद उसने अपनी जानी पहचानी लय पा ली और किसी वेट लिफ्टर की तरह लड़की को अपनी कलाइयों पर उठा कर उसकी चूत को अपने तीर जैसे लंड पर पटकना शुरू हो गया.

सिर्फ दो मिनटों की चुदाई में ही मेरी नताशा किसी कुतिया की तरह चुद कर हांफने लगी थी!

इसके बाद आर्थर ने उसे सचमुच की कुतिया बना कर उसके चौपायों पर खड़ा कर दिया और पीछे खड़े होकर उसकी नर्म-गुलाबी चूत में अपना झटके मर रहा निर्दयी लंड घुसेड़ना शुरू कर दिया. कमरे में दोबारा मस्त ध्वनि गूंजने लगी ‘पच पच पच पच… आह आ आ आई ईईई… पच पच पच पच!

सोफाचेयर पर बैठे हुए मैं खुद को किसी शो का दर्शक समझ रहा था… और मुश्किल से ही खुद को प्रेमी जोड़े की शानदार परफॉरमेंस पर तालियाँ बजाने की इच्छा से रोके हुए था. ये मेरे लिए दुनिया की सबसे अच्छी फिल्म चल रही थी.
वैसे तो आर्थर ठीकठाक लवर है. स्पोर्ट्स मेन भी अच्छा खासा है, इतनी देर तक नताशा को अपनी कलाइयों पर उछालता हुआ चोद रहा है! हो न हो, अपने समय में वेट लिफ्टिंग की होगी! ये तो अभी उसकी तोंद निकली हुई है… लेकिन मांसपेशियां तो फिर भी उसकी खूब मजबूत हैं! देखो कैसे आसानी से अपनी मजबूत कलाइयों पर मेरी बीवी को बेतहाशा तेजी से ऊपर उठा उठा कर अपने मजबूत लंड के टोपे पर पटक रहा है!!! और देखो तो, वो खुद भी कितनी खुश है, बिना मेहनत किए अपनी प्यासी चूत में गधे जैसा लंड पाते हुए!!

हमेशा की तरह इस पोज़ में भी खूब देर तक आर्थर नताशा की चूत मारता रहा और फिर उसे वापस सोफे पर लिटा कर उसका बायाँ पैर किसी खम्भे की तरह ऊपर उठा दिया और अपने फूल कर दुगने मोटे हो चुके लंड को फिर से मेरी बेचारी पत्नी की गांड में घुसेड़ दिया.

शुरुआत में तो हमेशा की तरह नताशा थोड़ा बहुत कुनमुनाई लेकिन फिर आदत हो जाने पर हमारे सर्बियन मेहमान के लंड को हौले हौले कराहते हुए अपनी गांड का मीठा रास्ता दिखाना शुरू कर दिया.
हमेशा की तरह मन भर कर इस पोज़ में चुदाई करने के पश्चात आर्थर ने नताशा को थोड़ा आराम दिया, सच पूछो तो आराम नहीं सिर्फ दो चार साँस लेने भर की मोहलत!

उसने मेरी फूल जैसी परी को फिर से कुतिया बना कर उसके चौपायों पर खड़ा कर दिया और अपनी पहले दो, फिर तीन उँगलियाँ उसकी गांड में घुसेड़ दीं. फिर उसने मेरी पत्नी को किसी बिल्ली के बच्चे की तरह मुंह के बल तकिए पर पलट दिया और इस प्रकार उसकी ऊपर की ओर उठ गई, इस समय तक चुद चुद कर मेरी मुट्ठी जितनी चौड़ी और चुकंदर की तरह लाल हो चुकी गांड को खोल कर एरिक संग हमें दिखाने लगा.

मैंने अपने अंगूठे और तर्जनी ऊँगली से गोला बना कर अपनी पत्नी को आंख मारते हुए कहा- शानदार!!
जवाब में मेरी नताशा झेंप कर मुस्कुराने लगी.

बेचारी अभी ठीक से साँस भी न ले पाई थी कि आतंकी आर्थर ने उसे अपने पैर फैला कर सोफे पर बैठने के लिए कहा और फिर खुद नीचे कारपेट पर खड़े होकर दोनों हाथों से उसके पैर फैलाते हुए उसने अपना भाला उसकी गांड में घुसेड़ दिया और दमदार धक्कों के साथ मेरी फूलों की रानी, बहारों की मलिका की गांड के परखच्चे उड़ाने शुरू कर दिए.

“आआआआ… ऊऊऊऊ… मस्त! चलो और तेजी से चोदो मुझे! आआआ… चलो पूरा घुसेड़ दो अपना हब्शी लंड मेरी चुदक्कड़ गांड में… ओओओओओ… ओए हाउ स्वीट! बस रुकना मत! हाँ ऐसे… ऐसे… ऐसे… ऐसे… और जोर से, और… और! आआआआआ…”
और आर्थर ने अपने खंजर को मेरी पत्नी की गांड में जापानी बुलेट ट्रेन की रफ़्तार से घुसेड़ना शुरू कर दिया.

“ऊऊऊ ऊऊहह ऊऊऊ…” अपने मुंह से किसी गाय का पीछा करते सांड जैसी धवनि निकलता आर्थर जवान, कमसिन, अलौकिक सुन्दर लड़की की गांड के अंदरूनी हिस्सों को अपने सुपर लंड से छिन्न भिन्न करता चला गया.
और फिर जब उसने अपना आग उगलने को तैयार लंड बाहर निकाला तो सहमी हुई लड़की ने झट उसे अपने मुंह में लिया और जी जान से चूसना शुरू कर दिया.

अब झड़ने को कतई तैयार आर्थर भैंसे की तरह कराहने लगा और नताशा के मुंह से अपना लंड बाहर निकाल कर दस कदम पीछे चल कर बोला- मुंह खोल अपना! जल्दी से खोल!! वहीं तक फव्वारा मारूंगा!!! चल दिखा अपने मोतियों जैसे सफ़ेद दांत… और देख मेरे लंड की ताकत!!!

नताशा ने सब समझ कर उसके लंड की दिशा में अपना पूरा मुंह खोल दिया.
और तभी आर्थर के लंड से निकले गाढ़े वीर्य का थक्का उड़ता हुआ उसके खुले मुंह में समा गया.

नताशा ने घबरा कर अपना मुंह बंद कर लिया, जिससे आने वाली अगली बूँदें उसके चेहरे से आ टकराईं, और छितरा कर उसके पूरे चेहरे, माथे, गले और बालों को सानती चली गईं.
सर्बियन अतिथि अपना लंड हाथ में थामे हुए उसके नजदीक पहुंचा, जिसे मेरी पत्नी ने अपना अधिकार समझ कर फ़ौरन अपने हाथों में लेते हुए चूसना शुरू कर दिया.

इसके बाद उस हाहाकारी लंड से निकलने वाली वीर्य की प्रत्येक बूँद पर सिर्फ और सिर्फ मेरी कर्तव्यपरायण पत्नी का ही अधिकार था और उसने जीवन की एक नन्ही सी भी बूँद को जमीन पर नहीं गिरने दिया और इस अमृत को अपने मुंह में ही जाने दिया!

आर्थर की टोंटी खाली होने पर नताशा मुस्कुराते हुए उसके ढाई किलो के भारी भरकम लंड को अपने दोनों हाथों में थामे हुए चेहरे पर जोर लगाकर ऊपर उठाने की भाव भंगिमा के साथ ऊपर उठाने का असफल प्रयास करने की एक्टिंग करने लगी.

हम सभी लड़के हंस पड़े और बेचारी कमजोर लड़की की हालत पर दया आने का दिखावा करने लगे.

“ख्लोप ख्लोप ख्लोप…” मैंने शो की शानदार समाप्ति पर आखिर तालियाँ बजानी शुरू कर ही दीं और बोला- शाबाश आर्थर, गज़ब की परफॉरमेंस! और मेरी प्यारी पत्नी, तुम तो अनमोल हो! तुम्हारे लिए तो शब्द ही फीके पड़ जाएँगे! तुम आज की रात हमारी मलिका–ए–आलम हो! और मेरे लिए तो सारी जिन्दगी की!! ईश्वर से प्रार्थना करूंगा कि वो मुझे हर जन्म में तुम्हें ही दे!!!

“अरे बस बहुत हुआ…” आर्थर के वीर्य को अपने चेहरे से हथेलियों द्वारा मलते हुए मेरी पत्नी शर्मा कर बोली और फिर भाग कर बाथरूम में घुस गई.
“अरे कहाँ?” पीछे से मैं चिल्लाया- अभी तो एरिक संग हम भी बाकी हैं… हमारा क्या होगा?

विदेशी लड़की की गांड और चूत की चुदाई स्टोरी जारी रहेगी.
3in1@inbox.ru

Check Also

जूही और आरोही की चूत की खुजली-35

Joohi Aur Aarohi Ki Choot Kee Khujali- Part35 पिंकी सेन नमस्कार दोस्तों आपकी दोस्त पिंकी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *