Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ

रोज नई नई गर्मागर्म सेक्सी कहानियाँ Only On Antervasna.Org

खामोश शर्मिन्दगी

Khamosh Sharmindagi

बहुत देर से रेलवे आरक्षण की लम्बी कतार में खड़े रहने के बाद अब मैं खिड़की के काफी क़रीब पहुँच चुका था।

उसके आगे तीन लोग थे। गर्मी से मैं पसीने से तरबतर था।

मैं स्टेशन का जायज़ा लेने लगा जो भीड़ से ठसाठस भरा हुआ था। बरसात के बाद की गर्मी ने हर किसी की दुर्गत बना दी थी, लोग पसीने से तरबतर हो रहे थे। ज़रा-ज़रा सी बात पर एक दूसरे से उलझ पड़ने का सिलसिला भी जारी था।

मेरे आगे अब दो लोग बचे थे। मैं आरक्षण कराने के लिए खुद शायद ही कभी आया हूँगा, यह काम तो मेरे चेले ही करते थे लेकिन इस बार खुद लाइन में लगना पड़ा था।

बगल वाली खिड़की पर औरतों की कतार थी जिनमें बूढ़े और अपंग भी शामिल थे, कतार में लगे हुए बूढ़े अपने आगे खड़ी हुई औरतों से कुछ ज़्यादा ही चिपक कर खड़े लग रहे थे और उनके चेहरे पर फैली हुई मासूमियत के साथ आनन्द लेने का एहसास भी दिख रहा था।

टिकेट क्लर्क की आवाज पर मैंने अपना रिज़र्वेशन फार्म अन्दर सरकाया।

कुछ देर बाद क्लर्क ने टिकट थमा दिया।

रिज़र्वेशन काउंटर से हटते ही मैंने फ़रज़ाना को फोन किया- कैसी हो?

‘अच्छी हूँ।’

‘रिज़र्वेशन हो गई, मैं सेमिनार से पहले दिन पहुँच जाऊँगा।’

‘क्यों? एक दिन पहले क्यों?’

‘देखो फ़रज़ाना, मैं ज़िंदगी की इस रफ़्तार में थक गया हूँ, मेरी आँखों पर रखी हुई तुम्हारी उंगलियाँ मुझे इतना सुकून देती हैं कि क्या कहूँ। तुम आ रही हो ना?’

‘कोशिश करूँगी।’ फ़रज़ाना सोचते हुए बोली।

‘कोशिश नहीं, पहले दिन ही पहुँच ही जाना।’ मेरू ज़िद में बेताबी थी।

फरज़ाना ने फोन काट दिया।

घर पहुँचा तो सौम्या खाने पर मेरा इंतज़ार कर रही थी।

‘रिज़र्वेशन हो गया?’ सौम्या मेरी तरफ पानी का गिलास बढ़ाती हुई बोली।

‘हाँ हो गया।’

‘कब जा रहे हैं?’

‘अगले हफ्ते।’

‘सेमिनार में फ़रज़ाना भी आयेगी क्या?’

‘क्यों?’ मेरा लहजा तीखा था।

‘कुछ नहीं, बस यूँ ही पूछ लिया।’

‘तुमने यूँ ही नहीं पूछा। मैं तुमको खूब समझता हूँ।’ मैं सौम्या की आँखों में आँखें डालकर बोला।

‘तुम अगर समझते हो, तो समझते रहो।’ सौम्या का लहजा भी तीखा था।

‘घटियापन पर उतर आईं ना।’ मैं बुरा सा मुँह बनाकर बोला।

मैं खाना खाते खाते अचानक उठ गया।

कुछ देर बाद मैं अपने कमरे में था।

उस दिन स्टेशन पर मुझे मेरे कई चेले छोड़ने आये।

‘मैं पाँचवें दिन वापस आ जाऊँगा। तुम मेरे लौटने पर ज़रूर आना। मैं तुम्हें इस सेमिनार के बारे में बताऊंगा।’

‘ठीक है सर, हम सब इकट्ठे होकर आएँगे।’ मन्दीप बोला।

‘सर, क्या फ़रज़ाना मैडम भी सेमिनार में आएँगी?’ राजीव ने चुटकी लेने की कोशिश की लेकिन वह मुझसे डांट खा गया।

‘तुम्हें इससे क्या लेना देना है? तुमने किसी और के बारे में क्यों नहीं पूछा?’ मेरा लहजा काफी सख़्त था।

राजीव कुछ बोला नहीं, चुपचाप उसने एक शरारतपूर्ण मुस्कुराहट के साथ अपनी निगाहें प्लेटफार्म की तरफ झुका लीं।

ट्रेन के चलते ही मैं डिब्बे में सवार हो गया।

डिब्बे के अन्दर की सरगर्मी कम हो चुकी थीं, कुछ लोग सो गये थे, कुछ अपनी बर्थ पर अपने बिस्तर बिछा रहे थे।

मैंने लेटते ही आँखें बन्द कर लीं और सामने फ़रज़ाना आकर खड़ी हो गई।

‘ फ़रज़ाना !’ मेरी करीबी दोस्त, शायरा, अत्यन्त खूबसूरत, गोरे गाल और होटों पर आमंत्रण देती मुस्कुराहट। फ़रज़ाना की सेक्स अपील मुझे हमेशा अपनी तरफ खींचती और इसी खिंचाव ने हम दोनों को एक दूसरे को बहुत करीब कर दिया था।
इतना करीब कि दोनों एक दूसरे के वजूद का हिस्सा बन गये थे।

मैंने हमेशा कोशिश की थी कि जिस सेमिनार में मैं हिस्सा लूँ, फ़रज़ाना भी उस सेमिनार में जरूर आये। फ़रज़ाना को भी बुलाने के लिये कई बार मैंने सेमिनार या कान्फ्रेंस के आयोजकों की खुशामद भी की। खुद आयोजक भी फ़रज़ाना को देख कर पिंघल जाते।

अचानक मुझे फ़रज़ाना से पिछली मुलाकात याद आई, मुझे अपने अन्दर तेज़ सनसनाहट महसूस हुई। जैसे तेज़ बहुत तेज़ आंधियाँ चलने लगी हों, पूरे बदन में बहुत से घोड़े एक साथ दौड़ने लगे हों, मेरे पूरे जिस्म से पसीना बह निकला।

आखिर ऐसा क्यों हुआ? क्या मैं?

नहीं वह एक संयोग हो सकता है। हाँ संयोग ही होगा। मैंने अपने आपको तसल्ली दी और आँखें बन्द करके सोने की कोशिश करने लगा।

कोई 20 घंटे बाद जब गाड़ी अपनी मंजिल पर पहुंची तो मैं थक कर चूर हो चुका था।

प्लेटफार्म पर उतरते ही मैंने घड़ी देखी, फ़रज़ाना कोई एक घण्टे बाद यहाँ पहुँचने वाली थी। मैं बेंच पर बैठ कर उसका बेचैनी से इन्तज़ार करने लगा।

गाड़ी आई और अपने साथ फ़रज़ाना को भी लेकर आई।

कुछ देर बाद मैं और फ़रज़ाना अपने होटल के कमरे में बैठे एक दूसरे को जज़्बाती निगाहों से देख रहे थे।

‘जाओ जाकर फ्रेश हो लो। तुम्हारे बाद मैं भी नहाना चाहता हूँ।’ मैं फ़रज़ाना की तरफ से नज़रें हटाकर कमरे का जायज़ा लेता हुआ बोला।

पहली नज़र में कमरा मुझे अच्छा लगा। टेलीफोन, टीवी, एयर कण्डीशनर के अलावा दीवारों पर लगी खूबसूरत चित्र कमरे की शोभा बढ़ा रही थे।

फ़रज़ाना नहाकर बाथरूम से निकली तो बारिश में नहाए हुए नर्म व नाजुक फूलों से भी ज्यादा तरोताज़ा लग रही थी। अलबत्ता मेकअप के बगैर उसका चेहरा बढ़ती उम्र की चुगली खा रहा था।

मैं उसे अर्थपूर्ण अन्दाज में देखता हुआ बाथरूम की तरफ बढ़ा।

नहा धो कर निकला तो फ़रज़ाना बोली- खाना होटल के डाइनिंग रूम में खाएँगे या यहीं मंगवाना है?

‘मामूली सा आराम इंसान को किस कद्र सुस्त बना देता है।’ मैं बिस्तर पर लेटता हुआ बोला।

‘क्या इरादा है? चलिये हॉल में चल कर खाना खा कर आएँ।’ फ़रज़ाना बोली।

‘मैं नहीं चाहता कि इस वक्त मेरे और तुम्हारे बीच कोई और मौजूद हो। वैसे भी अगर मुझे और तुम्हें किसी ने यहाँ एक साथ देख लिया तो बात के फैलने में देर नहीं लगेगी। कल जब हम लोग आयोजकों के मेहमान हो जायेंगे तो हम पूरी तरह से आजाद होंगे। अभी तो यहाँ कई दिन रहना है।’

‘हाँ, तुम ठीक कह रहे हो।’

चन्द लम्हों के लिये खामोशी छा गई। फ़िर फ़रज़ाना ने मुझ से बिना पूछे डिनर आ ऑर्डर दिया। हमने चुपचाप खाना खाया, फिर दोनों ने अपने कपड़े बदले और लेट गये।

मैंने अपनी बांह फ़रज़ाना के तकिये पर फैलाई तो उसने अपना सर मेरी बांह पर रख लिया।

हम दोनों खामोश थे।

कुछ पल के बाद एक हाथ बढ़ा और रोशनी बुझ गई। अभी रोशनी गुल हुए दस मिनट ही हुए होंगे कि फ़रज़ाना उठ बैठी उसने नाइट लैम्प का स्विच आन किया। उसके चेहरे पर झुंझलाहट दिखाई पड़ रही थी। वह उठी और बाथरूम में दाखिल हो गई।

वापस आई तो मुझसे मुखतिब होकर बोली- तुम पर अब उम्र का असर हो चला है। मुझे याद है, पिछली बार भी ऐसा ही हुआ था।’

मैं चुपचाप उसे देखता रहा। खामोशी के साथ शर्मिन्दगी ने भी मेरे मन-दिमाग में कुण्डली मार रखी थी।

अगली सुबह दोनों बैठे चाय की चुस्कियाँ ले रहे थे, मगर बेरुखी दोनों के बीच विराजमान थी।

फिर यह खामोशी मैंने ही तोड़ी, मेरे मुँह से अनायास ही निकल गया,’तुम्हारे शौहर कैसे हैं?’

फ़रज़ाना ने अजीब सी नज़रों से मुझे देखा, फिर बोली, ‘ठीक हैं ! तुम से तो बेहतर ही हैं।’ वह कुटिल भाव से मुस्कुराई।

मैं खिसिया गया। कुछ लम्हों के लिए फिर सन्नाटा छा गया। मेरी नज़रें लगातार फ़रज़ाना के चेहरे के गिर्द घूम रही थीं। माहौल खासा बोझिल हो गया था। मैंने माहौल बदलने की कोशिश करते हुए एक बार फिर खामोशी तोड़ी,’ फ़रज़ाना, देर हो रही है, जल्दी से तैयार हो जाओ। इसी वक्त यह होटल छोड़ना है। सेमिनार के आयोजकों को इन्तज़ार होगा। उन्हें यह खबर नहीं है कि मैं और तुम किस ट्रेन से आ रहे हैं।’

‘अच्छा ठीक है मैं तैयार होती हूँ।’ वह खड़ी होती हुई बोली,’ मुझे कल की बजाए आज ही आना चाहिए था।’

Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ © 2018