Home / ग्रुप सेक्स स्टोरी / जूही और आरोही की चूत की खुजली-33

जूही और आरोही की चूत की खुजली-33

Joohi Aur Aarohi Ki Choot Kee Khujali- Part33

पिंकी सेन
अब तक अपने पिछले भाग  जूही और आरोही की चूत की खुजली-32  में पढ़ा…
आरोही के सामने सारी बात खुल गई थीं, वो खुद को बड़ी बेसहारा महसूस कर रही थी। यूं तो जूही कहने को उन लोगों का साथ दे रही थी, पर दिल ही दिल में उसको दुख था जब अन्ना आरोही को रूम में ले गया, तब वो खिलाफ हो गई। साहिल जूही को ऊपर ले गया।
अब आगे…
जब साहिल ने वीडियो ऑन किया, उसको जूही पर गुस्सा आया।
साहिल- चुप करो जिस रंडी बहन के लिए तुम्हारा दिल जल रहा है.. देखो कैसे वो अन्ना का लौड़ा प्यार से चूस रही है, इसको देख कर तुमको लगता है कि इसके साथ ज़बरदस्ती हो रही है?
जूही भी आरोही को देखती रह गई। उसको अपनी आँखों पर यकीन नहीं आ रहा था। साहिल उसके पास बेड पर बैठ गया और दोनों चुपचाप आरोही का तमाशा देखने लगे। साहिल के लौड़े में तनाव आने लगा था। ये सब देख कर वो जूही के पास बैठा था और उसका हाथ अपने आप जूही के मम्मों पर चले गए। वो उनको दबाने लगा। जूही को भी मस्ती चढ़ने लगी थी। वो भी साहिल के लंड को मसलने लगी। काफ़ी देर तक दोनों एक-दूसरे के साथ खेलते रहे। जब अन्ना ने आरोही की चूत
में लौड़ा डाला, जूही के मुँह से ‘आह’ निकल गई। उसकी चूत गीली हो गई थी। साहिल का भी बुरा हाल था। अब उसका बर्दाश्त कर पाना मुश्किल था। अन्ना धकाधक आरोही को चोद रहा था और साहिल ने जूही को बेड पर सीधा लेटा कर उसके होंठों को अपने होंठों में जकड़ लिया था।
दोस्तों ये दोनों तो गर्म हो गए। अब इनकी चुदाई पक्की शुरू होगी। आपको बीच मैं डिस्टर्ब करूँगी, तो आपको अच्छा नहीं लगेगा, इसलिए पहले रेहान क्या कर
रहा है, वो आप देख लो ओके।
रेहान गुस्से में उस रूम में जाता है, जहाँ सब दारू पी रहे थे।
संजू- आओ भाई तुम भी पियो और जल्दी उस रंडी को हमारे हवाले करो…!
रेहान- संजू जो दवा सिम्मी को दी थी, क्या अभी ला सकता है..? फिर तुम दोनों को आरोही के साथ वो ही सब करना है जो उस समय किया था।
संजू- भाई 20 मिनट भी नहीं लगेंगे, आप बस किसी को गाड़ी लेकर साथ भेज दो। आज तो साली रंडी से गिन-गिन कर बदले लूँगा।
रेहान संजू के साथ सचिन को भेज देता है और खुद वहाँ बैठकर शराब पीने लगता है।
चलो दोस्तों वो लोग आएं, तब तक वापस जूही और साहिल के पास चलते हैं। साहिल जूही के होंठों का रस पी रहा था और जूही अपने हाथ उसकी पीठ पर
घुमा रही थी।
साहिल- आई लव यू.. जूही, जब से तुमको देखा है, बस दीवाना हो गया हूँ तुम्हारा, भगवान का शुक्र है तुम निरपराध हो, वरना तुम्हें तकलीफ़ में
देख कर मुझे बहुत दुख होता।
जूही कुछ नहीं बोल रही थी, बस साहिल के बालों में हाथ घुमा रही थी। साहिल जूही के मम्मों को दबा रहा था।
जूही- आ..हह.. धीरे से उफ्फ आप तो ऐसे दबा रहे हो, जैसे कभी किसी लड़की के दबाए ही ना हों।
साहिल- तेरी जैसी अप्सरा कभी मिली ही नहीं अब ये कपड़ों के बंधन से आज़ाद हो जाओ और आ जाओ मेरी बाँहों में।
जूही- आप ही निकाल लो, रोका किसने है..!
साहिल एक-एक करके कपड़े उतार कर जूही को नंगा कर देता है और उसकी मदमस्त चूत देख कर उसको चूम लेता है।
जूही- सस्सस्स सीईई उफ़फ्फ़ कितनी गर्म साँसें हैं आपकी…!
साहिल चूत को चूसने लगता है। जूही उसके सर को पकड़ कर चूत पर दबा लेती है। दो मिनट की चूत चूसाई के बाद साहिल सर उठाता है।
साहिल- जान तेरी चूत का तिल देखकर ही मेरा दिल इस पर आ गया था। मैं आज इस पर मेरे लौड़े की मुहर लगा दूँगा।
जूही- उफ्फ अब मेरे बर्दाश्त के बाहर है, आपने चूत को चाट कर अपना बना लिया है। अब जल्दी से अपना लंड डाल दो बस…!
साहिल- अभी लो मेरी जान.. ये लो निकाला शर्ट और ये गई पैन्ट।
जूही- रूको अंडरवियर मैं निकालूँगी।
साहिल- आ जाओ रानी, ये लो निकालो..!
जूही ने अंडरवियर निकाला, लौड़ा फनफनाता हुआ बाहर आ गया। जूही ने जल्दी से उसको अपने मुँह में ले लिया।
साहिल- उफ्फ जालिम क्या अदा से चूसती है साली.. मेरे लौड़े से तो बूँदें टपकने लगीं…!
जूही के मुँह में लंड था, उसको हँसी आ गई। उसने और ज़ोर से लौड़े को चूसना शुरू कर दिया।
साहिल- आ..हह.. उफ्फ बस भी कर साली.. दोबारा मुँह से ही ठंडा करेगी क्या.. चल बन जा घोड़ी… आज तेरी सवारी करूँगा, अब मेरा लौड़ा तेरी चूत का स्वाद चखेगा।
जूही घुटनों पर आ जाती है।
जूही- आराम से डालना जानू… चूत में दर्द है। रेहान ने कल बहुत ठुकाई की है मेरी।
साहिल- डर मत रानी रेहान के लौड़े से छोटा ही है… ले संभाल…!
साहिल ने टोपी चूत पर टिका कर हल्का धक्का मारा।
जूही- आ..हह.. उई साहिल मज़ा आ गया आ..हह.. डाल दो पूरा आराम से।
साहिल ने पूरा लौड़ा चूत में घुसा दिया और धीरे-धीरे झटके मारने लगा। जूही भी आपने कूल्हे पीछे धकेल कर मज़ा लेने लगी।
जूही- आ..हह.. उई उफ्फ चोदो आ..हह.. मज़ा आ रहा है। आ..हह.. चोद लो उफ़फ्फ़ ससस्स कर लो अपना अरमान पूरा आ..हह.. आह ज़ोर से उ आह मज़ा आ रहा है…!
साहिल दे दनादन झटके मारने लगा। उसका लौड़ा चूत की गहराई तक जाता और पूरा बाहर आ जाता, फिर ज़ोर से अन्दर जाता। जूही की नन्ही चूत इतना कहाँ बर्दाश्त कर पाती, उसका बाँध टूट गया।
जूही- आआआ एयाया फास्ट प्लीज़ आह फास्ट मैं झड़ने वाली हूँ उईईइ मेरी चूत आआ..हह.. में बहुत तेज़ गुदगुदी हो रही है.. थोड़ा और ज़ोर से चोदो आ..हह..
प्लीज़ प्लीज़ आआ…!
जूही की बातों से साहिल और ज़्यादा उत्तेज़ित हो गया और अपनी पूरी ताक़त लगा कर झटके मारने लगा। दोनों के मिलन की आवाजें गूँजने लगीं “ठप..ठप..पूछ..पूछ..एयाया उईईइ आह उह उह उह..!” बस पाँच मिनट तक ये तूफ़ान चलता रहा। साहिल भी जूही के साथ ही झड़ गया। आज उसके लंड ने इतना पानी छोड़ा, जितना शायद ही कभी निकला हो। दोनों के पानी का समागम हो गया और रूम में एकदम सन्नाटा हो गया। जैसे तूफ़ान के बाद सब ख़त्म हो जाता है, एकदम शान्त। दोनों बेड पर निढाल होकर गिर गए। दो मिनट की शांति के बाद साहिल ने जूही के मम्मों को टच किया।
जूही- क्या बात है तुम्हारा मन नहीं भरा क्या..!
साहिल- यार तुम ऐसी अप्सरा हो कि कभी मन नहीं भरेगा। चलो अब कपड़े पहन लो, नीचे क्या हो रहा है, देखते हैं..!
जूही- साहिल मुझे अन्ना के बारे में कुछ बताना है।
साहिल- बाद में बता देना, अभी चलो यहाँ से वरना रेहान पता नहीं क्या सोचेगा।
दोनों नीचे आ जाते हैं। तब तक संजू और सचिन भी आ चुके थे, सचिन वहीं रेहान के पास खड़ा था और संजू अन्दर रूम में दारू पीने चला गया।
रेहान- आओ हीरो, आओ दिमाग़ ठीक हुआ क्या इसका.. या अब भी उस रंडी के लिए परेशान है ये?
जूही- नहीं मेरा दिमाग़ उस समय भी ठीक था अब भी है, पर आपने मेरी बात सुनी ही नहीं, अब तो अन्ना ने आरोही को चोद लिया। अब तो मेरी बात अन्ना
से करवा दो।
रेहान कुछ सोचता है और उस रूम की तरफ जाने लगता है, जहाँ अन्ना और आरोही थे।
उधर अन्ना फिर से आरोही की गाण्ड को सहलाने लगता है।
आरोही- क्या बात है अन्ना, क्या इरादा है तुम्हारा?
अन्ना- बेबी बस ये गाण्ड और मारने दो, उसके बाद मैं खुद रेहान को समझाएगा जी…!
आरोही- मार लो अब मना करूँगी तो मानोगे थोड़े ही तुम हरामी जो ठहरे…!
अन्ना- ही ही ही तुम बहुत नॉटी होना जी.. आ..हह.. जाओ पहले मेरे नाग को तैयार करो जी।
आरोही अन्ना के लौड़े पर हाथ रख देती है, तभी डोर पर नॉक होती है।
अन्ना- क्या हुआ जी?
रेहान- डोर खोलो जल्दी से…!
अन्ना मूड ऑफ करके डोर खोल देता है।
रेहान- तुमने ठीक से बताया नहीं कि राहुल कहाँ है, ठिकाने लगा दिया का मतलब कहीं तुमने उसको मार तो नहीं दिया न..!
अन्ना- ना जी हम अन्ना स्वामी किसी को मारना नहीं जी उसको पेपर साइन के लिए दिए साला होशियार निकला पेपर रीड कर लिया जी कुत्ता भड़क गया कि ब्लू-फिल्म के लिए उसको और उसकी बहन को कास्ट किया गया है। बस उसको कंट्रोल करने के लिए मेरा आदमी लोग बन्द करके रखना जी… वो इधर बाहर ही गाडी में पड़ा है।
रेहान- क्या यार अन्ना पागल हो क्या.. पहले क्यों नहीं बताया मैं समझा तुम्हारे कहने का मतलब है कि उसको किसी काम में बिज़ी कर आए हो।
अन्ना- सॉरी जी..!
रेहान- साहिल जाओ तुम उसको लेके आओ और जहाँ सब हैं वहीं उसको ले जाओ, साथ में आदमी लेके जाना, कहीं भाग ना जाए कुत्ता…!
साहिल- हाँ जाता हूँ सचिन आओ तुम साथ चलो।
दोनों वहाँ से चले जाते हैं।
रेहान- अच्छा ये बताओ ये जूही को जानते हो तुम?
अन्ना- न..नहीं तो, क्यों कुछ कहा क्या इसने..!
रेहान- कहा तो नहीं, मगर इसको तुमसे बात करनी है इसलिए पूछा…!
अन्ना- क..क्या बात करनी है?
जूही- चलो मेरे साथ रूम में बताती हूँ क्या बात करनी है…!
आरोही तब तक बाहर आ चुकी थी और रेहान को घूर रही थी।
रेहान- ऐसे क्या देख रही है साली, भागना चाहती है क्या.. जा भाग जा मैं कल तेरी फिल्म रिलीज कर दूँगा।
आरोही कुछ ना बोली और बस उसी हालत में रेहान को देखती रही। दोस्तों इनको छोड़ो, जूही और अन्ना की बात सुनते हैं आख़िर माजरा क्या है?
ऐसी क्या बात है जो अन्ना जैसा खिलाड़ी तुतला रहा है। अन्ना रूम में जाते ही डोर लॉक कर देता है।
अन्ना- बेबी सॉरी जी हम जानता नहीं था, आरोही तुम्हारी बहन होना जी।
जूही एकदम गुस्से में आँखें लाल कर लेती है।
जूही- पहले पता नहीं था, पर आज तो पता चल गया था ना उसके बाद भी तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई… मेरी दीदी को हाथ लगने की… हाँ…!
सॉरी दोस्तों आज इनकी बात आप नहीं सुन पाओगे ये सब आपको जल्द ही अगले भाग में जरुर मिल जाएगा।
आपको मज़ा तो आ गया होगा साहिल और जूही का प्यार देख कर।
आप जल्दी से मेरी आईडी pinky14342@gmail.com पर मेल करके बताओ मज़ा आया न…!
बाय

Check Also

जूही और आरोही की चूत की खुजली-35

Joohi Aur Aarohi Ki Choot Kee Khujali- Part35 पिंकी सेन नमस्कार दोस्तों आपकी दोस्त पिंकी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *