Home / पड़ोसी / चूत चुदाई चंदा रानी की-1

चूत चुदाई चंदा रानी की-1

Choot Chudayi Chanda Rani Ki-Part1

चूतनिवास
‘हाय राजा, तुम सारा दूध पी डालोगे तो बच्चा क्या पियेगा !’ चंदा रानी ने चूचुक मेरे मुंह से बाहर निकालना चाहा।
वो मेरे दोस्त विकास जैन की पत्नी है।
क्या उबलती, फ़ड़कती जवानी है ! गुलाबी, रेशमी त्वचा, गहरे भूरे रंग के घनेरे बाल, निखरता गोरा रंग !
फिगर ऐसी कि जोगी को भी भोगी बना डाले, बहुत ही सुन्दर पाँव, मुलायम और सुडौल, जिनको बार बार चूमने और चाटने का दिल करे !
मर्दों को चुनौती सी देते हुए सामने उसके चूचुक और पीछे उसके मस्त नितम्ब !
क्या करे बेचारा आदमी, पागल ना हो जाये और क्या करे !
चंदा रानी एक ऐसा पूरा पका हुआ फल थी जिसको चूसने में देरी करना महा अपराध था।
मेरी नई नई शादी हुई थी और मेरी बीवी मायके गई हुई थी।
चूत का तरसा, मैं हर वक़्त खड़े लंड को छुपाने के लिये अपनी पतलून इधर उधर सेट करता रहता था।
विकास एक महीने के लिये विदेश गया हुआ था और मुझे कह गया था कि उसकी पत्नी का ध्यान रखूँ।
मैं क्या खूब ध्यान रख रहा था !!! हा हा हा !!!
मैंने चंदा को कैसे पटाया, यह बताने में वक़्त बर्बाद नहीं करूँगा मैं पढ़ने वालों का, बस यह समझ लें कि हमारा आँख मटक्का तो चल ही रहा था काफी दिनों से, बस दो चार बार चुम्मी तक ही तसल्ली करनी पड़ रही थी।
उस चूतिए विकास के विदेश जाने से हम को मौक़ा हाथ लग गया मस्ती लूटने का !
उसका पति बाहर और मेरी पत्नी बाहर, तो और क्या चाहिये था हम दो चुदाई के प्यासों को !
चंदा की गोद में तीन महीने का बच्चा था।
एक शाम में उसके घर पहुँचा, इधर उधर से छिपता छिपाता, चंदा रानी ने द्वार खोला, मैं अंदर घुस गया और बड़ी बेताबी से चंदा को कस के लिपटा लिया।
मेरे होंठ उसके गुलाबी, भरे भरे से होंठों से चिपक गये, एकदम मेरे तन बदन में मानो आग लग गई, चुदास बिजली की तरह मेरे भीतर कौंधने लगी, लंड लपक कर ज़ोरों से अकड़ गया और उसके पेट को दबाने लगा।
चंदा ने मस्ती में लंड को एक हल्की सी चपत भी लगाई।
चंदा ने अपना सिर पीछे को झुका लिया था, कस के उसने मेरे बाल पकड़ लिये और मेरा मुँह अपने मुँह से कस के चिपका लिया।
हम बहुत देर तक इसी प्रकर से लिपटे हुए एक दूसरे के होंटों और जीभ को चूसते रहे।
मैंने उसके मुलायम मुलायम नितम्ब दबोच लिये थे और उनको दबा दबा कर बड़ा मज़ा पा रहा था।
काफी देर तक चूमने के बाद उसने मेरी छाती पर हाथ रख कर मुझे पीछे किया और बोली- राजा कुछ रुक… कपड़े बदल के ईज़ी होकर बैठते हैं.. फिर आराम से बातें करेंगे !
चंदा रानी बड़ी सफाई से मुझसे अलग होकर एक कमरे की तरफ चल दी।
मैं पीछे पीछे गया।
यह उसका बेडरूम था और उसका बालक एक पालने में सोया हुआ था।
वह बेडरूम के बाथरूम में घुस गई, मैंने अपनी कमीज़ उतारी और जूते मोज़े खोल कर आराम से बिस्तर पर फैल गया।
दो चार मिनटों म़ें चंदा रानी बाहर निकल आई, उसने एक मर्दानी लुंगी लपेट रखी थी और लुंगी के सिरे गर्दन के पीछे बांध रखे थे। लुंगी ने उसका ऊपर का बदन और थोड़ा सा चूत के आस पास का हिस्सा ढक दिया था।
उसने लुंगी के भीतर कुछ भी नहीं पहना था, न ब्रा, न कच्छी !
उसकी लाजवाब जांघें, लम्बी टांगें, उसके खूबसूरत पैर देख कर मेरा बदन झनझना उठा।
मैं लपक कर उठा और चंदा रानी को खींच कर बिस्तर पर ले लिया।
जैसे ही मैंने लुंगी के भीतर से चूचुक दबोचे, मेरे हाथ उसके दूध से भीग गये। उसकी चूचियाँ दबादब दूध निकाल रही थीं, मेरे सब्र का बांध टूट गया और मैंने अपना मुंह लुंगी म़ें घुसा कर एक चूची पर अपने होंठ रख दिये।
एक बच्चे की तरह मैं हुमक हुमक के दूध पीने लगा।
क्या गज़ब का स्वाद था !
एकदम सही तापमान, एकदम सही मिठास !!
दूसरी चूची भी खूब दूध निकाल रही थी, जब पहली चूची का सारा दूध खत्म हो गया तो मैंने दूसरी चूची पर हमला बोला।
मचल मचल के मैंने चंदा रानी का दूध पिया, उसने भी बहुत चिंहुक चिंहुक कर मस्ती से दोनों चूचियाँ चुसवाईं।
अचानक चंदा रानी को ध्यान आया कि अगर पूरा दूध मैं पी गया तो बच्चा क्या पियेगा।
‘हाय राजा, तुम सारा दूध पी डालोगे तो बच्चा क्या पियेगा?’ चंदा रानी ने चूचुक मेरे मुंह से बाहर निकालना चाहा।
मैंने चूची मुंह से बाहर न जाने दी, मैं चूसता ही रहा जब तक दूसरी चूची भी दूध से खाली नहीं हो गई।
मैंने पहली चूची को दुबारा दबाया तो दूध की एक तेज़ धार निकल आई।
चंदा रानी का दूध का उत्पादन आश्चर्यजनक था, इतनी जल्दी चूची दुबारा दूध से भर गई थी। क्या कमाल का डेरी फार्म था इस कामुक औरत का !
‘अरे तेरी चूचुक हैं या अन्नपूर्णा गाय के थन? दूध ख़त्म ही नहीं होता ! अभी अभी तो पूरा दूध चूसा था। तो घबराती क्यों है, अभी दस मिनटों में दूध पूरा भर जायेगा।’ इतना कह के मैंने लुंगी के सिरे खोल दिये और चंदा रानी को कस के भींच लिया।
चंदा ने अपना खूबसूरत सा हाथ मेरी पैंट पर लंड के ऊपर रखा और कराह उठी- राजे… तूने मुझे तो नंगा कर दिया… अपनी पतलून खोली ही नहीं अब तक !
‘अभी ले !’ मैं उसे छोड़ कर जल्दी जल्दी पतलून खोलने लगा।
जैसे ही लंड को पतलून और कच्छे से राहत मिली, तन्नाया हुआ लौड़ा उछल उछ्ल कर तुनके मारने लगा।
‘हाय… कितना लम्बा और मोटा है ये… आज पता नहीं मैं बचूंगी या नहीं… हाय…मेरी मां !’ चंदा रानी ने लंड को ब़ड़े प्यार से पकड़ कर सहलाया और झुक कर सुपारी को चूम लिया, सुपारी के छेद पर आई पानी की एक बूंद को उसने जीभ पर ले लिया और सटक लिया।
‘हूँ… तेरा तेल भी स्वादिष्ट है… राजे, तू बहुत ज़्यादा गरम हो रहा है… जल्दी खलास हो जायेगा… आ मैं तेरी गर्मी कुछ कम कर देती हूँ !’
चंदा रानी ने नीचे की तरफ सरक कर अपना मुंह बिल्कुल लंड के सामने कर लिया और झुक के गप से लंड की सुपारी अपने मुंह में ले ली।
पहले तो उसने ब़ड़े दुलार से पूरी सुपारी के चारों तरफ जीभ घुमाई, लंड को बाहर निकला, खाल पीछे करके टोपा पूरा नंगा कर दिया, सिर्फ टोपा मुंह के अंदर ले कर चंदा रानी ने खाल ऊपर नीचे करना शुरू किया।
उसका मुंह बहुत गरम था और तर भी ! लंड के मज़े लग गये।
अचानक चंदा रानी ने जीभ की नोक सुपारी के छेद में घुसाने की कोशिश की, हालांकि जीभ ज्यादा अंदर घुस नहीं पाई पर जितनी भी घुसी उससे मेरे पूरे बदन में एक सरसरी सी दौड़ गई, मज़े की पराकाष्ठा हो चली थी।
उसने तेज़ तेज़ लंड को हिलाना शुरू कर दिया, उसकी जीभ कमाल का आनन्द दे रही थी, कभी वह अपनी गरम गरम, राल से तर जीभ टोपे पर घुमा घुमा कर चाटती और कभी वह दुबारा जीभ को मोड़ कर नोक लंड के छेद में डाल के एक तेज़ करंट मेरे बदन में फैला देती !
यकायक चंदा रानी ने मेरे दोनों अण्डकोश थाम लिये और लंड पूरा का पूरा मुंह में घुसा लिया।
वह ब़ड़े प्यार से अंडों को सहला रही थी और तेज़ तेज़ सिर को आगे पीछे करती हुई लंड को अंदर बाहर कर रही थी।
उसके घने बाल इधर उधर लहरा रहे थे, मेरी मज़े के मारे गांड फटी जा रही थी, मैं बड़ी तेज़ी से चरम सीमा की ओर बढ़ रहा था, मेरी साँसें तेज़ हो चली थीं और माथे पर पसीने की बूंदें झलक आईं थीं।
चंदा रानी ने रफ़्तार और तेज़ कर दी, उसे अहसास हो गया था कि मैं जल्दी ही झड़ सकता हूँ, चंदा रानी का मुंह उसके मुख-रस से लबालब था, लौड़ा अंदर बाहर जब होता तो सड़प..सड़प…सड़प की आवाज़ें निकलती थीं।
चंदा रानी ने मेरे लंड और गांड के बीच में जो मुलायम सा भाग होता है, उसे ज़ोर से दबा दिया, उसने अपने दोनों अंगूठे उस कोमल जगह पर गाड़ दिये, एकदम से एक तेज़ गरम लहर मेरी रीढ़ से गुज़री, मेरे मुंह से एक ज़ोर की सीत्कार निकली और मैं झड़ा।
मैंने चंदारानी के बाल जकड़ कर एक ज़ोरदार धक्का मारा, लंड बड़ी तेज़ी से उसका पूरा मुंह पार करता हुआ धड़ाम से उसके गले से जाकर टकराया।
ऊँची ऊँची सीत्कार की आवाज़ें निकलता हुआ मैं बहुत धड़ाके से झड़ा, लौड़े ने बीस पचीस तुनके मारे और हर तुनके के साथ गरम वीर्य के मोटे मोटे थक्के चंदा रानी के मुंह में झाड़े।
कई दिनों का जमा हुआ मक्खन निकल गया, मैं बिल्कुल निढाल होकर बिस्तर पर फैल गया और अपनी सांसों को काबू पाने की चेष्टा करने लगा।
मेरा लंड झड़ कर मुरझा चुका था और चंदा रानी की लार व मेरे लेस की बूँदों से लिबड़ा एक तरफ को पड़ा हुआ था।
कहानी जारी रहेगी।
raku19621962@gmail.com

Check Also

शादी के बीस दिन बाद -2

Shadi Ke Biisa din Baad-2 कहानी का पिछला भाग :-  शादी के बीस दिन बाद -1 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *