Home / लेस्बीयन सेक्स स्टोरीज / भाभी की ननद उनकी प्रेयसी

भाभी की ननद उनकी प्रेयसी

Bhabhi ki Nanad Unki Preyasi

दोस्तो, मेरा नाम कविता है और मैं अम्बाला (हरियाणा) के पास एक गाँव में रहती हूँ।

मेरी उम्र 28 साल है और मैं एक शादीशुदा औरत हूँ।

बात तब की है जब मैं बीस साल की थी और मैं बी ए की छात्रा थी।

मैं अपने परिवार के साथ गाँव में रहती थी। मेरे बड़े भाई अम्बाला में दुकान करते थे।

अक्सर मैं छुट्टियों में भैया भाभी के पास शहर चली जाती थी।

एक बार जब मैं छुट्टियों में भाई भाभी के पास शहर गई हुई थी तो भैया को अपनी दुकानदारी के काम से एक दो दिन के लिए कहीं बाहर जाना पड़ा।

वैसे तो हम सब छत पर अलग अलग सोते थे पर भैया के जाने के कारण भाभी ने मुझे अपने पास सुला लिया।

हमने मच्छरदानी लगा रखी थी।

गर्मी का मौसम था और पंखा चल रहा था।

मैं और भाभी साथ साथ लेटी थी, मुन्ना हम दोनों के बीच में लेटा था।

मुन्ना को सुलाने के लिए भाभी ने अपनी नाईटी ऊपर उठाई और अपना चूचा निकाल कर मुन्ना को दूध पिलाने लगी।

भाभी और मैं अक्सर एक दूसरे के सामने कपड़े बदल लेती थी, तो हम दोनों में पर्दे जैसे कोई चीज़ नहीं थी।

मेरे सामने ही भाभी मुन्ना को दूध भी पिलाती थी तो मैंने भाभी को बहुत बार पूरी या आधी नंगी देखा था और इसी वजह से ये मेरे लिए कोई अजीब बात नहीं थी।

भाभी ने नीचे से चड्डी पहन रखी थी।

मैं भी भाभी के साथ लेटी उनसे इधर उधर की बातें कर रही थी।

मैंने नोटिस किया भाभी का एक स्तन तो मुन्ना पी रहा था पर दूसरे वैसे ही बाहर निकला हुआ था और उसमें से भी दूध टपक रहा था।

मैंने भाभी से कहा- भाभी आपके दूसरे स्तन से भी दूध टपक रहा है।

भाभी ने देखा और बोली- क्या करूँ… मेरे दूध उतरता ही बहुत है, कई बार तो निचोड़ कर निकलती हूँ।

मुझे यह सुन कर बड़ी हैरानी हुई।

मैंने पूछा- बाप रे इतना, क्या सबके इतना निकलता है?

सच कहूँ तो मेरा दिल कर रहा था कि भाभी का स्तन मुँह में लेकर चूस लूँ, दूध पीने के लिए नहीं, बस मैं भाभी के बड़े बड़े स्तनों को छूकर सहला के देखना चाहती थी।

‘अरे नहीं सबके नहीं, किसी-किसी के निकलता है। एक दो बार तो मैंने खुद भी चूसा है और कभी कभी तो तुम्हारे भैया भी चूस लेते हैं।’ भाभी बोली।

‘आज तो भैया नहीं हैं, अब क्या करोगी?’ मैंने जान बूझ कर पूछा।

‘तो तू पी ले, ये ले…’ यह कह कर भाभी ने अपना एक स्तन मेरी तरफ बढ़ाया।

मैंने भी बिना कोई हील हुज्जत किए, भाभी के स्तन का निप्पल अपने होंठो में लिया और धीरे से उसे चूसा।
मेरे मुँह में जैसे बारीक पानी की धार गिरी, मगर इसके स्वाद में थोड़ा फर्क था, जो मुझे अगर कुछ खास अच्छा नहीं लगा तो बुरा भी नहीं लगा।
मैं इसे पी सकती थी।

मैंने फिर से चूसा और फिर तो चूसती ही गई।

जैसे जैसे मैं भाभी का स्तन चूस रही थी, भाभी के मुँह से हल्की हल्की सिसकारियाँ सी निकाल रही थी और वो मेरे बालों को सहला रही थी।

मैंने पूछा- भाभी, आप सी सी क्यों कर रही हो?

वो बोली- अरे पूछ मत… चूची चुसवा के बड़ा मज़ा आता है, क्या तूने कभी चुसवाई है?

मैंने कहा- नहीं।

इस पर भाभी उठी और उठ कर उन्होंने ने अपनी नाइटी पूरी तरह से उतार दी।

अब वो सिर्फ चड्डी पहने थी।

उसके बाद भाभी ने मुझे अपने ऊपर लेटा लिया और बोली- ले अब आराम से पी।

मैंने भाभी का पूरा स्तन अपने हाथ से पकड़ कर दबाया और उसके निप्पल को अपने दाँतो में जकड़ कर पूरे ज़ोर से चूसा।

जितना मैं चूसती, उतना दूध मेरे मुँह में भर भर के आता।

मैं बहुत सारा दूध पीना चाहती थी, पर मुन्ना बीच में लेटा होने के कारण यह थोड़ा मुश्किल हो रहा था।

भाभी ने मुन्ना को उठा कर अपनी दूसरी तरफ लेटा लिया और खुद मुझसे लिपट गई, अब हम दोनों के बीच में कोई नहीं था।

‘और पिएगी?’ भाभी ने पूछा।

मैंने कहा- हाँ, मुझे स्तन चूसना बहुत अच्छा लगा।

‘ठीक है, पर अगर तू मेरी चूची पिएगी तो मैं तेरी चूची पियूँगी।’ भाभी बोली।

‘पर भाभी… मेरे कौन सा दूध आता है जो आप पियोगी?’ मैंने शर्मा कर कहा।

‘ना आए, पीने में तो कोई हर्ज़ नहीं, क्यों ठीक है?’ भाभी ने कहा।

तो मैं मन ही मन मुस्कुरा कर रह गई क्योंकि चूची चुसवाने में क्या मज़ा आता है यह मुझे भी नहीं पता था।

‘चल अपनी कमीज़ उतार…’ भाभी बोली।

‘यहाँ खुले में?’ मैंने पूछा।

भाभी बोली- डर मत, मच्छरदानी के अंदर कुछ नहीं दिखता, हम यहीं सब कुछ कर लेते हैं।

मुझे अभी थोड़ा दर लग रहा था पर भाभी ने खुद ही मेरी कमीज़ उतरवा दी और उसके बाद मेरा ब्रा भी उतार दी।

आज ज़िंदगी में पहली बार मैं एक तरह से खुले में नंगी हुई थी।

भाभी ने मुझे अपनी बाहों में ले लिया और हम दोनों लेट गईं।

पहले तो भाभी ने मुझे कस कर अपनी बाहों में भींच लिया, फिर मेरे गाल पे चूम के बोली- कभी फ्रेंच किस किया है?

‘वो क्या होता है?’ मैंने पूछा।

‘जैसे फिल्मों में हीरो हीरोइन करते हैं, एक दूसरे के होंठो से होंठ जोड़ कर…’ वो मेरे चूतड़ पे हाथ फेरते हुये बोली- तूने चड्डी नहीं पहनी?’ उन्होने एकदम से सवाल किया।

मैं शर्मा गई तो वो बोली- शर्माती क्यों है, चल सलवार भी उतार दे।

यह कह कर उन्होने मेरी सलवार का नाड़ा खींचा और एक मिनट में ही मेरी सलवार पैरों से खींच कर उतार दी।

मैं शर्म के मारे सिमट गई तो भाभी मुझे सीधा लेटा कर खुद मेरे ऊपर आ गई और मेरे चेहरे को अपने हाथों में पकड़ कर अपने होंठ मेरे होंठों से जोड़ दिये।

मेरे बदन में जैसे करंट लगा हो!

मैं चिहुंकी।

‘अरे अगर मेरे चुम्बन से यह हाल है तो जब तेरा यार तुझे चूसेगा तो क्या हाल होगा तेरा?’ डर मत आराम से कर, ये समझ तेरी सेक्स एजुकेशन की क्लास चल रही है।’ यह कह कर वो हंसी और फिर से मेरे होंठों से होंठ चिपका दिये।

मैंने भी उनका साथ देना शुरू किया।

पहले एक दूसरे के होंठ चूसती रहीं, फिर जीभ, फिर पूरा चेहरा।

उसके बाद भाभी मेरी गर्दन को चूमती हुई, गले से होती, मेरे स्तनों तक आ गई और मेरे बाएँ स्तन का निप्पल अपने मूँह में ले लिया।
मेरे बदन में तो जैसे बिजलियाँ दौड़ रही थी।

भाभी ने बड़े प्यार से मेरी चूची चूसी, कभी यह तो कभी वो, चूसते चूसते कई बार उन्होंने मेरे स्तनों पे काटा भी।
जब भी मुझे मज़ा आता मेरे मुख से सिसकारी निकल जाती।

भाभी बोली- तू तो मुझे कह रही थी, अब खुद सिसकारियाँ मार रही है?

मैं धीरे से मुस्कुरा दी।

पर मैं चाहती थी कि भाभी बातें न करे, सिर्फ मुझे ऐसे ही चूसती रहे।

मुझे इस सब में बहुत ही मज़ा आ रहा था।

फिर भाभी ने कहा- और मज़ा लेगी?

मैंने पूछा- इससे भी ज़्यादा मज़ा?

वो बोली- हाँ, ले देख…

यह कह कर उन्होने अपनी पेंटी भी उतार दी और मेरा हाथ पकड़ के अपनी चूत पे रखा और बोली- अब देख जैसे मैं करती हूँ, वैसे भी तू भी करना।

भाभी ने मेरी चूत के दाने पे अपनी बीच वाली उंगली रखी और धीरे धीरे उसे सहलाने लगी।

मैंने भी वैसा ही किया।

कुछ देर हमने ऐसा किया।

इस में मुझे मज़ा तो बहुत आ रहा था पर थोड़ी परेशानी भी हो रही थी।

भाभी बोली- ऐसे कर तू उल्टी तरफ को लेट जा, अपनी चूत मेरी तरफ कर!

जब मैं उनके कहे अनुसार लेटी तो यह काम बहुत आसान हो गया।

अब हम दोनों एक दूसरे की चूत सहला रहीं थी।

जैसे जैसे उन्माद बढ़ता गया, सहलाना मसलने में बदल गया।

फिर भाभी ने उंगली छोड़ कर अपना मूंह ही मेरी चूत से लगा दिया और जो काम वो उंगली से कर रही थी वो अपनी जीभ से करने लगी।

जब उनकी जीभ मेरी चूत में फिरी तो मैं अपने आप पे काबू न रख सकी, जैसे मुझपे कोई उन्माद सा छा रहा हो, मेरी आँखें बंद होने लगी और मैंने भी अपना मूंह उनकी चूत से सटा दिया।

भाभी की चूत का दाना काफी बड़ा था जिसे मैं खींच कर सारा ही अपने मुँह के अंदर ले गई।

भाभी ने खींच कर अपने ऊपर लेटा लिया।

अब भाभी नीचे से और मैं ऊपर से भाभी की चूत चाट रहीं थी।

मेरी हालत यह थी कि जैसे आज मैं मर जाऊँगी और मेरी जान मेरी चूत के रास्ते से बाहर निकलेगी।

चूसते चूसते भाभी ने एक उंगली मेरी चूत के अंदर डाल दी और जोर ज़ोर से अंदर बाहर करने लगी।

यह तो मेरे लिए और भी आनन्ददायक था।

मैंने भी एक एक करके अपनी चारों उँगलियाँ भाभी की चूत में डाल दी अंदर बाहर करने लगी।

भाभी नीचे लेटी बार बार अपनी कमर ऊपर को उचका रही थी, जैसे चाहती हो कि मैं अपना पूरा हाथ ही उनकी चूत में डाल दूँ।

मैंने कोशिश भी की पर मेरा पूरा हाथ उनके अंदर नहीं गया।

कितनी देर हम दोनों इसी तरह एक दूसरी को तड़पाती रही।

क्योंकि मैं इस खेल को पहली बार खेल रही थी सो मैं जल्दी आउट हो गई।

मैंने भाभी का चेहरा अपनी टांगों में भींच लिया और उनकी चूत पर तो दाँतों से काट ही खाया।

मुझे लगा जैसे मेरा सारे जिस्म में करंट लगने से जकड़न हो गई हो।

मैं रुक गई, पर भाभी नहीं रुकी।

थोड़ी देर बाद मैं कुछ संयत हुई तो भाभी के ऊपर से उतर गई।

भाभी बोली- बिन्नो, अपना तो करवा लिया, मेरा तो कर दे!

मैं भाभी की दोनों टाँगों के बीच में बैठ गई और फिर से अपना दायाँ हाथ भाभी की चूत में घुसा घुसा कर उन्हें उत्तेजित करने लगी।

भाभी तड़प रही थी और मैं यह देख के हैरान थी कि धीरे धीरे मेरा पतला सा हाथ सारा ही उनकी चूत में घुस गया था और उसके बावजूद भाभी बिना कोई दर्द महसूस किए मज़े से उछल रही थी।

आखिर भाभी भी स्खलित हो गई, उन्होंने मेरा हाथ अपनी जांघों में भींच लिया।

जब वो थोड़ी संभली तो मैं पूछा- भाभी आपको दर्द नहीं हुआ, मेरा पूरा हाथ आपके अंदर चला गया था।

वो बोली- अरे पगली यह वो दर्द है कि जितना होता है उतना मज़ा आता है, अभी तू कुँवारी है, जिस दिन तेरा बॉयफ्रेंड तुझे अपने ल्ंड से चोदेगा न, उस दिन पता चलेगा!

खैर वो दिन और आज का दिन, उस दिन से मैं भाभी की प्रेयसी बन गई।

जब भी मौका मिलता हम दोनों आपस में ऐसे ही करती।

मेरी शादी हुई, बच्चे हो गए, मगर हमारा ननद भाभी का प्यार आज भी कायम है।
alberto62lopez@yahoo.in

Check Also

जब मस्ती चढ़ती है तो…-1

Jab Masti Chadhti Hai to- Part 1 प्रेषिका : बरखा लेखक : राज कार्तिक मेरे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *