Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ

रोज नई नई गर्मागर्म सेक्सी कहानियाँ Only On Antervasna.Org

जूही और आरोही की चूत की खुजली-35

Joohi Aur Aarohi Ki Choot Kee Khujali- Part35

पिंकी सेन
नमस्कार दोस्तों आपकी दोस्त पिंकी आज एक मेगा पार्ट के साथ आपकी खिदमत में हाजिर है। उम्मीद है आज आपको भरपूर मज़ा मिलेगा और लेट पार्ट आने की आपकी शिकायत भी दूर हो जाएगी तो आनन्द लीजिए।
अब तक अपने पिछले भाग  जूही और आरोही की चूत की खुजली-34  में पढ़ा…
जूही ने अन्ना को किसी बात के लिए धमकाया तो वो वहाँ से भाग गया और रेहान को भी जूही ने अपनी बातों से समझा लिया कि आरोही को माफ़ कर दो।
रेहान और साहिल ने सब कुछ भुला दिया अब जूही सब के साथ चुदने के लिए तैयार है।
जूही- ओके ओके सब कपड़े निकाल दो, अब यहाँ कोई कपड़े में नहीं रहेगा। राहुल जल्दी से दीदी को भी नंगा कर दो…!
अब आगे..
राहुल ने जल्दी से आरोही को नंगा कर दिया और खुद भी नंगा हो गया। इतनी देर में वो तीनों भी नंगे हो गए थे।
जूही- वाउ क्या बात है… कितने लौड़े मेरी नज़रों के सामने हैं…. भाई आपका 6 का, सचिन का 7.30 के लगभग होगा, साहिल आपका 8 का और सबसे बड़ा रेहान जी का 9″ का, ऐसा लग रहा है, जैसे लौड़ों की दुकान लगी हो। हर साइज़ के मिल रहे हैं हा हा हा हा…!
रेहान- दुकान नहीं लगी है रंडी, आज तेरी ठुकाई ऐसे होगी कि आज के बाद तू हाथी का लौड़ा भी अपनी चूत में लेने से नहीं डरेगी हा हा हा हा…!
सब के सब रेहान की बात सुनकर हँसने लगे।
जूही- रेहान जी मैं कच्ची कली हूँ… आप मुझे रंडी क्यों बोल रहे हो…!
रेहान- प्यार से मेरी जान, सेक्स के समय जितनी गालियाँ दो, प्यार का मज़ा आता है, मगर तुम मुझे गाली मत देना क्योंकि मुझे गाली सुनना पसन्द नहीं है।
हाँ देनी है, तो तेरे हरामी भाई को दे देना।
राहुल- हाँ बहना मुझे चाहे जितनी गाली दो, अब कोई फरक नहीं पड़ता। अब जल्दी से लौड़ा चूस न.. ऐसे क्या बातों में समय खराब कर रही है यार…!
जूही- ओके..ओके.. सब गोल घेरा बना कर खड़े हो जाओ, मैंने एक इंग्लिश फिल्म में देखा है, एक लड़की सब के लौड़े कैसे चूसती है।
रेहान- अच्छा मेरी रानी को इंग्लिश पोज़ बनाना है… साली अभी जब लौड़ा चूत और गाण्ड में जाएगा न.. तो इंग्लिश तो दूर हिन्दी भी भूल जाओगी..! बस उईई आईईइ करेगी जैसे कोई चाइना की बिल्ली करती है हा हा हा हा हा…!
दोस्तों उस कमरे का माहौल ऐसा हो गया, जैसे कभी कुछ हुआ ही ना हो। सही कहते हैं सज़ा देने वाले से माफ़ करने वाला ज़्यादा बड़ा होता है। सब गोल घेरा बना कर खड़े हो गए। तकरीबन सब के लौड़े तने हुए थे। जूही एक-एक करके सब के लौड़े चूस रही थी। जीभ से चाट रही थी। आरोही बेहोश नहीं थी, बस उसकी आँखें बन्द थीं। वो सब सुन रही थी मगर उसकी हिम्मत नहीं हो रही थी कुछ बोलने की और जूही लौड़ों का रस लेने में बिज़ी थी।
साहिल- उफ्फ तेरे होंठों का कमाल है जूही आ क्या मज़ा आ रहा है…!
राहुल- अरे बहना साली… मेरा लौड़ा थोड़ी देर लेती है, तेरे यार सचिन का ज़्यादा चूस रही है।
जूही- चुप साले बहनचोद मेरा यार सचिन नहीं साहिल है समझे…!
रेहान- साली मादरचोद रंडी रात तक तो तेरा यार मैं था… अब साहिल हो गया। लगता है साली लौड़े के साथ ही तेरा यार बदल जाता है।
जूही- ही ही ही ही सॉरी रेहान जी मजाक कर रही थी, आप तो मेरे यार से बढ़ कर हो। आपने तो इस क़ाबिल बनाया कि आज लौड़े नहीं, लौड़ों को चूस रही
हूँ ही ही ही ही…!
जूही को हंसता देख साहिल ने जल्दी से उसके खुले मुँह में पूरा लौड़ा फँसा दिया और बाल पकड़ कर झटके मारने लगा।
राहुल- बस भाई मुझ से अब बर्दाश्त नहीं होता मैं तो चला आरोही को चोदने।
सचिन- अब बस भी कर साहिल, इसके मुँह में झड़ने का इरादा है क्या? कर दे साली की गाण्ड का मुहूरत…!
रेहान- चल छिनाल, अब चुदने को तैयार हो जा। सचिन नीचे लेट जा और इसकी चूत में लौड़ा डाल दे।
सचिन सीधा लेट जाता है, जूही उसके लौड़े पर बैठ जाती है, ‘सर्रर्र’ से लौड़ा चूत में समा जाता है।
जूही- आईईईई उफफफफ्फ़ ककककक…!
रेहान- बस रंडी, अभी से नाटक मत कर अभी तेरी गाण्ड बाकी है। साहिल अच्छे से थूक लगा कर डाल दे।
साहिल- हाँ भाई आप अपना बम्बू इसके मुँह में डाल दो ताकि साली ज़्यादा शोर ना मचाए।
जूही सचिन पर लेट गई। आगे से रेहान ने अपना लौड़ा उसके मुँह में डाल दिया और अब उसकी गाण्ड का गुलाबी सुराख साहिल के सामने था। साहिल ने लौड़े पर अच्छे से थूक लगाया और उसकी गाण्ड पर थूक कर छेद में ऊँगली से थूक डाल दिया। जूही मस्ती में रेहान का लौड़ा चूस रही थी। सचिन अपना लौड़ा डाले शान्त
पड़ा रहा, ताकि साहिल आराम से गाण्ड में लौड़ा घुसा दे। साहिल ने ऊँगली से गाण्ड को खोंला और अपनी टोपी फंसा कर जोरदार धक्का मारा…. आधा लौड़ा गाण्ड को फाड़ता हुआ अन्दर घुस गया, जूही बस “गूं गूं अईयू” करती रही, मुँह में जो लौड़ा फँसा हुआ था। साहिल ने देर ना करते हुए लौड़ा पीछे खींचा और दोबारा पूरी ताक़त से लौड़ा अन्दर डाला। अबकी बार पूरा 8″ का लौड़ा गाण्ड की गहराइयों में खों गया। जूही को इतना दर्द हुआ, अगर लौड़ा मुँह में नहीं होता, तो उसकी चीखों से पूरा फार्म गूँज जाता।
रेहान- उईईई साली काटती क्यों है, आ..हह.. यार साहिल आराम से डाल ना देख कैसे आँखों में आँसू आ गए बेचारी के…!
नीचे से सचिन धका-धक चोदने में बिज़ी था।
सचिन- उह उह आ..हह.. इसी को आह…आह शौक चढ़ा था, ग्रुप-चुदाई का आह आहा…!
साहिल भी अब दे दना-दन शॉट मार रहा था। उधर राहुल आरोही की चूत में लौड़ा पेले जा रहा था। वो भी एकदम मस्ती में था।
राहुल- आ आ..हह.. चोदो आ..हह.. मेरी दोनों बहनों को एक साथ चुदाई करो उफ्फ मज़ा आ रहा है, आरोही माय डार्लिंग काश तुम होश में होतीं… उफ्फ देखो जूही
का कैसे गैंग-बैंग हो रहा है।
पन्द्रह मिनट तक जूही की गाण्ड और चूत में धक्के लगते रहे और रेहान उसके मुँह को चोदने में बिज़ी था। जूही इस तिहरी चुदाई से दो बार झड़ गई थी।
अब साहिल का बाँध भी टूटने वाला था, वो फुल स्पीड से दोनों को चोदने लगा।
साहिल- आह आह उहह उहह मैं गया आ..हह.. इसकी गाण्ड बहुत मस्त है आ… साहिल ने पूरा पानी गाण्ड में भर दिया और लौड़ा निकाल कर साइड में लेट गया।
लौड़ा निकलते ही ‘पुच्छ’ की आवाज़ आई और जूही को असीम दर्द का अहसास हुआ। जूही ने रेहान का लौड़ा मुँह से निकाल दिया।
जूही- आइ उफ्फ आ..हह.. रेहान जी आ..हह.. डाल दो लौड़ा गाण्ड में… उफ्फ ये दर्द अब मज़ा देने लगा है… आप भी मेरी गाण्ड का मज़ा लो आ..हह….!
जैसे ही रेहान ने लौड़ा गाण्ड में घुसाया,
जूही- आईईईई उइ मा मर गई आ..हह.. ससस्स आह सचिन आह उफ़फ्फ़ ज़ोर से चोदो आ..हह.. मैं गई उफ़फ्फ़ आईईइ…!
सचिन और ज़ोर से चोदने लगा। वो भी झड़ने के करीब था।
सचिन- आ..हह.. ले साली छिनाल आ..हह.. उह उह आ..हह.. एयाया उफफफफ्फ़…!
सचिन भी झड़ गया, पर रेहान तो गाण्ड का भुर्ता बनाने में लगा हुआ था। राहुल एकदम स्पीड बढ़ा देता है और अपना पूरा पानी आरोही की चूत में छोड़ देता है।
राहुल- आह उफ़फ्फ़ मज़ा आ गया रेहान सब झड़ गए… अब तू भी पानी निकाल दे यार.. क्यों मेरी बहन की गाण्ड की गंगोत्री बना रहा है।
रेहान- आ..हह.. उह उह अबे चुप साले मादरचोद इस रंडी को पूछ… मज़ा आ रहा है या नहीं… उह उह कहाँ ऐसा लौड़ा मिलेगा इसको… उह आ आ…!
जूही- आ..हह.. उ आ..हह.. हा भाई उफ्फ दर्द तो बहुत है पर आ आ..हह.. सच में ऐसा तगड़ा आ..हह.. लौड़ा कहाँ मिलेगा आ..हह…..!
रेहान अब ज़ोर-ज़ोर से झटके मारने लगा था शायद उसके लौड़े में झनझनाहट हो गई थी।
जूही- आ..हह.. उफ्फ तेज़ रेहान जी आ..हह.. प्लीज़ लौड़ा आ आ..हह.. मेरी चूत में डाल कर ही पानी निकालना आ..हह.. मेरा भी आह निकलने वाला है आ..हह.. उ…!
रेहान ने जल्दी से लौड़ा गाण्ड से निकाला और जूही की चूत में पेल दिया।
जूही- आइ आइ कितना चुदवा कर भी आ आपका लौड़ा तो चूत में आ..हह.. दर्द ही करता है…उईई अब फास्ट प्लीज़ आ..हह.. फास्ट मैं गई आ आ..हह.. आह…!
दोनों एक साथ झड़ जाते हैं।
राहुल- वाउ यार जूही की गाण्ड तो देखो कैसे लाल हो गई है और छेद देखो कैसे खुला हुआ है, यार रेहान तेरा लौड़ा बहुत भारी है कसम से मेरी बहनों की तो लॉटरी निकल गई.. ऐसा लौड़ा पाकर…!
साहिल- बस कर साले कुत्ते, अभी भी मेरे दिमाग़ में सिम्मी घूम रही है, साले तेरी जान ले लूँगा मैं अब…!
सचिन- भाई उन दो कुत्तों का क्या करना है अब..!
रेहान- रहने दो उनको वहीं पर। थोड़ा रेस्ट कर लो सब.. बाद में बात करेंगे…!
सब नंगे ही वहाँ सो गए जैसे यहाँ कोई सेक्स का मेला लगा हो जूही को नींद नहीं आ रही थी। उसकी गाण्ड में बहुत दर्द था, वो उठकर बाथरूम में चली गई और गर्म पानी करके टब में गाण्ड और चूत सेंकने लगी। करीब आधा घंटा वो वहीं बैठी रही। फिर नहाकर रूम में आकर बेड पर लेट गई। चुदाई की थकान से उसको भी नींद आ गई। दोपहर तक सब के सब सोते रहे। सबसे पहले आरोही की आँख खुली अब दवा का असर जाता रहा। आरोही ने सब पर निगाह मारी और सीधी बाथरूम में चली गई। बीस मिनट बाद फ्रेश होकर वो नंगी ही बाहर आई, तब साहिल नींद में जूही के ऊपर पैर डाले पड़ा था और उसका लौड़ा जूही की जाँघों पर चढ़ा हुआ था।
आरोही- उहह कुत्ता बोलता है कि मेरे साथ सेक्स नहीं करेगा। अभी बताती हूँ हरामी को।
आरोही धीरे से साहिल को सीधा कर देती है और उसके लौड़े को मुँह में लेकर चूसने लगती है। साहिल गहरी नींद में था, उसको पता भी नहीं चला कि उसका लौड़ा आरोही चूस रही है। दो मिनट में ही वो अकड़ कर अपने आकार में आ गया। दोस्तों आदमी भले ही नींद में हो, पर ये लंड बड़ी कुत्ती चीज होता है। जरा सा अहसास हुआ नहीं कि अकड़ने लगता है। जब लौड़ा पूरा कड़क हो गया, तो आरोही बेड पर आ गई और साहिल के दोनों तरफ पैर निकाल कर लौड़े को चूत मैं डाल लिया और खुद उकडूँ बैठ कर ऊपर-नीचे होने लगी और धीरे-धीरे बोलने लगी।
आरोही- आ..हह.. उई ले कुत्ते मैंने तेरा लौड़ा चूत में डाल लिया, अब बोल क्या बोलता है…!
साहिल को अब कुछ अहसास हुआ तो उसकी नींद टूटी उसने आँखें खोल दीं, तभी आरोही झट से उसके ऊपर लेट गई और उसके बोलने से पहले उसके होंठों को
अपने होंठों से जकड़ कर चूसने लगी। अब साहिल क्या करता लौड़ा चूत में है और नर्म मुलायम होंठ उसके होंठों पर, सो लग गया वो भी, नीचे से झटके मारने और आरोही का किस में साथ देने। अब कोई कुछ भी कहे ऐसी पोजीशन में आदमी का दिमाग़ कहाँ काम करता है। बस लौड़ा अपना काम करता है। जो कर भी रहा है। साहिल को मज़ा आने लगा था। वो नीचे से गाण्ड उठा कर झटके मार रहा था। बेड हिलने लगा था।
आरोही- आआ उ फक मी आह फक मी उ फास्ट फास्ट आ..हह.. मज़ा आ गया…!
बेड के हिलने से सब की आँख खुल गई और ये नजारा देख कर सब के लौड़े कड़क होने लगे। जूही अभी भी सो रही थी।
सचिन- ये साली रंडी कब उठी और उठते ही चुदने लगी.. रुक राण्ड मैं आता हूँ…!
सचिन ने अपने लौड़े पर थूक लगाया और आरोही की गाण्ड में पीछे से धक्का मार दिया। बेचारी दर्द से तिलमिला गई। कहाँ राहुल के 6″ लौड़े से गाण्ड मरवाई थी, अब ये लौड़ा तो दर्द ही करेगा न..! सचिन ने एक ही झटके से पूरा अन्दर डाल दिया था। ‘फ़च्छ’ की आवाज़ के साथ लौड़ा गाण्ड में समा गया। अब दोनों धका-धक चोद रहे थे। राहुल की नज़र रेहान पर गई। उसका लौड़ा भी अपने शबाब पर आ गया था। राहुल अपने लौड़े को हाथ से सहला रहा था और जूही को देख रहा था। वो
करवट लेकर सोई हुई थी। उसकी गाण्ड राहुल को अपनी और आकर्षित कर रही थी।
रेहान- अबे साले गंदी नाली के कीड़े … सोच क्या रहा है बहनचोद, दिल में तेरे इसकी गाण्ड मारने की तमन्ना है। लौड़ा तेरा तना हुआ है अब क्या इस रंडी के उठने
का इंतजार करेगा… डाल दे साली की गाण्ड में दर्द होगा तो अपने आप उठ जाएगी…!
राहुल- बात तो आपने सही की, लेकिन बम्बू तो आपका भी तना हुआ है उसका क्या करोगे…!
रेहान- अबे साले ये तेरी गाण्ड में डालूँगा…. चल चुपचाप गाण्ड मार उसकी। मेरा मन तो मेरी जान आरोही की गाण्ड मारने को कर रहा है बड़ी जालिम
है साली…!
राहुल- ही ही ही आप भी ना कसम से पक्के चोदू हो, मेरी दोनों बहनों की चूत का भोसड़ा बना दिया, अब गाण्ड की गंगोत्री बनाने पर तुले हुए हो…!
साहिल- अहहुह उहह भाई आ मज़ा आ रहा है साली रंडी की चूत बहुत मस्त है आ आ…!
सचिन- आ आ..हह.. भाई मेरा पानी निकलने ही वाला है आ..हह.. आ जाओ आप आराम से मार लो साली की गाण्ड आ आ..हह…..!
साहिल- मेरा भी निकलने वाला है उफ्फ अब चाहे चूत मारो या गाण्ड सब आपका है…!
आरोही- ओह फास्ट यू बास्टर्ड आह मेरी गाण्ड को खोल दो अभी तुम्हारा बाप मोटा लौड़ा डालेगा उसके लिए जगह बनाओ आ..हह.. फास्ट उफ्फ सीसी आ..हह…..!
सचिन- उहह उहह ले रंडी आ..हह.. साली गाली देती है मादरचोद ले आ उह उह…!
तेज झटकों की बौछार आरोही की चूत और गाण्ड पर होने लगी। वो बर्दाश्त ना कर पाई और झड़ गई। वो दोनों भी झड़ गए थे। अब सुकून में आ गए थे।
इधर राहुल इन लोगों की चुदाई देख कर बहुत ज़्यादा उत्तेज़ित हो गया था। उसने लौड़े पर थूक लगाया और जूही की गाण्ड में ठोक दिया। जूही को दर्द हुआ तो उसकी आँख खुल गई। तब तक राहुल झटके मारने लगा था।
जूही- आ आ..हह.. उई भाई आ..हह.. क्या है ठीक से सोने भी नहीं देते उफ्फ सीईई उईई अब आ..हह.. फास्ट करो ना आ…!
आरोही- हटो भी दोनों पानी निकाल कर भी मेरे ऊपर ही पड़े हो… मेरे राजा रेहान को आने दो उनका लौड़ा तना हुआ है, उनको मेरी गाण्ड मारने दो अब…!
सचिन ऊपर से हट कर एक साइड हो गया।
साहिल- वो तो हट गया साली छिनाल अब तू भी तो मेरे ऊपर से हट… अब क्या दोबारा चुदाने का इरादा है?
आरोही ऊपर से हट कर बड़बड़ाती है।
आरोही- उहह तेरे से कौन चुदेगा… बोलता था, मैं ऐसी रंडी के साथ नहीं करूँगा.. अब क्यों मज़े लेकर चोद रहे थे?
साहिल- चुप साली मादरचोद… मैंने कब तेरे को कहा कि आओ चुदो… साली मैं तो आराम से सो रहा था… तू खुद आई चुदने के लिए। अब चूत में लौड़ा घुसने
के बाद कोई पागल ही होगा जो चोदने को मना करे।
जूही- आ भाई मज़ा आ रहा है… जल्दी करो मेरे साहिल को गुस्सा आ रहा है, मैं उनका लौड़ा मुँह में लेके उनको शान्त करूँगी…!
रेहान- अब बन्द करो ये लड़ाई… कुत्तों की तरह भौंक रहे हो सब के सब…!
सचिन- मैं तो चला बाथरूम।
सचिन के जाने के बाद साहिल भी दूसरे रूम के बाथरूम में चला जाता है। इधर राहुल भी जूही की गाण्ड को पानी से भर देता है और एक साइड लेट जाता है।
आरोही उठकर रेहान के पास आकर उसके लौड़े को चूसने लगती है।
रेहान- उफ्फ तेरी यही अदा तो मुझे पसन्द है साली क्या चूसती हो।
राहुल- भाई मुझे घर जाना होगा, पापा का फ़ोन आने वाला है हम सब यहाँ हैं.. कहीं उनको कुछ शक ना हो जाए साली नौकरानी बोल देगी कल से
हम गायब हैं…!
रेहान- अबे साले तीनों के फ़ोन तो यहाँ हैं घर पर क्यों…!
जूही- वो दरअसल बात ये है रेहान जी पापा मोबाइल पर नहीं घर के फ़ोन पर फ़ोन करते हैं ताकि उन्हें पता रहे कि हम सब घर में ही हैं वो हमें ज़्यादा
बाहर जाने से मना करते हैं…!
राहुल- मैं जाऊँगा तो उनसे बात कर लूँगा, इनके बारे में पूछेंगे तो कह दूँगा सो रही हैं या बाथरूम में हैं।
आरोही लौड़े को मुँह से निकाल लेती है।
आरोही- मुझे भी साथ ले चलो भाई, पापा मेरे से बात करने की ज़िद करेंगे। तुम तो जानते हो ना मेरे से बात किए बिना उनको चैन ना आएगा।
रेहान- साली छिनाल कोई चाल तो नहीं चल रही है ना मेरे साथ…!
आरोही- नहीं रेहान मैं कोई पागल नहीं हूँ आपके पास इतने वीडियो हैं, पेपर साइन किया हुआ अन्ना के पास है। मैं आपसे दोबारा माफी मांगती हूँ मैं शर्मिन्दा हूँ कि मेरी जलन की वजह से सिम्मी की जान गई। आप चाहो तो अब भी मुझे मार दो, मैं उफ्फ नहीं करूँगी, पर पहले माफ़ कर दो बाद में मार देना…!
जूही- रेहान जी दीदी सही कह रही हैं, इनकी आँखों में आए आँसू इनकी सच्चाई की गवाही दे रहे हैं..!
रेहान- अच्छा तुम दोनों चले जाओगे तो मेरे इस खड़े लौड़े का क्या होगा…!
जूही- मैं हूँ ना रेहान जी आपकी लिटल जान.. अभी इसको शान्त कर देती हूँ।
सब उसकी बात पर हँसने लगते हैं। तभी सचिन और साहिल भी आ जाते हैं।
रेहान- तुम दोनों वो सारे वीडियो नष्ट कर दो मैं नहीं चाहता किसी के हाथ लगें और कोई उनका मिस यूज़ करे और उन कुत्तों का क्या करना है मैं बाद में
बताऊँगा। अभी उनको वहीं रहने दो… समझ गए ना जाओ…!
साहिल- ओके भाई जैसा आप कहो…!
रेहान- और जूही तुम भी जाओ पहले फ्रेश हो जाओ। मैं बाद में तुम्हें आराम से चोदूँगा.. साली पता नहीं क्या जादू कर दिया है तुम दोनों बहनों ने, लौड़ा है कि बैठने का नाम ही नहीं लेता।
सचिन- भाई ये चूतें नहीं भूल-भुलैयां हैं… हम सब के लौड़े खो गए हैं इनमें….!
सब ज़ोर-ज़ोर से हँसने लगते हैं। सब के जाने के बाद रेहान एलईडी में कुछ देखता है और बेड पर लेट जाता है। पन्द्रह मिनट में जूही फ्रेश होकर नंगी ही बाहर आ जाती है।
रेहान- अबे साली कपड़े तो पहन कर आती, ऐसे ही आ गई..!
जूही- लो जी अब कपड़े पहनने की मेहनत करूँ आप निकालने की मेहनत करो… आख़िर में होना तो नंगी ही है, तो ऐसे में क्या बुराई है… हाँ..!
रेहान- साली पक्की रंडी है तू, इतना चुद कर भी तेरे को सब्र नहीं…!
जूही- ओ हैलो… मेरी चूत और गाण्ड की बैंड-बाजी हुई है। ये तो आपका लौड़ा खंबे जैसा खड़ा है। इसके लिए बोल रही हूँ।
रेहान- आजा मेरी रानी यहाँ बैठ इसका इलाज बाद में करना पहले मेरे दिमाग़ में जो चल रहा है, उसका इलाज कर…!
जूही- क्या रेहान जी…!
रेहान- देख अन्ना मेरा दोस्त है और उसने ऐसा क्या किया है जिसकी तू गवाह है?
जूही- रहने दो ना, आपने कहा वो आपका दोस्त है तो अब क्यों उसके राज को जानना चाहते हो?
रेहान- देखो जूही तुम अच्छे से जानती हो इस घर के कोने-कोने में कैमरे लगे हैं, मुझे इतना तो पता है कुछ तो उसने गलत किया, पर आदमी की फ़ितरत ही ऐसी होती है कि उसको पूरी बात जानने की खुजली होती है। अब बता भी दे ना क्या बात है..!
ओके माय ऑल फ्रेंड्स, आज आपको मेगा पार्ट दे दिया। अब तो आपको शिकायत नहीं है ना… किसी बात की….! ये आख़िरी राज है अन्ना और जूही का ये भी अगले पार्ट में आपको बता दूँगी और कोशिश करूँगी कि स्टोरी का एक अच्छा सा हैप्पी एंड हो ओके… अब आप मेरी आईडी pinky14342@gmail.com पर मेल करो और बताओ कि आज मज़ा आया ना आपको…!

Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ © 2018