Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ

रोज नई नई गर्मागर्म सेक्सी कहानियाँ Only On Antervasna.Org

गर्लफ्रेंड की सेक्सी माँ को चोदा

Girlfriend Ki Sexy Maa Ko Choda

हैलो दोस्तो.. मेरा नाम विराज मैडी है. मैं 20 साल का जवान लड़का हूँ, मेरी हाईट 5 फीट 6 इंच है. मेरा रंग हल्का सांवला है.. लेकिन ठीक ठाक दिखता हूँ, डील डौल ठीक ठाक है.

मेरी एक गर्लफ्रेंड है, जिसका नाम जाह्नवी है, वो दो साल से मेरी गर्ल फ्रेंड है, वो स्कूल में मेरी क्लास में ही पढ़ती थी. अब वो दूसरे कॉलेज में पढ़ती है. उसका कद 5 फीट 2 इंच, बदन का आकार 34-30-34 है, बहुत सेक्सी है, बड़ी चुदक्कड़ है, उसकी चूत की सील मैंने ही खोली थी कोई डेढ़ साल पहले. उसके साथ तो मैंने बहुत चुदाई की है, उसे मैंने अपने घर, उसके घर में, कॉलेज की छत पर, उसकी सहेली के घर, अपने दोस्तों के घर, होटल में, पार्क में सब जगह चोदा है. वो कभी चुदाने से मना नहीं करती, खूब चूतड़ उछाल-उछाल कर चुदाई का मजा लेती है.

मैं जाह्नवी के घर भी जाया करता था, उसकी मम्मी को आंटी बोलता था. हमेशा मेरी नज़र उसकी माँ के ऊपर रहती थी क्योंकि उसकी माँ मालती भी ग़ज़ब की माल है. उसको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो जाता है. कभी कभी तो उसे याद करके मैंने मुठ भी मारी है.

ये बात तब की है. जब मेरे एग्जाम चल रहे थे. मैं इस कारण एक महीने के लिए आउट ऑफ टाउन था. इतने दिनों तक चुत चोदने नहीं मिली तो लंड बेकाबू हो रहा था और चुदाई का मन कर रहा था. मैं गर्लफ्रेंड की माँ याद करके मुठ मार लेता था. एक महीना मुठ मार मार कर निकालना पड़ा.

फिर जब मैं घर आया तो गर्लफ्रेंड की चुदाई करने एक महीने की कसर निकालने अगले दिन मैं गर्ल फ्रेंड के घर चला गया. उस दिन उसके साथ चुदाई का प्रोग्राम था, उसकी मम्मी को भी दो घंटे के लिए किसी किट्टी पार्टी में जाना था तो उसने मुझे बुला लिया था.

पर उस दिन जो नहीं होना था, वो हो गया.

उस दिन जब मैं उसके घर में गर्ल फ्रेंड को उसके कमरे में चोद रहा था. तभी अचानक उसकी माँ ने हम दोनों को चुदाई करते रंगे हाथ पकड़ लिया.

जब उठ कर मैं अपने कपड़े उठा कर कमरे से बाहर भागने लगा तो उसकी माँ ने तेज आवाज़ देकर रोका- रुउउउक् जा!

मैं डर के मारे रुक गया. मेरी गर्लफ्रेंड पूरी नंगी थी, उसकी माँ ने बेल्ट ले कर मेरी नंगी गर्लफ्रेंड को खूब मारा. वो मारते हुए गाली दे रही थी- छिन्न्नाअल.. रांड.. साली चुदाई करेगी.. बहुत बड़ी हो गई है… बहुत आग भारी हुई है तेरे बदन में? मैं तेरी सारी आग निकालती हूँ कमीनी… हरामजादी.

फिर उसकी माँ ने उसे एक रूम में बंद कर दिया. मैं नंगा खड़ा ये सब देख रहा था, मेरी फटी पड़ी थी, मेरा लैंड जो कुछ देर पहले शेर बना जाह्नवी की चूत का शिकार कर रहा था, अब चूहा बना मेरे टट्टों के बीच में दुबका पड़ा था उर मेरे टट्टे भी ऊपर को चढ़ गए थे. मेरी तो माँ चुदी पड़ी थी.

फिर जाह्नवी की माँ मालती मेरी तरफ आई और वो अनायास ही मेरे लंड को पकड़ कर खींच कर चलने लगी. साथ ही वो गाली भी दे रही थी- हरामी मादरचोद रंडी की औलाद… चल तुझे अभी बताती हूँ कि पराई लड़की को कैसे चोदा जाता है. कुत्ते अपने घर में अपनी माँ बहन को भी चोदा है कभी?
मेरे मुख से कोई बोल नहीं निकल रहा था.

मालती मुझे दूसरे कमरे में ले गई और वहां पर मुझे बेड के तरफ धकेल दिया. मैं इस वक्त नंगा था और जाह्नवी दूसरे रूम बंद थी.

फिर मेरी गर्लफ्रेंड की माँ मालती ने मुझे 2-3 थप्पड़ मारे और गाली देते देते अचानक मुझे किस करने लगी. मेरे पसीने छूट रहे थे.

फिर वो बोली- कुत्ते… सिर्फ़ मेरी बेटी को चोदेगा? मुझे नहीं छोड़ेगा क्या हरामी? मैं जाह्नवी से ज्यादा सेक्सी हूँ, खूबसूरत हूँ

थोड़ी देर तो मैं कुछ नहीं बोला और ऐसे ही खड़ा रहा, मालती मुझे किस करती रही. फिर मैंने भी जाह्नवी की मां को किस करना चालू कर दिया.

इस बार मेरे मन की तमन्ना पूरी होने जा रही थी, मैंने मालती को बेड पर खींच कर लिटाया और मैंने किस करना चालू कर दिया. वो भी चुदासी सी हो रही थी. मैं एक हाथ से उसकी साड़ी उतारने लगा और दूसरे हाथ से गर्ल फ्रेंड की माँ के पेटीकोट के अन्दर करके मम्मी की चूत में उंगली डालने लगा.
अब मेरा लंड भी थोड़ा थोड़ा खड़ा होने लगा था.

कुछ मिनट की किसिंग में मैंने उसके पूरे कपड़े उतार दिए. हम दोनों नंगे हो चुके थे. उसके चूचे क्या मस्त थे.. एकदम स्पंजी बॉल्स थे, मैंने कड़क निप्पलों को देखते ही मुँह लगा दिया, मेरी गर्लफ्रेंड की माँ मेरे बाल पकड़ कर मादक आहें भर रही थी. उम्म्ह… अहह… हय… याह… ऊऊउउहह.. यस चूस लो विराज अहह..’

फिर हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे. मैं मुँह से उसे पेट से होता हुआ चुत तक चूमता चला गया. वो भी 69 में हो गई और मेरा लंड चूसने लगी. मेरा लंड कुछ देर पहले उसकी बेटी की चूत में था तो उस पर उसकी बेटी की चूत का रस लगा था, चाहे वो सूख गया था. मालती अपनी बेटी की चूत का रस चाट गई.

सब कुछ बड़ा मस्त था.

फिर मैंने उसकी चुत चाटी.. चुत चाटते समय मैं कुत्ते की तरह चुत पर जीभ लपलपा रहा था, जी भर के चुत चाट रहा था. वो भी दोनों टांगों को खोल कर चुत चुसाई का मजा ले रही थी, मेरा सिर वो ऊपर उठाने ही नहीं दे रही थी- अहह.. युऊउउ.. उम्म्म्म.. उमह.. चूस इस चुत को भोसड़ी के.. आह..
कुछ ही देर में हम दोनों झड़ गए थे.

इसके बाद कुछ रुकने के बाद अब चुदाई करने की बारी थी. मेरी फैंटेसी सच होने वाली थी. चुम्मा चाटी में ही पहला पानी निकल गया था अब मस्त चुदाई होने वाली थी.

फिर उसने मेरा लंड चूस कर फिर से खड़ा किया. अब मैंने उसको दीवार से लगाया और टांग ऊपर करके अपने लंड को गर्लफ्रेंड की माँ की चुत पर लगा दिया. उसने मुझे इशारा किया तो एक करारा झटका दे मारा. मेरे लंड का सुपारा चुत के अन्दर घुस गया.

गर्ल फ्रेंड की माँ की कराह निकल गई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गई…
मैंने उससे पूछा- मालती जान, तुम्हारी चुत बहुत टाइट है जैसे तुम बहुत महीनों से चुदी ही नहीं हो?
पर उस ने मुझे गाली देते हुए कहा- मादरचोद… तू अपनी माँ जैसी सास की चुत चोद अभी भोसड़ी के.. मुझे तू मेरी चुत की डिजायन न समझा.

मैंने भी जोश में झटका से मारा. मेरा पूरा लंड उसकी चुत में अन्दर घुस गया. वो मुझे से कसके लिपट गई- अहह.. उम्म आह!

फिर मैंने लंड को अन्दर बाहर करना चालू कर दिया. चुदाई के वक़्त वो बहुत सीत्कारें भर रही थी- इसस्स्स्स्स्.. स्स्स्श.. मजा आ गया.. आह.. आज जी भर के चोद दे..आह..

हम दोनों की धकापेल चुदाई चालू थी. वो ‘ज़ोर से और ज़ोर से चोदो..’ कह रही थी. कभी वो खुद ही झटके मार रही थी. हम दोनों इतनी जोर से सिसकारियाँ भर रहे थे कि निश्चित ही दूसरे कमरे में मेरी गर्लफ्रेंड भी समझ गई होगी कि उसकी माँ मुझसे अपनी चूत चुदवा रही है.

लम्बी चुदाई के बाद हम दोनों झड़ गए. मालती के चेहरे पर थकान और संतुष्टि दिखाई दे रही थी. मैंने उसके ऊपर लेटे लेटे उसकी आँखों में देखा तो उसके लबों पर मुस्कान आ गई.

इसके बाद मैं नंगा ही उठ कर गर्ल फ्रेंड वाले रूम में गया. उसने कपड़े पहन लिए थे और वो मुझे प्रश्नवाचक निगाहों से देख रही थी. लेकिन मैं कुछ नही बोला और उसने मैं अपने कपड़े उठा कर वापिस उसकी माँ के पास आ गया. देखा तो मालती अपने कपड़े पहन रही थी. मैंने भी अपने कपड़े पहने और वहां से आ गया बिना जाह्नवी को मिले.

इसके बाद जब भी आंटी को चुदवाना होता तो वो मुझे कॉल करके बुला लेती है लेकिन मालती ने मुझे जाह्नवी से मिलने के लिए सख्ती से मना किया हुआ है. लेकिन ऐसा होता है क्या?
जाह्नवी और मैं अब भी मौक़ा मिलते ही चुदाई करते हैं, उसे पता है कि मैं उसकी माँ चोद चुका हूँ और अब भी चोदता हूँ.

अन्तर्वासना हिन्दी सेक्स स्टोरीज के पाठको, मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चुदाई की सेक्सी कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके ज़रूर बताएं.

विराज मॅडी virajmaddy@gmail.com

Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ © 2018