Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ

रोज नई नई गर्मागर्म सेक्सी कहानियाँ Only On Antervasna.Org

बदले की आग-4

Badle Ki Aag- Part 4

अब तक आपने मेरी इस कहानी  बदले की आग-3  में पढ़ा था कि मैं अपनी ननद को सेक्स के गंदे खेल में शामिल न करने की सोच रही थी.
अब आगे..

मैंने सोच लिया कि मैं इसको अपना बदला लेने के लिए इस्तेमाल नहीं करूँगी. मुझे इसकी माँ से बदला लेना है.

मगर फिर रात को बदले की आग ने मुझे फिर जलाना शुरू कर दिया. मैंने खुद से कहा कि तबस्सुम ने ठीक कहा था कि ज़्यादा भावुक ना बनो. इसके भाई ने ही मुझे आज यहाँ तक पहुँचा दिया है, जो मैं हर रोज़ नये नये लंडों से चुदती हूँ.

अगले दिन ऑफिस में आ कर मैंने अपने साथ नंगे नाच करने वाली लड़कियों से कहा कि इस लड़की को हमेशा गरम कर के रखा करो.
मेरे इशारा मिलते ही दो तीन लड़कियाँ उसके साथ हमेशा ही खुल कर नंगी बातें करती थीं और उसको बताया करती थीं कि चुदाई में कितना मज़ा आता है. फिर कोई चुदाई मुफ़्त में हो होती नहीं. पैसे भी मिलते हैं और चुत भी ठंडी हो जाती है. ये लड़कियां उसको अपने मोबाइल पर से उसको चुदाई वाले वीडियो भी दिखाती थीं. मेरे कहने से उन्होंने उसको नया मोबाइल भी दे दिया था यह कह कर कि यह हमारी तरफ से गिफ्ट है.

जब कि ये मोबाइल मैंने ही उस तक पहुँचाने के लिए दिया था. अब वो लड़कियाँ रोज़ नए नए चुदाई वाले वीडियो उस तक भेजा करती थीं.

जब उनको मौका मिलता तो वो उसको ऐसे वीडियो दिखाते हुए उसके मम्मों को दबाती भी थीं और उसकी चुत में भी हाथ मार देती थीं. फिर बोला करती थीं कि असली मज़ा तो तब मिलेगा, जब कोई लड़का तुम्हारे मम्मों को दबा दबा कर चूसेगा और अपना मूसल लंड तुम्हारी चुत में डालेगा.
अब वो एक दिन उन लड़कियों से पूछने लगी कि चुदाई में कितनी तकलीफ़ होगी और फिर कितने पैसे मिलेंगे?

इस पर उनमें से एक ने कहा- तेरी चुत तो अभी चुदी भी नहीं है, इसलिए अगर तू कहे तो तेरे लिए में कोई ऐसे लंड खोज देती हूँ, जो तुमको 20000 दे देगा मगर उसके साथ तुमको पूरी रात भर चुदाना पड़ेगा.. उसी के घर पर.. बोल अगर राज़ी है तो मैं कल ही उसको तुम्हारे लिए फिक्स करूँ. हां मगर चुत पहले तो पूरी तरह से फटेगी और दर्द भी होगा मगर यह सब एक दो दिन की बात ही होगी, उसके बाद तो चुत लपक लपक कर लंड को अपने मुँह में लिया करेगी और तुम गांड उछाल उछाल कर चुदा करोगी.

वो तो इन बातों से पूरी गरम हो चुकी थी. अब उसको लंड चाहिए ही था. उस लड़की ने उसको लंड दिलाने का भी वायदा कर दिया था.
चुदाई के साथ में 20000 भी मिलने वाले थे, इसलिए वो बोली- तुम परसों का फिक्स करना, मैं कल घर पर अपनी माँ को समझाऊंगी कि कोई खास काम है, जो रात में ही खत्म करना है, इसलिए मैं रात को नहीं आ पाऊंगी.

जब मुझे उस लड़की ने, जिसने उसको फिक्स करना था, मुझे बताया तो मैं बहुत खुश हुई और बोली- साली को अच्छी तरह से चुदवाना और लंड भी पूरा 7 इंच से कम नहीं होना चाहिए. उस लंड वाले को भी बोलना कि नई चुत है.. साली को दबा कर उसकी सील तोड़े और दमदार चुदाई हो. वो अगर चिल्लाई भी तो भी कोई रहम नहीं होना चाहिए. इतनी चुदाई हो कि सुबह तक इसकी टांगें पूरी लंगड़ा कर चलें. इसकी कम से कम 4 बार चुदाई होनी चाहिए और वो एक बार इसकी गांड भी मारे. और हां कल मैं तुम्हें अपना हैंडीकैम दे दूँगी.. तुम इसकी पूरी चुदाई की वीडियो जरूर बना लेना. उससे बोलना कि तुम उसी के साथ रहोगी ताकि तुम्हें वो यह ना समझे कि तुम उसको छोड़ कर चली गई हो. उसको पैसे चुदाई से पहले ही दिलवा देना ताकि चुदाई से पहले वो बहुत खुश हो जाए.

सब कुछ पक्का करके मैं घर वापिस आ गई. आज तबस्सुम का कहीं पूरी रात का प्रोग्राम था, इसलिए मैं घर पर अकेली ही थी. मगर मेरी आँखों से नींद गायब थी. मेरी अंतरात्मा मुझे कचोट रही थी कि पूनम अभी भी समय है उसको बचा ले, उस बेचारी ने तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़ा है, वो तो तुम्हें अपनी हमदर्द और बड़ी बहन की तरह से मानती है. उस पर यह जुल्म ना करवा कि वो फिर इज्जत से रहने लायक ना रहे.

इसी उधेड़बुन में पता नहीं, कब मुझे नींद आ गई. सुबह जब मैं ऑफिस जाने लगी, तब तक तबस्सुम वापिस नहीं आई थी. इसका मतलब था कि वो आज किसी के साथ कहीं बाहर चुदने गई है.

खैर मैं ऑफिस आज जल्दी ही पहुँच गई. थोड़ी देर बाद वो (मेरी ननद) भी आ गई. आज उसने बहुत ही सेक्सी कपड़े डाले हुए थे.
मैंने उससे पूछा- क्या बात है.. आज बड़ी बनी ठनी हो.. कोई प्रोग्राम है क्या?
मगर उसने बस मुस्करा कर सर नीचे कर लिया.

मेरे सवाल का जवाब मिला मुझे उस लड़की से, जो उसी समय आ गई थी.
उसने कहा कि मैडम आज इसको हनीमून मनाने के लिए फिक्स किया है. आज इसे भी पता लगेगा कि लड़की की चुत कितनी ताकत रखती है. आज से यह भी हमारी बिरादरी में शामिल हो जाएगी. कल सुबह जब यह आएगी तो कली नहीं होगी बल्कि फूल बन चुकी होगी.
मैंने कहा- ओके.. मेरी शुभकामनाएँ हैं हमारी बिरादारी में नये मेंबर के लिए.

मगर मैं बहुत बेचैन थी कि ये क्या होने जा रहा है. आख़िर मेरे दिल ने दिमाग पर कब्जा कर लिया और मैंने सोच ही लिया कि मैं इसे बर्बाद नहीं होने दूँगी. कुछ देर बाद मैंने उसको पास बुलाया और उसको समझाया कि तुम्हें मैं अपनी छोटी बहन समझते हुए बताती हूँ कि इन कामों से दूर रहो. पता नहीं मैं किस बहाव में बह कर तुमको यह सब बता रही थी. तुम्हारी जिंदगी पूरी तरह से खराब हो जाएगी और तुम किसी को मुँह दिखाने लायक नहीं बचोगी. तुम जितनी जल्दी हो कोई दूसरी नौकरी ढूँढ लो. यहाँ पर तुम एक ना एक दिन सूली पर चढ़ जाओगी, मेरा मतलब है कि तुमको चुदवा कंपनी के किसी काम से किस क्लाइंट से दिया जाएगा. यहाँ तुम अपनी माँ को नौकरी के लिए भेज दो, अगर वो करना चाहें तो.. क्योंकि उसकी उम्र बड़ी है और वो सुलझी हुई हैं. वो आराम से काम कर पाएंगी. मगर अभी उसको सिर्फ छह से सात हज़ार ही मिल पाएंगे. अगर तुम्हारा भाई भी काम करना चाहिये तो मैं उसे भी यहाँ पर लगवा दूँगी. तुम्हारे लिए मैं कोई दूसरी नौकरी ढूँढ दूँगी.

जब उसकी समझ में आया तो वो बोली- मुझे बचाने के लिए आपको भगवान ने ही भेजा है.. वरना मैं तो पूरी बहक गई थी. मेरे पास शब्द नहीं हैं, जिनसे मैं आपको धन्यवाद कर सकूँ. मुझे लगता है कि आप ज़रूर पिछले जन्म में मेरी बड़ी बहन रही होंगी. वरना आजकल कौन किसी के बारे में सोचता है.

मैंने उससे कहा- तुम अपनी माँ को कल भेज देना. उनसे बोलना कि वो अपने सभी सर्टिफिकेट साथ में लाएं.
वो बोली- मैडम मेरी माँ सिर्फ दस तक ही पढ़ी हुई हैं, मगर उनके पास इसका भी कोई सर्टिफिकेट नहीं है.
मैंने कुछ सोचने का दिखावा करते हुए कहा- अच्छा ठीक है.. तुम भेज देना.

अगले दिन उसकी माँ ऑफिस में आ गई. मैंने किसी और लड़की से उसका इंटरव्यू दिलवाया और उसे पूरी तरह से समझा दिया कि इसको नौकरी देनी है और नौकरी से पहले ही चुदवाना भी है. जिससे मैंने कहा था, वो खुद ही एक बड़ी चुदक्कड़ थी. वो बोली- आप चिंता ना करो मैडम जी. मैं सब संभाल लूँगी. मैं कई लड़कियों को लंड का चस्का लगवा कर इस रास्ते पर लाई हूँ, यह तो साली विधवा है, जिसे लंड की सख्त ज़रूरत है.

खैर अगले दिन उसका इंटरव्यू लेने वाली लड़की ने उसको बुलाकर अपने सामने कुछ देर तक बिठा कर रखा और बिना किसी से मिलवाए अपनी तरफ से ही फोन करती रही, जिससे उसे लगे कि वो किसी से बात कर रही है.

वो कुछ इस तरह की खुली बातें कर रही थी कि हां साली को चुदवाना है.. बोल दो ना कि ओवर टाइम करना है तो यही काम करना पड़ेगा वरना काम छोड़ दो.

उधर मेरी सास उसकी बातों को सुन कर कुछ हैरान से बैठी रही.

फिर उस लड़की ने किसी और को फोन मिला कर बोला- उसको बोलो जब अन्दर जाएगी तो पूरी नंगी हो कर जाए. उसको पैसे ही चूत और मम्मे देखने के ही मिलते हैं.

इस तरह की बातें करते हुए उसने मेरी सास से पूछा- आप देर तक काम कर सकती हैं?
उसने बिना सोचे ही कहा- हां, अगर आठ बजे तक मुझे घर जाने दिया जाए तो मैं कर सकती हूँ.
फिर जानबूझ कर उससे पूछा गया कि तुम्हारे पति क्या काम करते हैं.
वो बोली- जी उनका देहांत हो गया है.
कुछ अफ़सोस का दिखावा करती हुई लड़की बोली- ओह तब तो आप पर दुखों का पहाड़ ही आ पड़ा होगा.
सास ने कहा- जी हां.

फिर उससे कहा- आपकी उम्र आपने 45 साल लिखी है, यह सही है?
वो बोली- जी.. मेरी उम्र के हिसाब से जो भी काम हो सकता है, मैं कर लूँगी, कुछ भी काम हो.
लड़की- मगर आपको देख कर कोई नहीं कह सकता कि आप 35 साल से ऊपर की होंगी.
ये कहते हुए उसने उसे खुश किया और उससे फिर से पूछा- अगर आपको बुरा ना लगे तो मैं आपसे एक निजी सवाल पूछूँ. मगर आपको बुरा नहीं लगना चाहिए, अगर लगे तो गुस्सा ना होना. उसने कहा- जी पूछिए?
उसने कहा- मेरी एक चाची की लड़की है वो भी आपकी उम्र की ही है. वो तो मुझे खुल कर बोलती है कि मैं लंड के बिना नहीं रह सकती. क्या आप समझती हैं कि आपकी उम्र वाली औरतों की यही दशा होती है?

वो सुन कर बहुत घबरा गई और इधर उधर देखने लगी.
उससे फिर कहा गया कि देखो डरने की कोई बात नहीं है, अगर ना जवाब देना हो तो भी कोई बात नहीं. यह तो मैं सिर्फ अपनी जानकारी के लिए पूछ रही थी.
मेरी सास ने जवाब दिया कि आप ठीक कह रही हैं.. बहुत मुश्किल होती है. मगर क्या किया जाए.
फिर उसने कहा- खैर कोई बात नहीं.. मैं आपका पूरा ख्याल रखूँगी, जिस चीज़ से आप वंचित हैं वो भी आपको दिलवा दूँगी. अभी तो आप बहुत जवान लगती हैं, कोई नहीं कह सकता कि आप 35 साल से ऊपर की हैं. यह नौकरी तो मैं आपको ही दे दूँगी और अगर हो सका तो आपकी खुशियां भी, जो पति के साथ ही चली गई हैं.. उन्हें भी वापिस दिलवा दूँगी और साथ में एक्स्ट्रा पैसे भी मिलेंगे.

आप मेरी कहानी बदले की आग के लिए अपने ईमेल भेज सकते हैं.
pchoprap000@gmail.com
मेरी ये सच्ची चुदाई की कहानी जारी है.

Antervasna - Hindi Sex Stories | नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ © 2018