Home / भाई बहन / जूही और आरोही की चूत की खुजली-2

जूही और आरोही की चूत की खुजली-2

Joohi Aur Aarohi Ki Choot Kee Khujali- Part2

पिंकी

मेरी कहानी का पिछला भाग :-  जूही और आरोही की चूत की खुजली-1

हैलो दोस्तो, कैसे हैं आप सब लोग..! उम्मीद करती हूँ कि आप सब ठीक होंगे। आप सब के मेल मिले, पढ़कर अच्छा लगा। अब मैं आपके लिए इस कहानी को आगे बढ़ा रही हूँ।
अब तक अपने पढ़ा कि आरोही और जूही लैस्बो सेक्स करती हैं और पहली बार उनकी चूत ने पानी छोड़ा था।
फिर राहुल उनको गेम के लिए बोलता है और तब आरोही उसके साथ चली जाती है। राहुल के रूम में आकर आरोही बेड पर बैठ जाती है। राहुल उसके पास खड़ा हो जाता है। तभी राहुल की नज़र आरोही के मम्मों पर जाती है।
अब आगे…
ब्रा ना पहने हुए होने की वजह से टी-शर्ट के गले में से दूध जैसे सफेद मम्मे साफ नज़र आ रहे थे। राहुल आरोही के मस्त मम्मों को निहार रहा था, उसका लंड हरकत करने लगा था।
दोस्तों राहुल जानता है कि आरोही उसकी सग़ी बहन है, पर लौड़ा किसी रिश्ते को नहीं मानता है, उसे तो बस चूत से मतलब होता है। जब भी कोई मस्त माल दिखे, वो अपनी औकात में आ जाता है।
आरोही को जब यह अहसास हुआ तो वो झट से खड़ी हो गई।
राहुल- क्या हुआ? बैठो ना..!
आरोही- भाई आपने बताया नहीं कि कौन सा खेल खेलेंगे?
तभी जूही भी कमरे में आ गई।
जूही- हाँ भाई मैं भी आ गई हूँ, अब बताओ क्या खेलें?
राहुल- हम कुश्ती करेंगे.. मज़ा आएगा..!
आरोही- क्या यह भी भला कोई खेल हुआ?
राहुल- अरे बहुत मज़ा आएगा.. तुम दोनों एक तरफ़ और मैं अकेला.. हम बड़ा वाला गद्दा ज़मीन पर डाल लेंगे.. अगर तुम दोनों ने मुझे पकड़ लिया और मेरी नाक ज़मीन पर लगा दी, तो तुम जीत जाओगी और अगर मैंने तुम्हारी लगा दी.. तो मैं जीत जाऊँगा.. ओके?
जूही- ओके.. भाई.. लेकिन हम जीत गए, तो हमारा क्या फायदा.. पहले वो तो बताओ..!
राहुल- हारने वाला.. जीतने वाले को, जो वो माँगे, देना पड़ेगा..!
आरोही- वाउ..! तब तो हम ही जीतेंगे और आप हमें शॉपिंग करवाओगे.. ओके..!
राहुल- ओके.. लेकिन मैं जीता तो?
जूही- भाई आप हारने वाले हो, बस अगर ग़लती से जीत भी गए तो तब बता देना कि आपको क्या चाहिए.. ओके..!
राहुल- ओके.. पर कोई चीटिंग नहीं करना. सिर्फ नाक ही टिकानी है बाकी बदन से कोई मतलब नहीं होगा..!
आरोही- ओके भाई..!
जैसे ही राहुल ने 1-2-3 बोल कर ‘स्टार्ट’ बोला, दोनों बहनें उसके पैरों को पकड़ कर खींचने लली, राहुल गद्दे पर गिर गया।
तब आरोही राहुल को धक्का देकर पेट के बल करने की कोशिश करती है ताकि उसकी नाक ज़मीन पर लगा सके।
मगर राहुल भी कहाँ कम था, उसने आरोही को बांहों में भर लिया, उसके मम्मे राहुल के सीने में धँस गए और राहुल ने उसे कस कर दबोच लिया।
राहुल का लौड़ा तन कर सीधा आरोही की चूत पर सैट हो गया।
आरोही ने पैन्टी नहीं पहनी थी और निक्कर भी पतली थी तो उसको लंड का अहसास सीधा अपनी चूत पर हो रहा था।
उधर जूही आरोही को छुड़ाने की कोशिश कर रही थी। आरोही तो लंड के अहसास से गनगना गई थी, उसने अपने आपको ढीला छोड़ दिया था और राहुल भी लंड को चूत पर रगड़ रहा था।
जूही- दीदी आप कोशिश करो ना छूटने की.. नहीं तो भाई जीत जाएँगे..!
आरोही ने अपनी ताक़त लगाई और जूही ने राहुल के हाथ खोल दिए, आरोही आज़ाद हो गई और उसने जल्दी से उठ कर राहुल के पैर पकड़ लिए।
तब उसकी नज़र राहुल के लौड़े पर पड़ी जो एकदम अकड़ा हुआ था।
राहुल ने सूती पायजामा पहना हुआ था और शायद अन्दर कुछ नहीं पहना था, क्योंकि पायजामे पर राहुल के लंड से पानी की बूँद निकली थीं, जो बाहर साफ दिख रही थीं।
आरोही ने पैर पकड़ने के बहाने से लंड को छू लिया, जिससे उसको बड़ा मज़ा आया।
इधर राहुल भी मज़े ले रहा था।
करीब 15 मिनट तक इनका ये खेल चलता रहा, राहुल कभी आरोही के मम्मों को दबाता, कभी अपने होंठ मम्मों पे रख देता, तो कभी आरोही की गाण्ड को हाथ से दबा देता, कभी-कभी जूही के मम्मों को भी दबाता, कभी उसको नीचे पटक कर अपना लौड़ा उसकी चूत पर रगड़ता।
आख़िरकार राहुल का लौड़ा बेहद गर्म हो गया, वो समझ गया कि अगर ये खेल यूं ही चलता रहा तो उसका पानी छूट जाएगा और उसने जानबूझ कर उनको मौका दिया और अपनी नाक जमीन पर टिका दी।
दोनों बहनें खड़ी होकर कूदने लगी- हम जीत गए…हम जीत गए…
राहुल- अच्छा बाबा… मैं हारा.. पर रूको मैं दो मिनट में बाथरूम जाकर आया.. ज़ोर की ‘सूसू’ आई है..!
राहुल भाग कर बाथरूम में चला गया और अपने लण्ड, जो उसकी सगी बहनों के बदन से रगड़ कर खड़ा हुआ था, को निकाल कर मुठ्ठ मारने लगा, एक मिनट में ही उसके लौड़े ने पानी छोड़ दिया।
इधर आरोही और जूही खुश थीं कि वो जीत गई हैं और शॉपिंग की बात कर रही थीं कि क्या-क्या लेना है।
राहुल बाहर आया तो दोनों की बातें चालू थीं।
राहुल- क्या बातें हो रही हैं दोनों में.. मैं ज़्यादा कुछ नहीं दिलाऊँगा.. बस एक-एक ड्रेस दोनों ले लेना.. ओके..!
जूही- नहीं भाई आपने कहा था, जो हम चाहें आप दिलाओगे.. अब आप चीटिंग कर रहे हो..!
आरोही- हाँ ब्रो.. यह गलत बात है.. हाँ.. जो हम चाहेंगे, आपको दिलवाना होगा..!
राहुल- ओके.. मेरी बहनों अब तैयार हो जाओ, दोपहर का खाना भी हम बाहर ही खाएँगे और शॉपिंग भी हो जाएगी।
आरोही- वाउ.. भाई यू आर बेस्ट ब्रो इन दि वर्ल्ड..!
जूही- नो.. भाई.. शाम को जाएँगे ना.. प्लीज़ दोपहर को मुझे अपनी सहेली के यहाँ जाना है, आज वहाँ लंच के लिए मुझे बुलाया है, बाकी सब सहेलियाँ भी आ रही हैं।
राहुल- नो.. अभी मतलब अभी.. तुमको नहीं जाना, तो आरोही को बता दो तुम्हें क्या चाहिए हम ले आयेंगे.. ओके..!
जूही- ओके.. आप जाओ और दीदी जो आपको अच्छा लगे आप ले आना।
आरोही- हाँ जूही, मैं ले आऊँगी।
जूही- तो चलो.. हम तैयार हो जाते हैं। आप भाई के साथ चली जाना, मैं अपनी सहेली के यहाँ निकल जाऊँगी..!
आरोही- मैं सुनीता को बता कर आती हूँ कि लंच ना बनाए हम बाहर जा रहे हैं..!
राहुल- ओके.. अब जाओ, मैं भी रेडी हो जाता हूँ।
दोनों वहाँ से निकल जाती हैं और राहुल भी बाथरूम में फ्रेश होने चला जाता है।
सुबह 11 बजे जूही अपनी सहेली के पास चली गई और राहुल भी आरोही को लेकर शॉपिंग के लिए बाइक से निकल गया।
राहुल ने नीली जींस और सफ़ेद टी-शर्ट पहनी थी और आरोही ने काली टी-शर्ट और नीली जैकेट और काली जींस पहनी थी।
बाइक पर वो राहुल से चिपक कर बैठी हुई थी।
आज पहली बार उसको राहुल भाई से ज़्यादा कुछ महसूस हो रहा था। एक तो उसने जूही के साथ लैस्बो किया और फिर कुश्ती के दौरान जो हरकतें राहुल ने की वो उसको बार बार बेचेन कर रही थीं। उसने भी तो राहुल के लंड को कई बार छुआ था।
राहुल- हाँ.. तो आरोही बताओ..! कहाँ चलें.. शॉपिंग के लिए..!
आरोही- भाई सिटी सेंटर से अच्छी जगह क्या होगी.. लंच भी वहीं कर लेंगे।
राहुल- हाँ.. यही ठीक रहेगा।
आरोही एकदम कस कर राहुल को पकड़े हुई थी। उसके मम्मे राहुल की पीठ में धंसे हुए थे और उसके दोनों हाथ राहुल की नाभि पर थे। जैसे ही स्पीड ब्रेकर आते.. वो जानबूझ कर अपना हाथ लौड़े पर ले जाती।
उसकी इस हरकत से राहुल के लौड़े में भी तनाव आ गया था, पर जींस के कारण इतना पता नहीं चल रहा था।
जैसे ही बाइक सिटी सेंटर के पास रुकी, एक कार भी ठीक उनके बराबर में आकर रुकी।
आरोही भी नीचे उतर गई, राहुल ने बाइक को साइड में लगाया, तभी कार से एक 22 साल का लड़का उतरा जो काफ़ी हैण्डसम था।
उसे देख कर राहुल चौंक जाता है और जब उसकी नज़र राहुल पर पड़ी, तो वो भी आँखें फाड़े राहुल को देखने लगा।
राहुल- हे.. आई डोंट विलीव रेहान.. तू कब आया यार..!
रेहान- अबे साले मैं तो कब से यहीं हूँ तेरा कोई अता-पता ही नहीं है। पूरे 5 साल बाद मिला है तू..!
राहुल- आरोही, यह मेरा बेस्ट-फ्रेंड है रेहान.. और दोस्त, यह मेरी छोटी बहन आरोही है..!
रेहान- हाय आरोही.. यू आर लुकिंग वेरी नाइस यार..!
आरोही- थैंक्स ..!
रेहान ऊपर से नीचे आरोही को निहार रहा था और आरोही भी उसकी नज़र को देख रही थी।
तभी राहुल ने कहा- यार हम लोग शॉपिंग के लिए आए हैं। तुम इतने समय बाद मिले हो तो साथ में लंच करेंगे.. ओके .!
और वे एक-दूसरे को अपने फोन नम्बर दे देते हैं।
रेहान- सॉरी यार.. अभी तो एक बहुत जरूरी काम के सिलसिले में आया हूँ। अब तो तेरे घर आकर ही कभी खाऊँगा..!
राहुल- ओके दोस्त.. जरूर आना.. मैं तुम्हारा वेट करूँगा..!
रेहान वहाँ से चला गया और वो दोनों भी अन्दर चले गए।
राहुल- हाँ तो मेरी बहना क्या चाहिए.. बताओ?
आरोही- अभी तो देख रही हूँ भाई।
राहुल- ये देखो, यह ब्लू टी-शर्ट कितनी अच्छी है ना.. यह ले लो..!
आरोही- नहीं भाई ये तो बकवास है.. मुझे नहीं लेनी..!
राहुल- ओके तुम्हें जो अच्छी लगे, वो ले लो और जूही के लिए भी ले लेना, मैं थोड़ा उस तरफ अपने लिए कुछ देखता हूँ। तुम्हें जो लेना है ले लो ओके..!
आरोही अपने और जूही के लिए दो ड्रेस ले लेती है और दूसरी साइड जाकर ब्रा और पैन्टी भी ले लेती है।
राहुल भी कुछ शर्ट और जींस ले आता है।
राहुल- क्यों आरोही हो गया सब.. या कुछ बाकी है..!
आरोही- हाँ हो गया भाई.. आप मुझे पैसे दे दो, मैं काउंटर पर बिल दे देती हूँ।
राहुल- साथ चल रहे हैं ना.. मैंने भी तो कपड़े लिए ही लिए हैं.. सब कपड़े एक जगह कर दो, मैं बिल दे देता हूँ।
आरोही ने ब्रा-पैन्टी ली थी, इसलिए वो नहीं चाहती थी कि राहुल को पता चले, पर राहुल के ज़िद करने पर उसने सारे कपड़े एक जगह कर दिए।
काउंटर पर जब एक-एक करके सारे कपड़ों के कोड मारे जा रहे थे, तब राहुल की नज़र रेड ब्रा-पैन्टी के सेट्स पर गई।
उसके बाद और भी ब्रा-पैन्टी सामने आईं, पिंक और ब्लैक एक ब्राउन भी थी।
आरोही राहुल से अपनी नज़रें चुरा रही थी और राहुल भी उसकी तरफ़ ज़्यादा ध्यान नहीं दे रहा था। वहाँ से निकलकर दोनों रेस्तरा में बैठ जाते हैं।
राहुल- क्या खाओगी आरोही..!
आरोही- जो आपको अच्छा लगे..।
राहुल- नहीं तुम बताओ, जब कपड़े अपनी पसन्द के लिए हैं, तो खाना भी तुम ही बताओ..!
आरोही- इश्श.. भाई.. सॉरी.. प्लीज़ मत सताओ ना आप..!
राहुल- ओके एक शर्त पर..! अगर तुम अपने सारे कपड़े जो लिए हैं, एक-एक करके मुझे पहन कर दिखाओगी तो..!
आरोही- ओके.. भाई घर जाकर पक्का दिखाऊँगी..!
राहुल- देखो बाद में नाटक मत करना.. वरना मैं तुमसे बात भी नहीं करूँगा।
आरोही- हाँ भाई.. कहा ना, दिखा दूँगी..!
राहुल- आज जो जो लिया है.. सब.. ओके..!
आरोही को राहुल की बात समझ नहीं आ रही थी कि आख़िर वो चाहता क्या है।
आरोही- हाँ भाई हाँ.. अब क्या लिख कर दूँ..!
राहुल की आँखों में एक चमक सी आ गई और ना चाहते हुए भी उसका हाथ अपने आप लंड पर चला गया, लेकिन जल्दी ही वो संभल गया।
राहुल ने खाने का ऑर्डर कर दिया, दोनों ने आराम से खाना खाया और कुछ इधर-उधर की बातें करने लगे।
लंच के बाद वो वहाँ से घर के लिए निकल पड़े।
घर पहुँच कर आरोही ने एक मादक अंगड़ाई लेते हुए कहा- ओह भाई बहुत खाना खा लिया.. अब तो नींद आ रही ही.. आआ उउउ..!
कहानी जारी रहेगी।
अब जल्दी आप मुझे pinky14342@gmail.com पर मेल करके बताओ कि आपको मेरी कहानी का यह भाग कैसा लगा और आरोही के बारे में आपकी क्या राय है

Check Also

मौसी की चुदासी बेटी की चुदाई की कहानी-1

Mausi Ki Chudasi Beti Sang Chudai Ki Kahani Part-1 दोस्तो, मेरा नाम विराट सिंह है. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *