Home / जवान लड़की / कोच को पटा कर चूत चुदवायी-2

कोच को पटा कर चूत चुदवायी-2

Coach Ko Pata Kar Choot Chudwayi- Part 2

मेरी सेक्स कहानी के पिछले भाग
कोच को पटा कर चूत चुदवायी-1
में आपने पढ़ा कि

सर ने मुझे आलिंगन में लेते हुये किस किया, फिर छुड़ाते हुये बोले- कल मेरा ऑफ है, आइये घर पर कभी भी… अपने हाथ की बनी चाय आपको पिलाता हूँ।
इसी क्रम में सर ने मेरी चूचियों को भी मसल दिया।
मैंने मुस्कुरा कर कहा- अवश्य आऊँगी… आप पूरी तरह से तैयार रहना।
मेरे खुशी की सीमा नहीं थी।

अब आगे:

दूसरे दिन मैंने साधारण से कपड़े पहने जिससे माँ को शक न हो, और कॉलेज के लिए निकल पड़ी। रास्ते में सहेली के घर रुक कर मेकअप किया और पहुँच गयी राय साहब के क्वार्टर में।

राय साहब अकेले थे, उन्होंने दरवाजा खोला। सफेद पजामा और लाल टी शर्ट में काफी हैंडसम लग रहे थे। मैंने उनको उपर से नीचे तक निहारा और बोली- पूरी तैयारी की गयी है, लगता है।

जब वे दरवाजा खोल रहे थे उस समय उनके ठीक पीछे की खिड़की से आती सूर्य की किरणें उनके पीठ पर पर रही थी। अगर आप के पीछे लाइट रहे तो कोई भी कपड़ा एक झीना आवरण मात्र रह जाता है. आप क्या पहने हैं, उजले पतले कपड़े में तो और भी ज्यादा, कपड़े के भीतर पता चल जाता है।
पजामा के नीचे अंडरवीयर नहीं पहने रहने के कारण उनका लंड फ्री स्टाइल में इधर उधर झूल रहा था। पैर के रोयें तो बैकग्राउंड में लाइट की वजह से दिख रहा था पर लंड के चारों तरफ के बाल नहीं दिख रहे थे, इसका मतलब जनाब मेरे लिये पूरी तैयारी के साथ स्वागत के मूड में हैं।

उनके नजदीक जा कर मैंने उनके लंड को मंदिर में लटके घंटे की तरह हिला दिया जिससे उनका लंड फुफकारता हुआ खड़ा हो गया।
मैं बोली- अरे वाह… तुरंत रियेक्शन?
तो वे बोले- ये तो तुम्हें सैल्यूट कर रहा है।

मैंने सर के और नजदीक आकर उनके होंठों पर अपना होंठ रख दिए, वे मेरे निचला होंठ चूसने लगे और मैं उनका ऊपर वाला, मूंछें तो सर रखते नहीं थे तो होंठ चूसने में मजा आ रहा था।
उधर नीचे लंड महाराज मेरे बुर में ठोकर पर ठोकर मार रहे थे। मैंने एक हाथ नीचे ले जाकर पजामे का नाड़ा खोल दिया। पजामा सरक कर नीचे तो आया पर लंड पर अटक गया। यह देख मुझे हँसी आ गयी।

वे बोले- पहले चाय तो पी लीजिये।
मैं उनके लंड पर से पजामे को हटाते हुये बोली- पहले इसकी गरमा गरम चाय पिऊँगी… यह मुझे बहुत दिनों से तरसा रहा है।

जैसा कि मेरा अनुमान था, उनके लंड के चारों तरफ एक भी बाल नहीं था, लग रहा था कि आज ही करीने से शेव किये हों।

मैंने नीचे झुक लंड देव पर एक प्यारी सी चुम्मी करी। उस समय प्रथम मिलन की आश में मेरी बुर पिघल रही थी। आज प्रथम मिलन के बाद मेरी छोटी सी प्यारी सी ललमुनिया खिल कर चूत बनने वाली थी।
चुदायी की कल्पना मात्र से मेरा पूरी काया कांप रही थी, मेरे होंठ सूख रहे थे, आँखें अपने आप दो पैग व्हिस्की चढ़ाये शराबी की तरह चढ़ रही थी, शरीर में अजीब तरह की झुरझुरी हो रही थी। जिस अंग को छूते, उस तरफ के सारे रोऐं खड़े हुए जा रहे थे मानो कि मेरे शरीर का एक एक अंग इस मिलन का इंतजार कर रहा हो।

कोच सर मुझे अपनी गोद में उठा कर बेडरुम में ले आये, नीचे उतारते हुये बोले- लाइये मैं आपकी कुरती उतार दूँ, नहीं तो सिलवट पड़ जायेगी तो आपकी मम्मी गुस्सा करेंगी।
उन्होंने मेरी कुरती उतार दी, उसके बाद मुझे आलिंगन में लेकर मेरे गर्दन में किस करते हुये हाथ पीठ पर ले गये, पीठ को सहलाते हुये ब्रा के हुक के पास गये और मेरे ब्रा को भी खोल दिया.

मैंने शर्म से अपने दोनों चूचियों को अपने हथेलियों से ढक लिया, उन्होंने मेरी हथेलियों को चूची पर से हटाने की कोशिश भी नहीं की अपितु मेरे कान के पीछे किस करने लगे, कान में लगी बाली को मुँह में लेकर कान को चूम रहे थे।

उस समय मैंने महसूस किया कि मेरी मुलायम चूचियाँ धीरे धीरे सख्त हो रही हैं, चूचियों के ऊपर की घुंडियाँ तन कर काला अंगूर बन गई थी, मेरे शरीर में हो रहे परिर्वतन मुझे गुदगुदा रहे थे, प्रथम पुरुष के स्पर्श मात्र से मैं रोमांचित हो रही थी.
वैसे तो मैं आज भी मम्मी पापा के बीच में ही सोती हूँ पर इस स्पर्श में कुछ अलग बात थी.

मैं धीरे से बोली- सर, मेरे पैर कांप रहे हैं, मैं अब गिर जाऊँगी.
तो वे बोले- आइये, मैं आपका सलवार भी उतार दूँ तो आप आराम से लेट जाइयेगा।

उन्होंने मेरी सलवार और पैन्टी एक साथ उतार दी। पैन्टी का नीचे वाला भाग चूतरस से भीग चुका था जिसको देख वे बोले- अरे ये क्या… आपकी साहिबा का कवर तो बारिश में भीग चुका है। उसके बाद सर ने मुझे गोद में उठा कर बेड पर लिटा दिया।

उनका पाजामा तो मैं पहले ही खोल चुकी थी, मैं अब पूरी नंगी हो चुकी थी तो उनका लाल टी शर्ट भी खोल कर मैंने उतार दिया।
चौड़ा गोरा सीना जिस पर गिनती के लायक बाल… उस पर दो काले काले निप्पल किसी भी लड़की को आकर्षित करने के लिये काफी थे।

उनका टी-शर्ट उतारने के क्रम में मेरा हाथ चूचियों पर से हट गया तो वे मेरे दोनों चूचियों को अपनी हथेली से ढक दिया, अपना सिर नीचे लाकर एक चूची पर से हाथ हटाते हुये उसको चूम लिया, चूमने के साथ ही मैं पूरी तरह से और बुरी तरह से सिहर गयी। चूची की घुंडी को जीभ के टिप से छेड़ने लगे, घुंडी के चारों ओर जीभ घुमाते रहे कभी क्लॉक वाइज तो कभी एंटी क्लॉक वाइज।
कभी पूरे चूची को मुँह मे लेकर चूसने लगते तो कभी केवल घुंडी को छेड़ते।

थोड़ी देर बाद यही सब दूसरे चूची के साथ भी किये।

मेरे मुँह से सीत्कारें निकल रही थी। सांस अंदर ले रही थी तो सी सी बीच में आह आह फिर सी सी कर रही थी और नीचे बुर में हाहाकार मचा हुआ था। मेरी कमर में स्प्रिंग लग गयी थी, वह अपने आप ऊपर नीचे हो रही थी। चूसने के कारण चूचियों में दर्द होने लगा तो मैं हौले से बोली- अगर चूची पीने से पेट भर गया हो तो थोड़ा नीचे भी?

“जो हुक्म मेरे आका…” कह कर वे मेरी नाभि से खेलने लगे, सर हर जंक्शन पर पूरा टाइम दे रहे थे. उधर मेरी बुर लंड पाने के लिये मचल रही थी। कमर से नीचे नागिन डांस चल रहा था, मैं अपने दोनों पैर एक दूसरे से रगड़ रही थी, कभी कमर से पैर तक दाहिने घूमती तो कभी बांये। अपने दोनों पैरों से बुर को भरसक दबाने की कोशिश कर रही थी पर वह माने तब न!

मैंने उनके सिर के बालों को पकड़ते हुये उनके मुँह को अपनी नाभि पर से हटाते हुये बुर के ऊपर रख दिया। वे जीभ से मेरी बुर को चटकारे ले ले कर चाटने लगे। कभी बुर को चूस भी ले रहे थे, जब वे मेरे भगनासा को चूसते तो पूरा शरीर स्पंदित हो जाता।
मैं मारे उत्तेजना के जोर जोर से चिल्ला रही थी, उनका सर पकड़ कर बुर पर जोर से रगड़ देती तो कभी दबा देती थी। बुर की फांकों के बीच में अंदर तक जीभ ले जाकर ऊपर ले जा रहे थे, कभी कभी गांड के छेद तक भी जीभ चली जा रही थी. सब कुछ उत्तेजित करने वाला था।

फिर वे मेरे बुर का मुआयना कर बोले- साहिबा लगता है, पहले भी लंड खा चुकी हैं।
उस समय तो मेरा मन ही खट्टा हो गया, ये मर्द शील भंग होने का मतलब ही चुदी हुयी लड़की समझ बैठते हैं।

मैं अपने ऊपर कंट्रोल रखते हुये बोली- जनाब, बुर की झिल्ली हमेशा चोदने से ही नहीं फटती… हम ठहरी खिलाड़ी, कभी भी चोट लगने, दौड़ने आदि से फट सकती है। मेरी तो हॉकी खेलने के दौरान चिथड़ा चिथड़ा हो गया था।
फिर आगे कहने लगी:

उस समय मैं हाई स्कूल में थी। हॉकी के फाइनल में पेनाल्टी कार्नर से मुझे शॅाट मारना था रेफरी के सीटी बजते ही मैंने शॅाट मारी, अरुणिमा ने उसे रोका और एक करारा पुश और बॉल सीधे गोल में। मैंने खुशी में अपने हॉकी को ऊपर लहरायी तो उसका जे वाला हिस्सा मेरे बुर से टकरा गयी उस समय तो दर्द किया पर खुशी में दर्द भूल गयी।

मैं अपने पापा की लाडली बेटी हूँ, पर आप कहेंगे कि वह तो सभी बेटियाँ अपने पापा की लाडली होती है। पर केस थोड़ा हट कर है, पापा अभी भी मुझे छोटी बच्ची समझते हैं और खुल कर सभी बात बताते भी हैं। कहते हैं कि अगर मेरे प्रति डर बैठ जायेगा तो कोई बात यह बता नहीं पायेगी और बच्ची का पूर्ण विकास न होकर कुंठित रहा करेगी।

एक बार मैंने शर्माते हुये कहा- पापा, मैं अब बड़ी हो गयी हूँ!
जिस पर पापा खूब हँसे थे, बोले- क्या बेटी, शरीर से बड़ी होने का मतलब थोड़े बड़ी होना होता है. फिर बात ही बात में पूरा मर्द और औरत में टीनएज में आने वाले बदलाव आदि के बारे में बता गये, उसके बाद से मैं अपने पापा से कभी नहीं शर्मायी।

शरीर में हो रहे एक एक बदलाव मैं पापा से शेयर की और उन्हीं से सलाह लेती कभी कभी मम्मी भी आकर सुधार देती। जब पहली बार मेन्सिस हुयी तो मारे घबराहट में पापा के पास गयी और रुआँसी होते कहा- पापा, देखो न अंदर घाव हो गया है और मैं अपना कच्छी उतार कर पापा को दिखाने लगी।
पापा शांत रहते हुये बोले- बेटी, इसके बारे में तो आपको बताया था, इसे ही मेन्सिस कहते हैं, आप एकदम से न घबरायें!
फिर पापा ने मुझे नैपकिन कच्छी में लगा कर पहनने के बारे बताया कि जब यह पूरा भीग जाये तो बदल लीजियेगा. बस इतनी सी बात से रानी बेटी घबरा गयी।

मम्मी खड़ी हँसती रही, केवल इतना बोली- आप बाप बेटी भी न एकदम से पागल हैं।

आज भी पापा के लिये मैं छोटी बच्ची ही हूँ। लड़कियाँ तथा लड़कों में टीनएज में होने वाले परिर्वतन हारमोनल समस्या सब पापा मुझे समझा चुके हैं इसलिये मैं पापा से खुली हुयी हूँ। बच्चा कैसे होता है वह भी पापा ने ही समझाया था मम्मी तो बस इतना ही कही समय के साथ सब समझ जाओगी पर मैं जिद पर अड़ी थी कि मुझे आज ही समझना है।

पापा अगर नया ड्रेस लाते हैं तो उनके सामने ही चेंज कर लेती हूँ, न तो मम्मा मुझे टोकती न पापा… उन्हें तो आज भी मैं छोटी गुड़िया लगती हूँ। इतनी बड़ी हो गयी हूँ पर आज भी मम्मी पापा के साथ ही बीच में सोती हूँ मम्मा पापा कब सेक्स करते हैं, यह मैं आज तक नहीं जान पायी।
कॉलेज में सभी लड़कियाँ अपने मम्मी पापा के सेक्स के बारे में बातें करती.
इस पर एक बार मम्मी से पूछने पर वे बोली- पापा की पुछल्ली हो, सब कुछ तो उन से पूछती हो तो यह भी उन्हीं से पूछ लो।

हॉकी मैच के बाद घर पर आयी तो सबसे पहले पापा की नजर मेरे बहते हुये खून पर गई, वे तुरंत रुई लेकर आये और मेरा पैंटी उतार दी, वहाँ पर रुई रखते हुये बोले- बेटी, तेरे साथ किसी ने गलत हरकत तो नहीं की है न?
मैं आवाक थी… मेरे न कहने पर बोले- तब इतना खून कैसे निकल रहा है?

मेरी मम्मी को आवाज लगाते हुये बोले- सरोज इधर आ!
मुझे अपने छाती से चिपकाते हुये मम्मी के पास ले गये, मेरी बुर को दिखाते हुये रुँधे गले से बोले- पूछो न इससे… इसे क्या हुआ? क्यों इतना खून निकल रहा है?

मेरी मम्मी बोली- आपकी बेटी है, इसे बोलने देंगे तब तो।
पापा बोले- हाँ बेटी, जल्दी बोल, मेरा खून सूखा जा रहा है।
मैंने पूरा हाल बताया तो मुझे कलेजे से चिपका कर बहुत देर तक रखे रहे, उसके बाद बोले- आज से आपकी हॉकी बंद… आप कोई दूसरा खेल देख लें।

मेरी पहली बार चुत चुदाई की कहानी जारी रहेगी.
dinesh.roht@gmail.com

Check Also

व्टसएप से बिस्तर तक का सफर

Whatsapp Se Bistar Tak Ka Safar दोस्तो, मेरा नाम नितिन है और मैं अपनी वकालत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *