Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ

रोज नई नई गर्मागर्म सेक्सी कहानियाँ Only On Antervasna.Org

दो सहेलियों की चुत और गांड की चुदाई

Do Saheliyon Ki Chut Aur Gand Ki Chudai

अन्तर्वासना के तमाम पाठकों को मेरे प्यासे लंड का प्रणाम है. मेरा नाम साहिल खान है. मैं झांसी का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 25 वर्ष की है. मेरे लंड का साईज 6 इंच है.
ये कहानी मेरी पिछली हिंदी पोर्न स्टोरी
पैसेन्जर ट्रेन में चूत चोदी
के आगे की है.
उस सेक्स कहानी में मैंने आपको बताया था कि कैसे मुझे मोना नाम की एक लड़की ट्रेन में मिली और कैसे हम दोनों ने ट्रेन में ही सेक्स किया. इसके बाद मेरी उससे फोन पर बात शुरू हो गई थीं.

अब इसके आगे की कहानी.

जब मैं दीवाली की छुट्टियों के बाद लखनऊ वापस आया तो मेरी मोना से फोन पर बात शुरू हो गई. वो मेरा लंड लेने के लिए अब तड़पने लगी थी. लेकिन उसके पास घर से बाहर निकलने का कोई बहाना ही नहीं था.

दो महीने हम दोनों ने इसी तरह तड़पते हुए गुजारे. एक दिन उसने मुझे बताया कि उसका एक पेपर लखनऊ में है, लेकिन समस्या यह थी कि वह अकेली नहीं आ सकती थी. इसलिए उसने एक सहेली को अपने साथ आने के लिए तैयार कर लिया, उसका भी वही पेपर लखनऊ में था.

मोना ने अपनी सहेली को मेरे बारे में भी बता दिया. मोना के घर वाले भी उस लड़की के साथ मोना को भेजने के लिए तैयार हो गए. मोना का पेपर रविवार को था, इसलिए वह शनिवार को ही लखनऊ आ गई.

मोना की ट्रेन शाम को स्टेशन पहुँच गई. मैं उसको लेने टाइम से पहुँच गया. ट्रेन से बाहर आते ही वह मुझसे गले मिली और मेरा परिचय अपनी सहेली से करवाया.

उसकी सहेली का नाम जोया खान था. वह भी देखने में मोना से कहीं से भी कम नहीं थी, वैसे भी उनकी बिरादरी में लड़कियां होती ही ज्यादा सुन्दर हैं. क्योंकि वह समय समय पर लंड का स्वाद लेती रहती हैं और लंड के लिए उन्हें ज्यादा भटकना नहीं पड़ता है. इसका मुख्य कारण ये है कि भिन्न भिन्न किस्म लंड उन्हें घर में ही मिल जाते हैं.

खैर मैं अपनी कहानी पर आता हूँ. वैसे मोना भी कम नहीं लग रही थी, वह सफेद टॉप और काली स्कर्ट पहने हुई थी उस पर काले रंग के हाई हील के सैन्डिल उसको एक कातिलाना लुक दे रहे थे. जोया कढ़ाई वाले एक सलवार सूट में थी लेकिन वह मेकअप में किसी एक्ट्रेस से कम नहीं लग रही थी.

सामान के नाम पर उनके पास केवल एक बैग था, जिसमें उन दोनों के कपड़े और शायद किताबें थीं. हम एक ऑटो से मेरे कमरे पर आए, मेरे कमरे पर मैं अकेला रहता था. लेकिन मैं जिस मकान में रहता था, उसमें दो लड़के और रहते थे.

मैंने उनसे फ्रेश होने के लिए कहा तो दोनों फ्रेश होने के लिए कमरे के ही वाशरूम में फ्रेश होने लगीं, इसके बाद हम तीनों ने नाश्ता किया.

इसके बाद मैंने लैपटॉप पर मूवी चला दी और मैं खाना लेने के लिए जाने लगा, तो मोना ने मुझसे कोई ब्लू फ़िल्म लगा कर जाने के लिए कहा. मैंने उन्हें वह फोल्डर बता दिया, जिसमें ब्लू फ़िल्में थीं

इसके बाद मैं निकल गया. खाना पैक कराने के बाद मैंने कुछ कंडोम के पैकेट और वियाग्रा का एक पैक खरीद लिया. मुझे आशंका थी कि ब्लू फ़िल्म देख कर यह लड़कियां जरूर आज रात में मुझे नहीं छोड़ेंगी.

लगभग 2 घन्टे बाद मैं कमरे पर पहुँचा. जब मैंने दरवाजा खोलने की कोशिश की तो पता चला कि दरवाजा अन्दर से लॉक है. जब मैंने दरवाजा खटखटाया तो दो मिनट बाद दरवाजा खुला. कमरे की हालत देख कर लग रहा था, जैसे वहां कुश्ती का मैच हुआ हो.
मैं समझ गया कि उन्होंने लेस्बियन वाली ब्लू फ़िल्म देखी है और एक दूसरी की चूत को चाट कर ठंडा किया है.

अब तक शाम के आठ बज चुके थे. हम लोगों ने खाना खाया और इसके बाद अपनी पुरानी ट्रेन की चुदाई की बातें करने लगे. जोया भी हमारी बातें गौर से सुन रही थी और इस तरह से अलग तरह के मुँह बना रही थी.. जैसे पहली बार ट्रेन में चुदाई की कहानी सुन रही हो.
हमारी बातें सुनकर जोया ने कहा- क्या इतनी जल्दी भी कोई चोदने के लिए तैयार हो सकता है?
इस पर मोना ने कहा- क्यों नहीं, अभी साहिल ही तुम्हें चोदेगा.

इस पर मैंने कहा- हाँ अगर मोना को कोई ऐतराज ना हो तो मुझे क्या दिक्कत हो सकती है.
इस पर मोना ने कहा- मुझे क्या एतराज हो सकता है, क्या तुम मेरे पति हो जो मुझे सौतन वाली फीलिंग आएगी.

मैं समझ गया कि आज दोनों लड़कियां मेरे लंड का कचूमर निकालेंगी. मैंने अब एक ब्लू फ़िल्म चला दी और जोया के बगल में बैठ गया. मैंने जोया की जाँघों पर हाथ फेरना शुरू किया. वह भी मेरा साथ दे रही थी.

अब मेरा एक हाथ उसकी जाँघों से होता हुआ उसकी चूत की तरफ बढ़ने लगा और दूसरा हाथ उसकी चूचियों को दबाए जा रहा था. उसकी चूचियां बड़ी बड़ी और एकदम टाइट थीं. मैंने उसके होंठों से अपने होंठ चिपका दिए और अपनी जीभ से उसके मुँह का मुआयना किया. वह भी मेरा साथ दे रही थी और मेरी जीभ मुँह में जाने पर उसको चूसने लगी.

कुछ देर बाद उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में घुसा दी, मैंने भी उसकी जीभ का जी भर कर रसपान किया. बीच बीच में मैं उसके होंठ भी काट देता था, जिससे वह चिहुंक उठती थी. मैं इस सबमें यह भी भूल गया कि कोई हमें देख भी रहा है. लगभग 5 मिनट के किस के बाद मैंने देखा कि मोना मुझे खाने की नजर से देख रही है. मैंने तुरन्त ही अपना मुँह उसकी तरफ़ करके उसे किस करने लगा.

इस बीच मैंने अपना हाथ ज़ोया की सलवार के अन्दर डाल दिया, उसकी चूत पानी छोड़ रही थी. वो बहुत अधिक उत्तेजित हो गई थी.

अब जोया की चूचियां मेरे हाथ से आजाद हो गई थीं और मैं अब एक हाथ से मोना की चुचियां दबा रहा था. मेरा दूसरा हाथ जोया की चूत सहला रहा था.

जोया पलट कर के मेरे पैरों की तरफ़ अपना मुँह करके लेट गई.. जिससे उसके पैर अब मेरे मुँह की तरफ हो गए थे. इस स्थिति में मैं उसकी चूत आसानी से सहला सकता था. जोया मेरे पेन्ट का हुक खोलने लगी. उसने पेन्ट की जिप खोलकर उसमें से फनफनाते हुए मेरे लंड निकाल कर आजाद कर दिया. मैंने भी मोना के टॉप को उतार दिया. उसके चूचे जो ज्यादा बड़े नहीं थे, मेरे सामने आजाद होकर उछलने लगे. उसने ब्रा नहीं पहनी हुई थी. मैंने उसके मम्मों के अंगूरों को एक एक करके चूसना शुरू कर दिया. इससे वह अपनी कामुक और गरम सिसकारियां नहीं रोक पा रही थी.

कमरे का माहौल एकदम हॉट हो गया था और हम तीनों ही चुदास से भरी सिसकारियां ले रहे थे. मेरा लंड जोया चूस रही थी और मैं उसकी चूत सहला रहा था.

इधर मैंने मोना की चूचियां छोड़कर उसकी स्कर्ट को ऊपर खिसकाया, जिससे उसकी पेंटी मेरे सामने आ गई थी. मैंने अपने दाँतों से उसकी पेंटी नीचे खींच दी. मेरा इस तरीके से पेंटी खींचना उसको बहुत पसन्द आया.

आगे ही पल मोना की चूत मेरे सामने थी. मैंने अपनी जीभ नुकीली करके उसकी चूत में घुसा दी. चूत में जीभ घुसते ही उसकी सिसकारियां दोगुनी तेज हो गईं. वह मेरा सिर अपनी चूत पर दबा रही थी. मैंने अपने जीभ चलाने की रफ्तार बढ़ा दी.

इस वक्त मैंने जोया को छोड़ दिया था और मोना की चूचियों को दोनों हाथों से दबा रहा था.. साथ ही उसकी चूत भी चाट रहा था. मोना की चूत का कामरस बहुत ही प्यारा महक रहा था.

इस बीच जोया ने मेरा लंड चूसना बन्द कर दिया क्योंकि अब वह पूरी तरह से खड़ा हो गया था और उसका रस निकलना भी अब बन्द हो गया था.

जब मैंने मोना की चूत से सिर हटाया तो उस समय मोना जोया को किस कर रही थी और एक दूसरे की जीभ मुँह में लेकर चूस रही थी.

मैंने उन्हें कुछ नहीं कहा और चुपचाप देखता रहा, अपना लंड सहलाता रहा. मोना ने जोया की सलवार का नाड़ा खोल दिया और मेरी तरह दांतों से पकड़ कर सलवार को नीचे खींच दिया. इससे जोया केवल नीचे काले रंग की पेंटी में आ गई थी. काले रंग की पेंटी उसकी गोरी चूत पर कहर ढा रही थी. लेकिन शायद मोना जोया की चूत देखना चाहती थी, इसलिए उसने बिना देर किए उसकी पेंटी भी नीचे खींच दी. अब वह नीचे से पूरी तरह नंगी हो गई थी. उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था. अब वह केवल ऊपर शॉर्ट कुर्ती पहने हुए थी.

मैंने मोना को पलटने को कहा, वो पलट गई, जिससे उसकी गांड मेरे सामने आ गई थी. मैंने उसकी कमर को झुकाया और उसकी चूत का छेद मेरे लंड के सामने आ गया था.

मैंने उसकी चूत पर अपना लंड रखा. मेरे धक्का देने से मेरा लंड नीचे खिसक गया क्योंकि उसकी चूत फिर से उतनी ही टाइट हो गई थी, जितनी पहली चुदाई के वक्त थी. क्योंकि दो महीने से अधिक समय से उसमें सिर्फ उंगली ही गई थी.

तभी जोया ने मेरे लंड को पकड़ कर मोना के छेद पर रखा और मैंने धक्का लगा दिया. मेरे इस तरह लंड डालने से वह इतनी तेज चीख पड़ी कि जोया को उसका मुँह बन्द करना पड़ा. जोया ने अपने मुँह को उसके मुँह पर लगा दिया.

मोना की आवाज इतनी तेज थी कि बगल के कमरे में रहने वाला लड़का राहुल देखने आ गया कि क्या हुआ है. मैं दरवाजा बन्द करना भूल गया था, जिससे वह लड़का सीधे कमरे में आ गया. हमें इस स्थिति में देख कर उसका मुँह खुला रह गया क्योंकि मेरा लंड मोना की चूत में था और मैं उसके दोनों हाथ पीछे से पकड़े हुए था. इस वजह से उसका सारा शरीर बेड पर उल्टा था, उसकी गांड ऊपर उठी हुई थी और मैं उसकी चुत में धक्के पेल रहा था

दूसरी तरफ जोया मोना के सामने सीधी लेटी थी और मोना उसकी चूत में जीभ लगाए चीख रही थी.

यह सब देख कर किसी का भी मुँह खुला रह जाए, तो वह लौंडा क्या चीज है. मैंने उससे जाने के लिए कहा तो उसने साफ मना कर दिया और मुझे धमकी दी कि अगर उसे भी नहीं करने दिया तो वह शोर मचा देगा.

मैंने उसे रुकने के लिए तो हां कर दी लेकिन उसे कुछ भी करने देने से मना कर दिया.. जिसे उसने मान लिया.

मैंने फिर से मोना की चूत में धक्के देने शुरू कर दिए. मोना के मुँह से कामुक सीत्कारों की आवाजें और तेज हो गई थीं, जिससे मैं और अधिक उत्तेजित हो रहा था.

उधर उस राहुल का लंड भी मोना की मादक सिसकारियां सुन कर खड़ा हो गया. वह भी अब कन्ट्रोल नहीं कर पा रहा था. इधर जोया, जो मोना की चूत चूसने की वजह से तेज तेज आवाजें कर रही थी, उसने राहुल को अपने पास बुला लिया. जैसे ही राहुल उसके नजदीक आया, जोया ने उसके लंड को आजाद कर दिया और तुरन्त उसके लंड को अपने मुँह में ले लिया.

राहुल इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि थोड़ी ही देर में उसने अपना पानी जोया के मुँह में छोड़ दिया. जोया सारा पानी पी गई और उसका लंड भी अच्छी तरह से चाट कर साफ कर दिया.

उसके बाद राहुल का लंड एकदम साफ़ हो चुका था लेकिन तब भी जोया ने उसके लंड को चूसना बन्द नहीं किया और उसे एक छोटे बच्चे की नूनी की तरह चूसती रही.

कुछ ही देर बाद राहुल का लंड फिर से खड़ा हो गया. इस बीच मोना ने जोया की चूत चाट चाट कर फुला दी थी. मेरा मन कर रहा था कि मोना को छोड़ कर जोया को चोदना शुरू कर दूँ. लेकिन मेरी किस्मत में अभी मोना की चुत फाड़ना ही लिखा था.

उधर राहुल अब पूरी तरह उत्तेजित हो गया था और वह जोया को चोदने के लिए बेताब हो रहा था इसलिए वो जोया की आधी लटकी सलवार उतारे बिना ही उसके ऊपर चढ़ गया. उसने अपना लंड जोया की चूत पर रखा और एक जोरदार धक्का मार दिया. जोया की चूत से रस निकलने की वजह से चूत चिकनी हो गई थी. सो राहुल के एक ही झटके में आधा लंड जोया की चूत के अन्दर पहुँच गया. जोया उतना नहीं चीखी, जितना मोना चीख रही थी.

फिर अगले ही झटके में राहुल का पूरा लंड जोया की चूत में समा गया. राहुल ने धीरे धीरे धक्के मारने शुरू कर दिए. कुछ ही देर बाद वह कूल्हे उछाल उछाल कर राहुल का साथ देने लगी. इस बीच उत्तेजित होने की वजह से उसकी सलवार अब टाइट होने लगी थी.
राहुल ने चोदते चोदते ही उसकी सलवार उतारने की कोशिश की. मगर सफल नहीं हो पाया. तब तैश में आकर राहुल ने उसकी सलवार फाड़ दी. जोया केवल ब्रा में ही रह गई थी, इससे उसकी मदमस्त चूचियां भी ब्रा फाड़ कर बाहर आने के लिए मचल रही थीं.

जोया इस वक्त लाल ब्रा और डार्क मेकअप में बहुत ही सेक्सी लग रही थी.

कुछ देर और चोदने के बाद मेरा बदन अब अकड़ने लगा, मैंने तुरन्त लंड निकाल कर मोना के मुँह में डाल दिया लेकिन उसने मेरा पानी पीने से मना कर दिया. मैंने अपना पानी उसकी चूचियों पर निकाल दिया, जिसे जोया अपनी जीभ से चाटने लगी. वह अपनी जीभ मेरे माल पर भी मजे से फिरा रही थी. सारा पानी चाटने के बाद उसने अपना मुँह मोना के मुँह से लगा दिया. जिससे उसके मुँह में लगा कामरस भी मोना के मुँह में चला गया. मोना को भी मेरे लंड का पानी का स्वाद शायद बुरा नहीं लगा इसलिए उसने जोया के मुँह में जीभ डाल कर उसके मुँह को साफ करना शुरू कर दिया.

ऐसा करते समय दोनों इतनी सेक्सी लग रही थीं कि मैंने उन दोनों की एक फोटो खींच ली. वह दोनों किसी पोर्न स्टार की तरह लग रही थीं.

अब तक राहुल जोया को चोदने में मस्त हो गया था. मोना कुछ थक सी गई थी सो वह वैसे ही लेट गई. इस बीच जोया को राहुल दोनों टांगें ऊपर करके हचक कर चोद रहा था.

मैं तो बहुत देर से जोया को चोदना चाह रहा था, इसलिए कुछ देर आराम करने के बाद मैंने राहुल से जोया को बेड के किनारे सिर करके चोदने को कहा. उसने तुरंत पोजीशन बना ली और अब जोया का सिर बेड के नीचे लटकने लगा. मैंने जोया के मुँह में अपना लंड डाल दिया.

अब राहुल जोया की चूत चोद रहा था और मैं उसका मुँह चोद रहा था. जोया का सिर बेड से नीचे लटका होने की वजह से उसे पूरा लंड मुँह में लेने में कोई दिक्कत नहीं हो रही थी.

मेरा लंड अब फिर से खड़ा होने लगा था. मैंने उसका मुँह पकड़ कर उसके मुँह में धक्के देना शुरू कर दिया. कुछ देर धक्के देने के बाद ही जोया के मुँह से हाँफने की आवाजें आने लगीं. मैं समझ गया कि वह अब मुँह और ज्यादा देर नहीं चुदवा सकती. इसलिए मैंने उसके मुँह से लंड निकाल लिया. उधर राहुल ने अपना पानी जोया के पेट पर निकाल दिया. जोया ने उसका लंड चूस का पूरा साफ़ कर दिया.

कुछ पलों बाद जोया फिर से कुछ हरकत में आ गई थी. वह फिर से अपनी चूत सहलाने लगी थी. मैंने राहुल को मोना को उत्तेजित करने के लिए कह दिया.

राहुल मोना की चुत के सामने बैठ गया और उसकी चूत को सहलाना शुरू कर दिया. फिर उसने मोना की चूत के दाने पर किस किया, जिससे मोना एकदम से चिहुंक उठी और सिसकारियां लेने लगी.
राहुल मोना की चूत को बडे ही प्यार से चाट रहा था, ऐसा लग रहा था कि कोई थाली में फैला हुआ शहद जीभ से चाट रहा हो. मोना फिर से उत्तेजित होने लगी थी.

इधर मैंने जोया से उसकी गांड मारने के लिए पूछा तो वह तुरन्त तैयार हो गई. मुझे मालूम था कि इस तरह की लड़कियों को गांड मरवाने का बड़ा शौक होता है. ऐसा केवल लड़कियों के लिए ही नहीं है, लड़कों को भी गांड मारने का शौक होता है, इसलिए कभी भी देखना इस बिरादरी की औरतों की बूढ़े होने तक गांड जरूर बाहर निकल आती है.

खैर मैंने जोया को औंधा किया, जिससे उसकी गांड का छेद मेरे सामने आ गया. मैंने अपनी बीच की उंगली पर उसकी चूत का पानी लगाया और धीरे से उंगली अन्दर खिसका दी. लेकिन उसकी गांड का छेद इतना टाइट था कि उसमें उंगली भी आसानी से नहीं जा रही थी.

मैंने उससे पूछा- क्या इससे पहले गांड नहीं मराई है?
उसने मुझे ना में जबाब दिया.
इस पर मोना हंस पड़ी.
मैंने पूछा- क्या हुआ?
तो कहने लगी कि मैंने भी कभी गांड नहीं मराई है.

मैंने राहुल से उसकी चूत छोड़कर उसकी गांड सहलाने की सलाह दी. तो उसने भी मेरी तरह मोना को उलटा कर लिया, जिससे उसकी गांड अब राहुल के सामने थी.

अब मैंने जोया की गांड में एक उंगली अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. राहुल भी मुझे देख कर वैसे ही करने लगा. इसके बाद मैंने जोया की चूत में दो उंगलिया डाल दीं. इससे उसका दर्द कम हो गया. फिर मैंने अपने लंड थूक लगाया और बहुत सारा थूक उसकी गांड में भी थूका, जिससे लंड जाने में दिक्कत कम से कम हो.

मैंने अपने लंड का टोपा उसकी चूत पर रखा और एक जोरदार धक्का मार दिया. गांड इतनी टाइट थी कि एक चौथाई लंड ही अभी अन्दर गया था और जोया के आँखों से आंसू आ गए. वह जोर जोर से चीखने लगी. राहुल ने अपना लंड जोया के मुँह में डाल दिया, जिससे अब उसके मुँह से आवाजें निकलनी बन्द हो गईं और उसकी आवाज अब अन्दर ही घुटकर रह गईं.
मैं कुछ देर वैसे ही रुका रहा और उसकी चूत सहलाता रहा. कुछ देर बाद जब उसका दर्द कम हुआ तो मैंने लंड को थोड़ा सा बाहर निकाल कर फिर से एक जोरदार धक्का दे मारा, इस बार आधा लंड अन्दर घुस गया था.

इस बार उसकी चीख पहले से भी तेज थी, लेकिन मुँह में लंड होने की वजह से उतनी तेज नहीं निकली, लेकिन उसकी आँखों से निकलने वाले आंसू सारी कहानी खुद ही कह रहे थे.

कुछ देर तक उसकी चूत के दाने को सहलाने के बाद वह फिर से थोड़ी शान्त हुई. इस बीच राहुल उसकी चूचियां भी सहलाने लगा था.

जोया थोड़ी सही हुई तो मैंने इस बार पूरा लंड बाहर निकाल लिया. लंड के बाहर निकालने पर भी उसकी गांड का छेद अभी भी खुला हुआ था. शायद उसका दर्द भी कम हो गया था. मैंने उसकी गांड में पूरा लंड अन्दर तक डाल दिया.
अब उसको भी मजा आने लगा था. वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी और गांड आगे पीछे कर रही थी. राहुल भी जोया से खेल रहा था.

इस तरह उस रात हमने कई बार चुदाई का खेल खेला. वो दोनों लड़कियां हमसे खुश होकर अगले दिन चली गईं. लेकिन वो रात हम दोनों कभी नहीं भूले.
आगे भी हमारी उससे बात होती रही और मैंने कई बार उसकी चुदाई की.

आपको मेरी हिंदी पोर्न स्टोरी कैसी लगी जरूर बताएं. मेरा ईमेल आईडी है sahilbbd1990@gmail.com

Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ © 2018